नाबालिक का गर्भपात कराने वाले आरोपी को 10 वर्ष का सश्रम करावास - revanchal times new

revanchal times new

निष्पक्ष एवं सत्य का प्रवर्तक

Breaking

🙏जय माता दी🙏 शुभारंभ शुभारंभ माँ नर्मदा की कृपा और बुजुर्गों के आशीर्वाद से माँ रेवा पब्लिकेशन एन्ड प्रिंटर्स का हुआ शुभारंभ समाचार पत्रों की प्रिंटिग हेतु संपर्क करें मोबाईल न- 0761- 4112552/07415685293, 09340553112,/ 9425852299/08770497044 पता:- 68/1 लक्ष्मीपुर विवेकानंद वार्ड मुस्कान प्लाजा के पीछे एम आर 4 रोड़ उखरी जबलपुर (म.प्र.)

Friday, September 30, 2022

नाबालिक का गर्भपात कराने वाले आरोपी को 10 वर्ष का सश्रम करावास




रेवांचल टाईम्स - मंडला माननीय न्यायालय विशेष न्यायाधीश (पॉक्सो एक्ट) मण्डला द्वारा आरोपी वीरेन्द्र सोनवानी पिता बुद्धदास उम्र 39 वर्ष निवासी बनियातारा हाल घुघरी थाना घुघरी जिला मण्डला एवं कलावती पति वीरेन्द्र सोनवानी उम्र 38 साल निवासी बनियातारा हाल घुघरी थाना घुघरी जिला मण्डला को धारा 5(एल) / 6 पॉक्सो एक्ट के अंतर्गत दोषी पाते हुये दोनों को 10-10 वर्ष का सश्रम कारावास व 2000-2000 रू का अर्थदण्ड एवं धारा 313 भा.द.वि में 5-5 वर्ष का कारावास व 2000-2000/- रू के अर्थदण्ड से दण्डित किया गया है।


प्रकरण के संबंध में बताया गया है कि दिनांक- 08.04.2019 को 17 वर्षीय अभियोक्त्री द्वारा थाना घुघरी में इस आशय की रिपोर्ट दर्ज करायी गयी कि वर्ष 2016 में दिनाक 25.04.2016 को समय करीब 12.00 बजे जब वह स्कूल से रिजल्ट देखकर वापस आ रही थी तो वापस आते समय विधि विवादित किशोर उसे मिला और उसे अपने कमरे में ले जाकर पानी में कुछ मिलाकर उसे दिया जिससे वह बेहोश हो गई और इसके बाद विधि विवादित किशोर ने उसके साथ जबरजस्ती गलत काम ( बलात्कार) किया। विधि विवादित किशोर द्वारा अभियोक्त्री को बदनाम करने व जान से मारने की धमकी दी गई थी जिसके कारण अभियोक्त्री ने यह घटना किसी को नहीं बताई। बाद में भी विधि विवादित किशोर द्वारा अभियोक्त्री को शादी का प्रलोभन देकर कई बाद चर्च में ले जाकर गलत काम (बलात्कार) किया गया जिसकी जानकारी अभियुक्त वीरन्द्र सोनवानी व उसकी पत्नि कलावती को भी थी। दिसंबर 2018 में अभियोक्त्री गर्भवती हो गई तब विधि विवादित किशोर, वीरेन्द्र व उसकी पत्नि कलावती ने अभियोक्त्री को गर्भपात की गोली खिला दी थी जिससे उसका गर्भपात हो गया था। इसके बाद अभियोक्त्री ने पूरी घटना अपनी मां और मौसी को बताई थी अभियोक्त्री की रिपोर्ट के आधार पर विधि विवादित किशोर एवं अभियुक्त वीरेन्द्र तथा कलावती के विरुद्ध अपराध क्रमांक 28 / 19 अंतर्गत धारा 376 (2) (एन),313,109,506 भा.द.वि. एवं 5एल / 6, 5जे (ii) पॉक्सो एक्ट का अपराध पंजीबद्ध कर प्रकरण विवेचना में लिया गया। संपूर्ण विवेचना उपरांत अभियोग पत्र तैयार कर विशेष न्यायालय पॉक्सो एक्ट के न्यायालय में प्रस्तुत किया गया। जिसके बाद विधि विवादित किशोर द्वारा धारा 9 नियम 3 किशोर न्याय अधिनियम के अंतर्गत आवेदन प्रस्तुत किया गया जिस पर घटना दिनांक को विधि विवादित किशोर को 18 वर्ष से कम पाये जाने पर उसके मामले को बाल न्यायालय में अंतरित कर दिया गया है जिसका विचारण बाल न्यायालय द्वारा किया जावेगा एवं अभियुक्त वीरेन्द्र सोनवानी व उसकी पत्नि कलावती का विचारण भा.द.वि. की धारा 376 (2) (एन). 313,109 एवं पॉक्सो एक्ट की धारा 16 एवं 17 के अंतर्गत आरोप विरचित कर विचारण किया गया।


जिस पर विचारण के दौरान अभियोजन पक्ष की ओर से प्रस्तुत साक्ष्य का मूल्यांकन कर एवं प्रस्तुत किये गये तर्क से सहमत होते हुये माननीय न्यायालय विशेष न्यायाधीश (पॉक्सो एक्ट) मण्डला द्वारा आरोपीगण को उक्त दण्ड से दण्डित किया गया। प्रकरण में शासन की ओर से पैरवी वरिष्ठ सहा. जिला अभियोजन अधिकारी प्रतिभा तारन के द्वारा की गई है।

No comments:

Post a Comment