सट्टा और गांजा का नारायणगंज में हो रहा अवैध कारोबार, पुलिस प्रशासन की नाक के नीचे हो रहा यह खेल... - revanchal times new

revanchal times new

निष्पक्ष एवं सत्य का प्रवर्तक

Breaking

रेवांचल टाइम्स अखबार पाठकों से अनुरोध करता है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें.. ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें... साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए.. प्रकाशन हेतु ख़बरें, विज्ञप्ति मोबाइल- 9406771592 पर व्हाट्सएप्प करें

Monday, August 1, 2022

सट्टा और गांजा का नारायणगंज में हो रहा अवैध कारोबार, पुलिस प्रशासन की नाक के नीचे हो रहा यह खेल...

 सट्टा और गांजा का नारायणगंज में हो रहा अवैध कारोबार, पुलिस प्रशासन की नाक के नीचे हो रहा यह खेल...



रेवांचल टाईम्स - मंडला जिले के टिकारिया थाना क्षेत्र अंतर्गत इन दिनों सट्टा, जुआ,और गांजा का अवैध कारोबार काफी फल-फूल रहा है सट्टा और गांजा  के कारोबारियों ने अपने गांजा और सट्टा के कारोबार को इस तरह से बढ़ाया है कि लोग देखते ही रह जाते हैं आपको बता दें नारायणगंज क्षेत्र में गांजा का अवैध कारोबार काफी तेजी से फल-फूल रहा है और युवा पीढ़ी भी गांजे की गिरफ्त में आ गई है जगह-जगह गांजा आसानी से मिल जाता है परंतु सोचने वाली बात यह है कि यह सब खेल टिकरिया थाने से महज चार पांच किलोमीटर के अंदर होता है किंतु पुलिस प्रशासन पूरी तरीके से सुस्त दिखाई देती है या कहें पुलिस प्रशासन और गांजा कारोबारियों का मिलाजुला काम है इसलिए पुलिस प्रशासन इस पर किसी भी प्रकार की कोई कार्यवाही नहीं कर रहा है


जगह-जगह बिक रहा है गांजा


नारायणगंज मुख्यालय पर जगह-जगह गांजा बेचा जा रहा है गांजा बेचने वाले लोगों के हौसले भी काफी बुलंद है वह लोगों से साफ कहते हुए सुने जाते हैं कि हमारी पुलिस प्रशासन पर पूरी तरह से सेटिंग है आप पुलिस प्रशासन को हमारी शिकायत भी करोगे तो हमारा कुछ नहीं होने वाला इतना सुनकर लोगों के होश उड़ जाते हैं कि लोगों की सुरक्षा और अवैध कार्य करने वाले लोगों के लिए बनाई गई पुलिस जब स्वयं इन कामों पर लिप्त होगी तो पुलिस प्रशासन का रहने का क्या मतलब टिकरिया थाना से लगभग 3 किलोमीटर की दूरी पर मेली चौराहा में एक ढाबे पर सरेआम गांजा बिकता है किंतु पुलिस प्रशासन ने आज तक उस ढाबे पर किसी भी प्रकार की कोई दबिश दी ना जांच की ढाबा नाम मात्र का है और अवैध कारोबार उस ढाबा से संचालित होता है उसी प्रकार से टिकरिया थाना क्षेत्र के अंतर्गत और भी जगह गांजा बेचा   जाता है जिससे युवा पीढ़ी गांजे की गिरफ्त में आ रही है और लोगों का जीवन भी बर्बाद कर रही है


सट्टा का नारायणगंज  क्षेत्र में बढ़ता अवैध कारोबार


नारायणगंज क्षेत्र चारों तरफ सट्टे कारोबारियों ने अपना नेटवर्क काफी बढ़ाया हुआ है सट्टे का कारोबार करने वाले सटोरिए ने नारायणगंज क्षेत्र के आसपास अपने सट्टा लिखने वाले चेलों को तैयार कर रखा है जो चाय पानी के टपरो पर बैठकर मोबाइल के माध्यम से सट्टा लिखते हैं और अपने सरगना को भेजते हैं जब इस विषय पर उन छोटे छोटे लड़कों से यह पूछा जाता है कि आप यह काम क्यों कर रहे हो तो वह सीधे बोलते हैं कि हमारे बॉस ने यह बोला है कि सट्टा लिखते समय अगर हम पकड़े भी गए तो हमारा क्या होगा हमारी जमानत हो जाएगी जुर्म शुरू कर रहे हम इस प्रकार के शब्दों से जब सुनने को मिलते हैं तो यह लगता है कि पुलिस प्रशासन का सट्टा  कारोबारियों पर किसी भी प्रकार का खौफ नहीं है इससे यही बात साफ नजर आती है कि पुलिस प्रशासन और सट्टा कारोबारी एक है इसलिए तो खुलेआम सट्टे का व्यापार चल रहा है और पुलिस प्रशासन देख रही है सट्टा और जुआ के चलते आज से लगभग सात आठ माह पहले पटेहरा के बेनीलाल  सिंगरौरे की मृत्यु हो गई किंतु उस आत्महत्या से भी पुलिस ने सीख नहीं ली और आज भी सट्टे का कारोबार उसी तरीके से फल-फूल रहा है


सट्टा खिलाने वाले भी आजमा रहे हैं राजनीति पर हाथ


आपको बता दें कि नारायणगंज क्षेत्र पर सट्टा खिलाने वाले कारोबारी भी राजनीति पर अपना भाग्य और किस्मत आजमा रहे हैं जब लोग उनसे कहते हैं कि तुम सट्टे का गलत काम करते हो और राजनीति पर हाथ आजमा रहे हो तो तुम क्या विकास करोगे तो वह लोग कहते हैं कि वह तो हमारा व्यापार है राजनीति पर आना हमें विकास करने के लिए आना है अब यही बात सोचने वाली होती है कि सट्टे का कारोबारी लोगों के विकास की बात कर रहा है जबकि वह स्वयं लोगों के जीवन को अंधकार में मनाने के लिए पूरी कोशिश करता है अब इस बात से अंदाजा लगाया जा सकता है कि नारायणगंज क्षेत्र के अंतर्गत थाना  टिकरिया  की पूरी टीम किस तरीके से विफल है जिसके कारण आज पूरे  अवैध कारोबारी गांजा का अवैध व्यापार  करने वाले और भी अवैध कार्य करने वाले लोगों के हौसले काफी बुलंद है अब इससे यह साफ नजर आता है कि पुलिस प्रशासन और अवैध रूप से किए जाने वाले कार्य सब मिले हुए हैं जिससे किसी भी प्रकार की कोई शिकायत का कोई असर नहीं होता गुप्त सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार जब कोई बड़ा अधिकारी टिकरिया थाने में आते हैं तो सट्टा का अवैध कारोबार करने वाला सरगना स्वयं और अधिकारियों की सेवा में तत्पर हाजिर रहता है इसका यह तात्पर्य सीधा-सीधा कि पुलिस प्रशासन और सट्टा के कारोबारियों का एक साथ मिला होना। जिम्मदारो के निजी स्वर्थ के चलते खुले आम जुआ, सट्टा अबैध कारोबारी के हौसले बुलंद है ।

No comments:

Post a Comment