विकासखण्ड शिक्षा अधिकारी मालवीय से न्यायालय करेगा वसूली शैलेन्द्र मालवीय के खिलाफ न्यायालय में पहले से मामला कायम... - revanchal times new

revanchal times new

निष्पक्ष एवं सत्य का प्रवर्तक

Breaking

🙏जय माता दी🙏 शुभारंभ शुभारंभ माँ नर्मदा की कृपा और बुजुर्गों के आशीर्वाद से माँ रेवा पब्लिकेशन एन्ड प्रिंटर्स का हुआ शुभारंभ समाचार पत्रों की प्रिंटिग हेतु संपर्क करें मोबाईल न- 0761- 4112552/07415685293, 09340553112,/ 9425852299/08770497044 पता:- 68/1 लक्ष्मीपुर विवेकानंद वार्ड मुस्कान प्लाजा के पीछे एम आर 4 रोड़ उखरी जबलपुर (म.प्र.)

Monday, September 12, 2022

विकासखण्ड शिक्षा अधिकारी मालवीय से न्यायालय करेगा वसूली शैलेन्द्र मालवीय के खिलाफ न्यायालय में पहले से मामला कायम...





रेवांचल टाईम्स - आदिवासी बाहुल्य मण्डला जिले में शिक्षा के मंदिर के रखवालों को गुरु का दर्जा दिया जाता है और शिक्षकों का नमन कर सम्मानित किया गया। वहीं विकासखण्ड शिक्षा अधिकारी मण्डला शैलेन्द्र मालवीय जो शिक्षा के मंदिरों के संचालन की जिम्मेदारी निभा रहे हैं आज अपराधिक मामलों में न्यायालय द्वारा उन्हें कानूनी नोटिस,समंग वारंट जैसे कानूनी हथकंडे से उनकी और उनके परिवार की पुलिस नित्य तलाश कर रही है।शिक्षा विभाग के अधिकारी द्वारा किया गया यह कृत्य शिक्षा के पवित्रता के लिए शर्मशार है।

         वही जानकारी के अनुसार कुटुम्ब न्यायालय डिण्डोरी द्वारा पुलिस अधीक्षक मण्डला के हमराह में थाना महाराजपुर द्वारा हर्ष मालवीय,शैलेन्द्र मालवीय, संध्या मालवीय के खिलाफ समंग एवं गिरफ्तारी वारंट तामील की जा चुकी है और दिनांक 13/09/2022 को न्यायालय द्वारा उक्त दोषियों को न्यायालय पेशी के दौरान अभियुक्त के अनुसार वसूली की जावेगी।पूर्व में भी पुलिस द्वारा न्यायालय पेशी को लेकर उक्त प्रतिवादीयों की थाना द्वारा तलाश की जा रही थी, परन्तु पुलिस को चकमा देकर घर के मुख्य द्वार में ताला लगाकर पीछे से घर में प्रवेश कर पुलिस को चकमा दे रहे थे जिसके कारण थाना महाराजपुर में न्यायालय आदेश के अव्हेलना करने के अपराध में मामला कायम किया जा चुका है।

