सेब खाते वक्त भूलकर भी न करें ये गलती, वरना पड़ जाएंगे लेने के देने - revanchal times new

revanchal times new

निष्पक्ष एवं सत्य का प्रवर्तक

Breaking

🙏जय माता दी🙏 शुभारंभ शुभारंभ माँ नर्मदा की कृपा और बुजुर्गों के आशीर्वाद से माँ रेवा पब्लिकेशन एन्ड प्रिंटर्स का हुआ शुभारंभ समाचार पत्रों की प्रिंटिग हेतु संपर्क करें मोबाईल न- 0761- 4112552/07415685293, 09340553112,/ 9425852299/08770497044 पता:- 68/1 लक्ष्मीपुर विवेकानंद वार्ड मुस्कान प्लाजा के पीछे एम आर 4 रोड़ उखरी जबलपुर (म.प्र.)

Monday, September 19, 2022

सेब खाते वक्त भूलकर भी न करें ये गलती, वरना पड़ जाएंगे लेने के देने




रेवांचल टाइम्स:सेब खाना हर किसी को पसंद होता है. क्योंकि ये न सिर्फ स्वाट में अच्छा लगता है बल्कि सेहत के लिए भी इसका सेवन बहुत अच्छा होता है. इसीलिए डॉक्टर्स भी हमेशा कहते हैं कि अगर आपको बीमारी से दूर रहना है तो हर रोज एक सेब खाना चाहिए. सेब हमारी सेहत के लिए काफी गुणकारी फल माना जाता है. बीमारियों से दूर रखने के लिए रोजाना एक सेब खाने की सलाह दी जाती है. हालांकि आप जानकर चौंक जाएंगे कि सेब जितना गुणकारी है, उतना ही जानलेवा भी है.

सेब का बीच होता है बेहद खतरनाक

ये बात सुनकर यकीनन आप हैरान होंगे लेकिन ये बात बिल्कुल ठीक है कि सेब सेहत के लिए जितना ज्यादा फायदेमंद होता है. इसका बीज उतना ही ज्यादा हानिकारक भी. दरअसल, सेब का बीज इतना खतरनाक होता है कि इससे इंसान की जान भी जा सकती है. डॉक्टर्स कहते हैं कि से ब के बीज में अमिगडलिन नामक तत्व पाया जाता है. यह इंसान के पेट में जाकर उसके पाचन संबंधी एंजाइम से संपर्क करता है और सायनाइड नामक जहर रिलीज करता है.

अमिगडलिन में सायनाइड तथा चीनी पाया जाता है. जब हम सेब के बीज को निगल लेते हैं, तो इसमें मौजूद अमिगडलिन हाईड्रोजन सायनाइड में बदल जाता है. डॉक्टर्स के मुताबिक, इस सायनाइड से हम ना सिर्फ बीमार पड़ सकते हैं, बल्कि इससे हमारी मौत भी हो सकती है. बता दें कि सायनायड दुनिया का सबसे खतरनाक जहर है. हमारे शरीर में मौजूद ऑक्सीजन सप्लाई को सायनायड रोक देता है. कई औऱ फलों के बीजों में भी सायनायड पाया जाता है.

सेब के अलावा खुबानी, चेरी, आलूबुखारा, आड़ू जैसे फलों में भी सायनायड पाया जाता है. इन फलों के ऊपर कोडिंग होती है तथा इसके अंदर अमिगडलिन तत्व बंद होता है. इसलिए इन फलों को खाने के दौरान आपको काफी सावधानी बरतनी चाहिए.

No comments:

Post a Comment