मानव सेवा ही प्रभु की सेवा है, सिकल सेल जागरूकता के लिए हर व्यक्ति, हर समुदाय का सहयोग जरूरी - राज्यपाल श्री मंगूभाई पटेल - revanchal times new

revanchal times new

निष्पक्ष एवं सत्य का प्रवर्तक

Breaking

Monday, June 19, 2023

मानव सेवा ही प्रभु की सेवा है, सिकल सेल जागरूकता के लिए हर व्यक्ति, हर समुदाय का सहयोग जरूरी - राज्यपाल श्री मंगूभाई पटेल

 




विश्व सिकलसेल दिवस पर आयोजित संगोष्ठी में हुए शामिल

 

मण्डला 19 जून 2023

                19 जून 2023 को विश्व सिकलसेल दिवस के अवसर पर मंडला के सेमरखापा के एकलव्य परिसर में संगोष्ठी एवं स्क्रीनिंग कैंप का आयोजन किया गया। इस आयोजन में महामहिम राज्यपाल म.प्र. शासन श्री मंगूभाई पटेल मुख्य अतिथि के रूप में शामिल हुए। राज्यपाल श्री पटेल ने संगोष्ठी को संबोधित करते हुए कहा कि सिकल सेल एनीमिया की जागरूकता महत्वपूर्ण काम है। हर व्यक्ति, हर समुदाय अपने स्तर पर कम से कम एक व्यक्ति को सिकल सेल एनीमिया बीमारी के प्रबंधन-इलाज के बारे में जागरूक करें और मानवता की सेवा में सहभागी बनें। राज्यपाल श्री पटेल ने कहा कि मानव सेवा ही प्रभु की सेवा है। इस नेक काम में हर कोई यथासंभव सहयोग ज़रूर करें। उन्होंने कहा कि केन्द्र सरकार द्वारा 2025 तक भारत को टीबी मुक्त एवं 2047 तक भारत को सिकल सेल एनीमिया मुक्त करने के लक्ष्य रखा गया है। इस लक्ष्य को पूरा करने के लिए हम सभी को आगे आना पड़ेगा और सरकार का सहयोग करना पड़ेगा।

                राज्यपाल मंगूभाई पटेल ने कहा कि सिकल सेल एनीमिया एक अनुवांशिक रोग है। इसके उन्मूलन के लिए हर परिवार में जाकर काउंसलिंग एवं स्क्रीनिंग करना होगा। साथ ही आंगनवाड़ी केंद्रों में गर्भवती महिलाओं की जाँच करते हुए उनके परिवार की बीमारी का इतिहास भी पता करना होगा। श्री पटेल ने हर आंगनवाड़ी केन्द्र, प्राथमिक, माध्यमिक, हायर सेकेंडरी स्कूल और कॉलेजों में जाकर बच्चों की भी लगातार सिकलसेल जाँच करने की बात कही। उन्होंने केन्द्र एवं राज्य सरकार द्वारा सिकलसेल एनीमिया के उन्मूलन के लिए चलाये जा रहे विभिन्न कार्यक्रमों एवं नीतिगत प्रावधानों की जानकारी भी दी। उन्होंने बताया कि केंद्र सरकार ने सिकलसेल एनीमिया के उन्मूलन के लिए बजट में 15 हज़ार करोड़ रुपये का प्रावधान किया है। इसी प्रकार मध्यप्रदेश शासन द्वारा भी सिकलसेल उन्मूलन जागरूकता और प्रबंधन के लिए राज्य हीमोग्लोबिनोपैथी मिशन स्थापना की गई एवं स्वास्थ्य विभाग के सहयोग से अन्य कार्यक्रम भी चलाए जा रहे हैं।

 

योग एवं खानपान का रखें विशेष ध्यान

 

                राज्यपाल मंगूभाई पटेल ने संगोष्ठी को संबोधित करते हुए कहा कि सिकलसेल एनीमिया से प्रभावित बच्चे नियमित रूप से योग एवं कसरत करें। इसी प्रकार घर के पौष्टिक खाने को महत्व दें तथा सात्विक खाना खाएं। उन्होंने सभी बच्चों को फास्टफूड एवं अन्य तैलीय आहार के सेवन से बचने की सलाह भी दी। श्री पटेल ने केन्द्र एवं राज्य सरकार द्वारा बेटियों एवं महिलाओं के सशक्तिकरण के लिए चलाई जा रही कल्याणकारी योजनाओं की जानकारी भी दी।