अधिकारियों के संरक्षण में शिक्षा का स्तर निम्न हो रहा

      वही जिले की शिक्षा व्यवस्था चरमराने एवं नुमाइंदों के हौंसले बुलंद करने में आला-अधिकारी अपनी भूमिका निभा रहे हैं।जहां शिक्षा विभाग में चल रहे अटैच, अनुपस्थिति,अनियमितता, लापरवाही, विद्यालयों में राजनीतिक जमघट को लेकर अनेकों दफा सहायक आयुक्त आदिवासी विकास विभाग विजय तेकाम से मामलों को लेकर सच से रूबरू कराया जाता है,परन्तु उनके द्वारा शासकीय कार्यों का हवाला देकर मीडिया को सच्चाई बताने से छुपते नजर आए। विकासखण्ड शिक्षा अधिकारी शैलेन्द्र मालवीय द्वारा किए गए शिक्षकों के अटैच प्रक्रिया को लेकर जवाब मांगी गई तो सहायक आयुक्त तेकाम द्वारा अटैच से संबंधित स्वयं को कोई जानकारी नहीं होने की बात कहकर यह स्पष्ट किया कि जिले की शिक्षा व्यवस्था की दयनीय स्थिति में उनकी अहम भूमिका है और जान बूझकर अपने नुमाइंदों को बचाने को लेकर गोलमोल जवाब देकर सच्चाई से मुंह फेर रहे हैं। शासकीय कन्या शाला पडाव में पदस्थ शैलेन्द्र मालवीय अभी वर्तमान में बीईओ के पदभार संभाल रहे हैं वहीं कन्या शाला पडाव में पदस्थ सोनवानी शिक्षिका को प्राचार्य का प्रभार सौपा जाना था परन्तु बीईओ मालवीय द्वारा एक तीर से दो निशाने की तर्ज पर शासन की नियमों की अव्हेलना किया जा रहा है और ऐंसा तब तक संभव नहीं हो सकता जब तक कि वरिष्ठ अधिकारी को मामले की जानकारी नहीं होवे। वहीं विकासखण्ड शिक्षा अधिकारी मण्डला शैलेन्द्र मालवीय के खिलाफ एफआईआर के तहत 498-ए 34,3/4 के तहत न्यायालीन विवेचना हेतु मामले कायम है, न्यायालय,कचहरी पुलिस एवं वादी के द्वारा आये दिन समंग वारंट तामील की जा रही है जो अभी सुर्खियों में है। वहीं ज्वाला जी वार्ड मेघा मालवीय के द्वारा भरण-पोषण व्यय एवं प्रताड़ना को लेकर दोषी ठहराया जा रहा है,बावजूद इसके संबंधित के खिलाफ विभागीय जांच और चुप्पी साधने का मुख्य कारण है आला-अधिकारियों की मिलीभगत तथा अपराध और अपराधी को जिम्मेदारों द्वारा संरक्षण देना।

बीईओ की क्रमोन्नति एवं संविलियन बना जांच का विषय

विकासखण्ड शिक्षा अधिकारी शैलेन्द्र मालवीय की नियुक्ति को लेकर जहां कार्यालय जिला शिक्षा अधिकारी द्वारा पत्र क्रमांक/शिकायत/2022/3204 मण्डला दिनांक 02/09/2022 के कोई जानकारी नहीं होना बताया गया,वहीं कार्यालय जिला शिक्षा अधिकारी जिला मण्डला के आदेश क्रमांक/स्थापना/2017/7589/मण्डला दिनांक-13-11-2017 मध्यप्रदेश शासन वित्त विभाग के आदेश क्रमांक/355/383/84/नि-1/चार दिनांक -21-02-1984 क्रमांक -2012/1270/84/नि-1/चार, दिनांक-10 दिसम्बर 1984 तथा मध्यप्रदेश शासन सामान्य प्रशासन, विभाग एफ-1-1/वेआप्र/99/भोपाल दिनांक 23 सितम्बर 2002 के अनुक्रम में विभागीय पदोन्नति-क्रमोन्नोति समिति की अनुशंसा के आधार पर शिक्षा विभाग के निम्न लोक सेवकों के नाम के आधार तहत ग्रेड पे द्वितीय क्रमोन्नति की पात्रता शिक्षा विभाग द्वारा प्रदान किया गया है,इस तरह जहां शिक्षा विभाग द्वारा नियुक्ति को लेकर कोई जानकारी नहीं होना एवं शिक्षा विभाग द्वारा वित्त विभाग के ग्रेड पे लागू करना उनकी नियुक्ति में फर्जीवाड़ा की पुष्टि है।इसके पूर्व में श्री मालवीय शासकीय रानी अवंतीबाई हाईस्कूल मण्डला में पदस्थ थे बाद शासकीय कन्या शाला पडाव प्राचार्य का पद सौंपा गया और वर्तमान विकासखण्ड शिक्षा अधिकारी का पद भी शंका के दायरे में है। प्रमुख सचिव एजुकेशन एवं ट्रायबल विभाग द्वारा नियुक्ति को लेकर जांच की मांग की गई है,जिसको लेकर संबंधित विभाग द्वारा पत्र जारी कर जांच दल में शिकायतकर्ता को शामिल किया गया है।

No comments:

Post a Comment