होलिका दहन के दिन की जाती है संकटमोचन हनुमान जी की पूजा, जानें पूजन विधि - revanchal times new

revanchal times new

निष्पक्ष एवं सत्य का प्रवर्तक

Breaking

🙏जय माता दी🙏 शुभारंभ शुभारंभ माँ नर्मदा की कृपा और बुजुर्गों के आशीर्वाद से माँ रेवा पब्लिकेशन एन्ड प्रिंटर्स का हुआ शुभारंभ समाचार पत्रों की प्रिंटिग हेतु संपर्क करें मोबाईल न- 0761- 4112552/07415685293, 09340553112,/ 9425852299/08770497044 पता:- 68/1 लक्ष्मीपुर विवेकानंद वार्ड मुस्कान प्लाजा के पीछे एम आर 4 रोड़ उखरी जबलपुर (म.प्र.)

Tuesday, March 7, 2023

होलिका दहन के दिन की जाती है संकटमोचन हनुमान जी की पूजा, जानें पूजन विधि



हिंदू धर्म में होली एक प्रमुख और खास त्योहार है. देशभर में इसे बड़ी धूमधाम के साथ मनाया जाता है. होली से एक दिन पहले होलिका दहन होता है जिसे छोटी होली भी कहते हैं. फाल्गुन माह की पूर्णिमा तिथि के दिन होलिका दहन किया जाता है और इस बार यह तिथि आज यानि 7 मार्च को है. यानि आज होलिका दहन किया जाएगा. इस दिन विशेष तौर पर पूजा-पाठ और भगवान की अराधना की जाती है. कहते हैं कि इस दिन विधि-विधान से पूजन करने से घर में आ रही सभी विपदाओं का नाश होता है. (Holika Dahan 2023 Puja Vidhi) इसके अलावा होलिका दहन के दिन संकटमोचन भगवान हनुमान का भी पूजन करने का विधान है. इस दिन हनुमान जी की विशेष रूप से पूजा होती है और मान्यता है कि होलिन दहन के दिन उनका पूजन करने से भक्तों को सभी कष्टों से मुक्ति मिलती है. आइए जानते हैं हनुमान जी की पूजा करने की सही विधि.
होलिका दहन के दिन ऐसे करें हनुमान जी की पूजाहोलिका दहन के दिन सुबह होली पूजी जाती है और फिर शाम को होलिका दहन होता है. इसी दौरान रात्रि में हनुमान जी की पूजा करने का विधान है. हनुमान जी की पूजा करने से पहले स्नान कर स्वच्छ वस्त्र पहनें.
फिर हनुमान मंदिर में जाएं और हनुमान जी को फूलों की माला चढ़ाएं. इसके बाद चमेली के तेल का दीपक जलाएं और वहीं बैठकर हनुमान चालीसा का पाठ करें. इससे हनुमाना जी प्रसन्न होते हैं.
सबसे खास बात है कि इस बार होलिका दहन मंगलवार के दिन पड़ रहा है और यह दिन विशेष तौर पर हनुमान जी को समर्पित है. ऐसे में शाम के समय हनुमान को चोला अर्पित करना शुभ माना जाता है. इससे व्यक्ति के जीवन में आ रहे सभी कष्ट दूर होते हैं.
धार्मिक मान्यताओं के अनुसार हनुमान जी को यदि पीले व लाल रंग के पुष्प अर्पित किए जाएं तो वह प्रसन्न होते हैं और अपने भक्तों के जीवन में आ रहे आर्थिक संकट दूर करते हैं.
हनुमान जी की पूजा के बाद आरती अवश्य पढ़ें. क्योंकि बिना आरती के कोई भी पूजा सम्पन्न नहीं मानी जाती. इसके बाद बूंदी का भोग लगाकर उसे प्रसाद के तौर में सबको बांट दें.

No comments:

Post a Comment