एक एकड़ से ज्यादा दायरे में फैला एक वटवृक्ष नाम ही है वटे्श्वर धाम... - revanchal times new

revanchal times new

निष्पक्ष एवं सत्य का प्रवर्तक

Breaking

रेवांचल टाइम्स अखबार पाठकों से अनुरोध करता है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें.. ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें... साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए.. प्रकाशन हेतु ख़बरें, विज्ञप्ति मोबाइल- 9406771592 पर व्हाट्सएप्प करें

Thursday, August 4, 2022

एक एकड़ से ज्यादा दायरे में फैला एक वटवृक्ष नाम ही है वटे्श्वर धाम...




रेवांचल टाईम्स - बरेला समिप वटे्श्वर धाम पिपरिया में एक एकड़ से ज्यादा दायरे में एक वटवृक्ष फैला हुआ है जिससे लगभग 11 वररोह निकलीं हुई है जो की अपने आप में एक विशालकाय वृक्ष का रूप धारण किये हुए हैं वट वृक्ष के नीचे अद्वितीय स्वारूप में संकट मोचन हनुमान जी विराजमान हैं जो माता सीता द्वारा भेजी निशानी चूड़ामणि बाएं हाथ में दाहिने हाथ में गदा धारण किए दाहिने पैर में शनि देव को दवाये मनमोहक स्वारूप मान्यता है दर्शन मात्र से कष्टों का निवारण होता है परिसर में मां जगत जननी की नौ वाहनों के साथ हरदोल बाबा भैरों बाबा  स्थान को मनमोहक दृश्य प्रदान करता है वटे्श्वर धाम में बर्षो पुराना पीपल वृक्ष एवं पीपल के नीचे बड़ी खेरमाई माता जी , शनिदेव विराजमान हैं परिसर में बाल योग समिति द्वारा  पैधो से लिखा जय श्री राम अनेकों औषधीय पौधे , छोटे - छोटे गार्डन , यज्ञशाला, एवं परिसर में योगगुरु शिवराम राहुल साहू जी द्वारा निशुल्क योग शिक्षा , वटे्श्वर धाम पुजारी पंडित विजय पांडे जी, रानू तिवारी जी,विवेक तिवारी जी , राकेश सोनी जी, शिवराम साहू, मणिराम, गोपाल,सूरज यादव,पंजी यादव,मुन्ना,अजय, ललित, धनश्याम,सुख दयाल, सुभाष, मुकेश, विरेन्द्र सभी गांव के युवा साथीयों का सहयोग निरंतर रहता है यही कारण है कि वटे्श्वर धाम समिति समाज हितों को ध्यान में रखते हुए पिछले सात बर्ष 200 पौधों का रोपण प्रत्येक वर्ष किया करती है खासबात यह है कि पिछले बरसों में रोपित पौधे आज भी 90% सुरक्षित है

No comments:

Post a Comment