आख़िर क्यों नही सिविल हॉस्पिटल नैनपुर में ध्यान नही देते है। क्षेत्र के सांसद और विधायक.. - revanchal times new

revanchal times new

निष्पक्ष एवं सत्य का प्रवर्तक

Breaking

🙏जय माता दी🙏 शुभारंभ शुभारंभ माँ नर्मदा की कृपा और बुजुर्गों के आशीर्वाद से माँ रेवा पब्लिकेशन एन्ड प्रिंटर्स का हुआ शुभारंभ समाचार पत्रों की प्रिंटिग हेतु संपर्क करें मोबाईल न- 0761- 4112552/07415685293, 09340553112,/ 9425852299/08770497044 पता:- 68/1 लक्ष्मीपुर विवेकानंद वार्ड मुस्कान प्लाजा के पीछे एम आर 4 रोड़ उखरी जबलपुर (म.प्र.)

Thursday, October 6, 2022

आख़िर क्यों नही सिविल हॉस्पिटल नैनपुर में ध्यान नही देते है। क्षेत्र के सांसद और विधायक..



रेवांचल टाईम्स - आदिवासी बाहुल्य जिले में इलाज के नाम पर सरकारी अस्पतालों में लाखों करोड़ों सरकार दे रही पर इन पैसों में जिम्मदारो के द्वारा खुलकर भ्रष्टाचार किया जा रहा है। जिले के स्वास्थ्य विभाग में न डॉ है और नही दवाइयां जब लोग इन हॉस्पिटल में उम्मीद के साथ आते है और जब इन्हें समय मे ईलाज मिलता है तो गुस्सैल रवैया में कुछ भी कर रहे है वही ईलाज नही मिलने के कारण मरीज के पति ने हॉस्पिटल का कांच 


सिविल अस्पताल नैनपुर का विवाद पीछा नही छोड़ रहा है। वही डॉक्टर की कमी स्टाफ की कमी जनता और स्टाफ में सामंजस्य का अभाव हर दिन विवाद का कारण बन रहा है हॉस्पिटल विभाग अपने अपने तर्क वितर्क है। मगर सरकार जिला प्रशासन को इस सिविल अस्पताल नैनपुर को रिफर सेंटर बना दिया है। अस्पताल में हर दिन बड़ी घटना होगी रहती है। आज सुबह फिर एक पति को सास उखड़ती अपनी पत्नि के लिए इलाज और ऑक्सीजन नही मिलने और तो और डॉक्टर गार्ड,वार्ड बाय,स्टाफ भी नहीं होने से  पति भड़क गया क्योंकि उसका भड़का ना जायज है। मगर सिविल हॉस्पिटल नैनपुर में कोई मर जाये उसमें हॉस्पिटल के स्टॉफ को क्या करना है। ज्यादा विवाद हुआ तो नैनपुर पुलिस थाना है। मगर समय के साथ जनता का सब्र का बांध टूटता नजर आ रहा है। जिसके कारण आज जीती जागती घटना हुई। 


मरीज का पति बुलाता रहा मगर नही आया कोई भी अस्पताल का कर्मचारी

      आज एक परिवार ने अपनी पत्नी को हॉस्पिटल में ईलाज के लिये लाया मगर पीड़ित की पत्नी की सांस अधिक फूलने के कारण वह चल नहीं सक रही थी।एक स्टॉफ नर्स ने कहा कि ऊपर वार्ड में लेकर आयो जिसमें पीड़ित अपनी पत्नी को सीढ़ी चला के ले गया पत्नी की सांस अधिक तेज चलने कारण तकलीफ हुई बड़ी मुश्किल से इलाज चालू हुआ ।उसके बाद पीड़ित पति के सब्र का बांध फुट गया और गुस्से में उसने कार्यलय कांच फोड़ डाला जिस से खुद भी चोटिल हो गया उसके बाद हो हल्ला हुआ और हॉस्पिटल स्टाफ आया और इलाज हुआ पत्नि का इलाज कराने आए भाई बहन दोनों स्टाफ पर सोने का आरोप लगा रहे है। जिस से ये हालत निर्मित हुए हम भाई बहन की जुबानी आप को सुना रहे है। हॉस्पिटल प्रशासन का अपना तर्क है।दिया और विवाद का कारण पूरा पीड़ित के पति पर ही पूरा आरोप मड़ दिया गया वही ईलाज नही मिलने के कारण परिजन स्टाफ से उलझ जाते है। जिला प्रशासन को इस दिशा में कार्य करने की जरूरत है। सिविल अस्पताल नैनपुर लाया जाता है। मरीज को ऊपर वार्ड में ले जाया जाता है। जब तक मरीज के साथ घटना घट जाती है। व्यवस्था यदि पटरी पर नही आई  विवाद आगे भी होंगे ।

No comments:

Post a Comment