जल संसाधन विभाग की तानाशाही जेसीबी से फसल चौपट कर बीचों-बीच खेत से खोद दी नहर... - revanchal times new

revanchal times new

निष्पक्ष एवं सत्य का प्रवर्तक

Breaking

🙏जय माता दी🙏 शुभारंभ शुभारंभ माँ नर्मदा की कृपा और बुजुर्गों के आशीर्वाद से माँ रेवा पब्लिकेशन एन्ड प्रिंटर्स का हुआ शुभारंभ समाचार पत्रों की प्रिंटिग हेतु संपर्क करें मोबाईल न- 0761- 4112552/07415685293, 09340553112,/ 9425852299/08770497044 पता:- 68/1 लक्ष्मीपुर विवेकानंद वार्ड मुस्कान प्लाजा के पीछे एम आर 4 रोड़ उखरी जबलपुर (म.प्र.)

Thursday, December 15, 2022

जल संसाधन विभाग की तानाशाही जेसीबी से फसल चौपट कर बीचों-बीच खेत से खोद दी नहर...




रेवांचल टाइम्स - आदिवासी बाहुल्य जिले में डिंडौरी में जहां नेताओं का संरक्षण और अधिकारी एक साथ हो वहां गरीबों पर दबंगता का प्रदर्शन कोई नई बात नहीं हैं। मामला ऐसा ही जिला डिंडौरी के जल संसाधन विभाग में पदस्थ इंजीनियर देशमुख एवं एसडीओ बिठले का है जिन्होंने दबंगता पूर्वक जनपद पंचायत अमरपुर के ग्राम पंचायत अमरपुर के किसान प्रेम लाल मरकाम के वर्षों पूर्व खेत किनारे से बने नहर को छोड़कर बिना लिखित सहमति के बीचों-बीच खेत से 5 मीटर चौड़ा लगभग 8 फीट ऊंचाई खेत में बोए फसल को चौपट करते हुए मनमानी पूर्वक मर्जी से जेसीबी लगाकर नहर खुदवा डालें जिससे कृषक का फसल को चौपट तो हुआ ही और ऊपर से एक बांध सहित पूरा खेत भर आड़े टेढ़े कर लगभग हजारों मीटर खुदवा डाली इसकी भनक जब परिजनों को लगी तब मौके पर जाकर देखें तो सिर पटक कर रोने लगे जो परिवार खेती मजदूरी पर निर्भर हैं। जिन की तीन बेटियां हैं मां लकवा ग्रस्त ग्रस्त हैं। जल संसाधन के एसडीओ विट्ठले से संपर्क कर जानकारी दी गई तो उन्होंने इंजीनियर देशमुख को मौके पर भेजने की बात कही इस दौरान 13 दिसंबर को कलेक्टर विकास मिश्रा अमरपुर पहुंचे जिन्हें कुछ किसानों ने जल संसाधन की शिकायत बताएं जिन की समस्याएं दूर करने के लिए इंजीनियर देशमुख को अमरपुर भेजा गया। जिसकी सूचना परिजनों को लगी तो मौके पर खेत में जाकर देखने और मनमानी से बीचों-बीच खेत को खोदने वा फसल चौपट की शिकायत मुख्यमंत्री व गृहमंत्री से करने कहीं गई तो इंजीनियर धमकी देते हुए कहा कि जहां जाना हैं। जाओ मेरे घर में दो दो सांसद हैं, कहने पर परिजन भड़क गए और कहने लगे कि सांसद विधायक मंत्री क्या गरीबों की खेती बाड़ी हड़पने और अधिकारियों को संरक्षण देने के लिए हैं। तभी तो शायद दबंगता पूर्वक पुराने नहर छोड़ फसल चौपट करते हुए कृषक के खसरा नंबर 377 पर मजदूरों की जगह जेसीबी से नई नहर खुदवा डाली जिसे लेकर परिजनों ने अब जांच कर कार्यवाही होने तक क्षेत्र में कोई कार्य न करने की हिदायत दी हैं शासन प्रशासन से अपेक्षा हैं कि जांचकर उचित कार्यवाही करते हुए मुआवजा की मांग की गई हैं।


विभाग के द्वारा हर कार्य में की जा रही है लीपापोती


इंजीनियर से लेकर एसडीओ तक जल संसाधन विभाग में जमकर भ्रष्टाचार मचाए हुए हैं जिले में जितने कार्य किए हैं उनसे सभी निर्माण कार्य में लीपा पोती की गई है चाहे वहां मुड़की जलाशय परियोजना शूटफॉल की बात करें या जिले में अन्य जगह कराए गए निर्माण कार्य की बात करें सभी निर्माण में लीपापोती की गई है जिसके कारण किसानों और आम लोगों को लाभ नहीं मिल पाता है आखिर जल संसाधन विभाग में कब तक चलता रहेगा भ्रष्टाचार यह तो अपने आप में एक अहम सवाल है।

No comments:

Post a Comment