समाजिक कार्यकर्ता विपत्ति तथा दुखों से राहत दिलाने एवं उनके निवारण का प्रयत्न करते हैं।उपयुक्त सेवाओं की व्यवस्था करके और उन्हे परिचालित करके तथा समाजिक नियोजन में योगदान देकर व्यक्तियों ,परिवारों,समूहों एवं समाज की उनका दायित्व होता है। - revanchal times new

revanchal times new

निष्पक्ष एवं सत्य का प्रवर्तक

Breaking

🙏जय माता दी🙏 शुभारंभ शुभारंभ माँ नर्मदा की कृपा और बुजुर्गों के आशीर्वाद से माँ रेवा पब्लिकेशन एन्ड प्रिंटर्स का हुआ शुभारंभ समाचार पत्रों की प्रिंटिग हेतु संपर्क करें मोबाईल न- 0761- 4112552/07415685293, 09340553112,/ 9425852299/08770497044 पता:- 68/1 लक्ष्मीपुर विवेकानंद वार्ड मुस्कान प्लाजा के पीछे एम आर 4 रोड़ उखरी जबलपुर (म.प्र.)

Wednesday, January 4, 2023

समाजिक कार्यकर्ता विपत्ति तथा दुखों से राहत दिलाने एवं उनके निवारण का प्रयत्न करते हैं।उपयुक्त सेवाओं की व्यवस्था करके और उन्हे परिचालित करके तथा समाजिक नियोजन में योगदान देकर व्यक्तियों ,परिवारों,समूहों एवं समाज की उनका दायित्व होता है।



 रेवांचल टाईम्स - मण्डला/नैनपुर- गोंडवाना के जाने माने समाजिक युवा क्रांति के सजग भाई सुरेन्द्र सिंह सिरश्याम ने समय-समय पर समाज को एक नया संदेश दे देकर संगठनात्मक ढांचे में ढालने पर अग्रसर रहते हैं।सामाजिक कार्य परोपकारी तथा प्रजातांत्रिक आदर्शों से विकसित हुआ है और इसके नैतिक मूल्य सभी व्यक्तियों की समानता, महत्व एवं गरिमा के सम्मान पर आधारित है।एक दो वर्ष पहले से ही, सामाजिक कार्य व्यवसाय का बल मानव-आवश्यकताओं को पूरा करने और मानव-अंतःशक्ति का विकास करने पर रहा है। मानव अधिकार एवं सामाजिक न्याय सामाजिक कार्य-तंत्र के लिए प्रेरणा एवं औचित्य के रूप में कार्य करते हैं। वंचित व्यक्तियों की एकात्मता के लिए यह व्यवसाय उनके सामाजिक अंतर्वेश को बढ़ावा देने के क्रम में गरीबी उपशमन के तथा असुरक्षित एवं उत्पीड़ित व्यक्तियों की स्वतंत्रता के प्रयास करता है। सामाजिक कार्य व्यवसाय समाज में फैली बाधाओं, असमानता तथा अन्याय का पता लगाता है। इसका उद्देश्य व्यक्तियों की पूर्ण अंतःशक्ति का विकास करने, उनके जीवन को समृद्ध करने तथा बुराई को रोकने में उनकी सहायता करना है। व्यावसायिक सामाजिक कार्य का बल समस्या समाधान तथा परिवर्तन पर होता है। इस तरह सामाजिक कार्यकर्ता समाज में व्यक्तियों, परिवारों एवं समुदायों के जीवन में परिवर्तनकर्ता होते हैं। वे संकट, आपात स्थिति एवं प्रतिदिन की व्यक्तिगत और सामाजिक समस्याओं का समाधान करते हैं। सामाजिक कार्य में व्यक्तियों तथा उनके आस-पास के माहौल पर कल्याणकारी बल के साथ विभिन्न प्रकार के कौशल, तकनीकों और कार्यकलापों का प्रयोग निहित होता है, सामाजिक कार्यों में प्राथमिक व्यक्ति आधारित मनोवैज्ञानिक प्रक्रिया से लेकर सामाजिक नीति, नियोजन तथा विकास शामिल होते हैं। इन कार्यों में परामर्श, नैदानिक, सामाजिक कार्य, सामूहिक कार्य, सामाजिक शैक्षणिक कार्य एवं परिवार, उपचार एवं चिकित्सा के साथ-साथ समाज में सेवाएं और संसाधन प्राप्त करने में व्यक्तियों की सहायता करने के प्रयास निहित हैं। इन कार्यों में एजेंसी प्रशासन, सामुदायिक संगठन तथा सामाजिक नीति एवं आर्थिक विकास जैसे कार्यों को बढ़ावा देने के लिए सामाजिक और राजनीतिक कार्यों में रत होना भी शामिल है। सामाजिक कार्य का कल्याणकारी उद्देश्य सार्वभौमिक है, किंतु सामाजिक कार्य प्रैक्टिस की प्राथमिकताएं सांस्कृतिक, ऐतिहासिक तथा सामाजिक- आर्थिक स्थितियों के आधार पर अलग-अलग देशों में तथा समय-समय पर भिन्न होंगी।

No comments:

Post a Comment