 

केन्द्रीय मंत्री एवं स्वास्थ्य मंत्री ने किया संबोधित

 

                केन्द्रीय इस्पात एवं ग्रामीण विकास राज्यमंत्री फग्गन सिंह कुलस्ते ने विश्व सिकलसेल दिवस के अवसर पर आयोजित संगोष्ठी को संबोधित करते हुए कहा कि स्वास्थ्य विभाग आईसीएमआर सहित अन्य तकनीकि संस्थाओं के साथ समन्वय करते हुए सिकलसेल की जांच में प्रगति लाएं। उन्हांेने आदिवासी क्षेत्रों में सिकलसेल की जांच के लिए सघन स्तर पर कार्यक्रम चलाने की बात कही। कार्यक्रम का स्वागत उद्बोधन स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री म.प्र. शासन डॉ. प्रभुराम चौधरी ने दिया। उन्होंने मध्यप्रदेश सरकार द्वारा सिकलसेल एनीमिया के उन्मूलन, स्क्रीनिंग एवं प्रबंधन के लिए किए जा रहे विभिन्न प्रयासों की विस्तार से जानकारी दी।

 

स्क्रीनिंग, जाँच एवं जागरूकता प्रदर्शनी का अवलोकन

 

                विश्व सिकलसेल दिवस के अवसर पर सेमरखापा परिसर में आयोजित संगोष्ठी एवं स्क्रीनिंग कार्यक्रम में स्वास्थ्य विभाग की ओर से स्क्रीनिंग, जांच एवं जागरूकता के लिए प्रदर्शनी भी लगाई गई। कार्यक्रम के मुख्य अतिथि राज्यपाल मंगूभाई पटेल ने प्रदर्शनी का अवलोकन किया। उन्होंने सिकलसेल की जांच के दौरान अपनाई जाने वाली प्रक्रिया की उपस्थित चिकित्सकों एवं स्टॉफ से जानकारी ली। इससे पूर्व कार्यक्रम का प्रारंभ दीप प्रज्ज्वलन एवं राष्ट्रगान के साथ हुआ। संगोष्ठी में विशेषज्ञों ने सिकलसेल एनीमिया रोग के लक्षण, बचाव तथा प्रबंधन के लिए निर्धारित प्रक्रिया एवं म.प्र. शासन द्वारा चलाए जाने वाले कार्यक्रमों की पीपीटी के माध्यम से जानकारी दी। म.प्र. सरकार द्वारा सिकलसेल के इलाज के लिए चलाए जाने वाले कार्यक्रमों से लाभान्वित होने वाली 2 बेटियों अर्चना मानिकपुरी एवं प्राची झारिया ने मंच से अपने अनुभव बताए तथा सरकार से मिलने वाले सहयोग के लिए आभार जताया।

 

ये रहे उपस्थित -

 

                इस अवसर पर विधायक मंडला देवसिंह सैयाम, विधायक निवास डॉ. अशोक मर्सकोले, जिला पंचायत अध्यक्ष संजय कुशराम सहित अन्य जनप्रतिनिधि, प्रमुख सचिव डीपी आहूजा, जनजातीय प्रकोष्ठ अध्यक्ष दीपक खांडेकर, आयुक्त स्वास्थ्य विभाग डॉ. सुदामा खाड़े, आयुक्त जबलपुर संभाग अभय वर्मा, आईजी बालाघाट संजय सिंह, डीआईजी बालाघाट मुकेश श्रीवास्तव, कलेक्टर डॉ. सलोनी सिडाना, एसपी रजत सकलेचा, राज्य एवं संभाग स्तर के वरिष्ठ अधिकारी, सिकलसेल से प्रभावित बच्चे एवं परिजन तथा संबंधित उपस्थित थे। कार्यक्रम का संचालन अखिलेश उपाध्याय तथा रानी रैकवार ने किया।

No comments:

Post a Comment