MP में बारिश ने बढ़ाई आफत..भोपाल-नागपुर हाईवे पर पुल बहा, प्रदेश के 14 जिलों में भारी बारिश का अलर्ट - revanchal times new

revanchal times new

निष्पक्ष एवं सत्य का प्रवर्तक

Breaking

🙏जय माता दी🙏 शुभारंभ शुभारंभ माँ नर्मदा की कृपा और बुजुर्गों के आशीर्वाद से माँ रेवा पब्लिकेशन एन्ड प्रिंटर्स का हुआ शुभारंभ समाचार पत्रों की प्रिंटिग हेतु संपर्क करें मोबाईल न- 0761- 4112552/07415685293, 09340553112,/ 9425852299/08770497044 पता:- 68/1 लक्ष्मीपुर विवेकानंद वार्ड मुस्कान प्लाजा के पीछे एम आर 4 रोड़ उखरी जबलपुर (म.प्र.)

Monday, July 18, 2022

MP में बारिश ने बढ़ाई आफत..भोपाल-नागपुर हाईवे पर पुल बहा, प्रदेश के 14 जिलों में भारी बारिश का अलर्ट



मध्यप्रदेश के कई जिलों में भारी बारिश का दौर जारी है। लगातार बारिश के चलते नर्मदा, ताप्ती, बेतवा, क्षिप्रा नदी उफान पर हैं। इसके साथ ही निचले इलाकों में बाढ़ जैसे हालात बनने लगे हैं। मौसम विभाग के अनुसार, प्रदेश में नया सिस्टम एक्टिव होने के बाद दो से तीन दिन तक भोपाल, जबलपुर और नर्मदापुरम में कहीं-कहीं अच्छी बारिश हो सकती है।
भोपाल-नागपुर हाईवे पर पुल बहा

रविवार रात से हो रही भारी बारिश के कारण राष्ट्रीय राजमार्ग 46 पर सुखतवा नदी पर बना पुल का एप्रोच रोड बह गया है। नागपुर-भोपाल का संपर्क टूट गया है। यातायात बाधित हो रहा है। बता दें कि ये पुल नर्मदापुरम-बैतूल के बीच है। सुखतवा का पुराना पुल टूटने के बाद यह अस्थाई पुल बनाया गया था।
इटारसी के कई क्षेत्र जलमग्न

प्रदेश में हो रही बारिश के चलते इटारसी में कई क्षेत्रों में पानी भर गया है। देर रात आंधी-बारिश ने इटारसी शहर में बाढ़ जैसे हालात बना दिए हैं। बता दें कि नाला मोहल्ला और मेहरागांव के घरों में पानी घुस गया है। कई जगह 2 से 3 फीट तक पानी भरा है।
दूसरी बार खोले तवा डैम के गेट

बैतूल, पिपरिया और पचमढ़ी के ऊंचे इलाकों में हो रही भारी बारिश की वजह से तवा डैम के गेट इस सीजन में दूसरी बार खोलना पड़े। फिलहाल 10 फीट की ऊंचाई तक डैम के 13 गेट खोले गए हैं और करीब दो लाख 4 हजार क्यूसिक पानी प्रतिसेकेंड डिस्चार्ज किया जा रहा है।
मंदसौर में मां-बेटा, उज्जैन में बोलेरो बही

मंदसौर में उफनाए नाले को पार करने की कोशिश में महिला और उसका बेटा बाइक समेत बह गया। बेटे को आसपास मौजूद लोगों ने किसी तरह बचा लिया। वहीं, महिला की तेज बहाव में बहने से मौत हो गई।

उज्जैन के महिदपुर में पुलिया पार करते समय बोलेरो बह गई। बोलेरो में तीन लोग सवार थे, चालक ने पुलिया पार करने की कोशिश की, इस दौरान बोलेरो अचानक बंद हो गई। तीनों ने बाहर निकलकर अपनी जान बचा ली। देखते ही देखते पानी का बहाव तेज हुआ और बोलेरो बह गई।
कहां-कितनी बारिश हुई ?

पिछले 24 घंटों के दौरान प्रदेश के जबलपुर, भोपाल, उज्जैन, इंदौर एवं नर्मदापुरम संभागों के जिलों में अधिकांश स्थानों पर, ग्वालियर, चंबल, शहडोल संभागों के जिलों में अनेक स्थानों पर, सागर संभाग के जिलों में कुछ स्थानों पर बारिश दर्ज की गई है। वहीं, रीवा संभाग के जिलों में मौसम मुख्यत: शुष्क रहा।

बरघाट, सिवनीमालवा में 19, करेली में 15, सिलवानी में 12, कटंगी, कालापीपल, सिवनी, घोड़ाडोंगरी, कुरई, हर्राई, पिछोर, श्यामपुर, नलखेड़ा में 11, डोलारिया, टिमरनी, पचमढ़ी, चिंचोली, पुष्पराजगढ़ में 10, सिवनी, आटनेर, खकनार, शुजालपुर, भैंसदेही में 9, खंडवा, नसरुल्लागंज, कन्नौद, वारासिवनी में 8, तिरोडी, बिरसा, देवरी, लालबर्रा, सीहोर, बैतूल, भीमपुर में 7 सेमी पानी गिरा।
मौसम विभाग का अलर्ट!

मौसम विभाग का पूर्वानुमान कहता है कि अगले 24 घंटों के दौरान इंदौर, उज्जैन, नर्मदापुरम, भोपाल संभागों के जिलों में अधिकांश स्थानों पर, सागर, रीवा, शहडोल, जबलपुर, चंबल एवं ग्वालियर संभागों के जिलों में अनेक स्थानों पर बारिश या गरज चमक के साथ बौछारें पड़ने की संभावना है।
यहां ऑरेंज अलर्ट जारी

इसके साथ ही नर्मदापुरम संभाग के जिलों में कहीं-कहीं भारी से अति भारी बारिश गिरने की संभावना है। मौसम विभाग ने यहां ऑरेंज अलर्ट जारी किया है।
यहां येलो अलर्ट जारी

मौसम विभाग ने भोपाल एवं उज्जैन संभागों के जिलों में तथा बुरहानपुर, खंडवा, खरगोन, धार, इंदौर, गुना, नरसिंहपुर, छिंदवाड़ा, सिवनी, बालाघाट, सागर जिलों में कहीं-कहीं बारिश गिरने की संभावना जताई है। वहीं इंदौर, उज्जैन, नर्मदापुरम, भोपाल, सागर, जबलपुर, चंबल एवं ग्वालियर संभागों के जिलों में कहीं-कहीं गरज चमक के साथ बिजली गिरने की संभावना है। मौसम विभाग ने यहां येलो अलर्ट जारी किया है।
4 सिस्टम एक्टिव

मौसम विभाग के अनुसार, वर्तमान में 4 वेदर सिस्टम एक्टिव है। बंगाल की खाड़ी में ओडिशा कोस्ट पर एक कम दबाव का क्षेत्र बना हुआ है। मानसून ट्रफ अवदाब के क्षेत्र से दीसा, रायसेन, अंबिकापुर से होकर बंगाल की खाड़ी में बने कम दबाव के क्षेत्र तक बना हुआ है। जम्मू-कश्मीर पर एक पश्चिमी विक्षोभ ट्रफ के रूप में मौजूद है। बता दें कि इन मौसम प्रणालियों के असर से वातावरण में नमी बढ़ रही है और प्रदेशभर में बारिश का दौर जारी है।

No comments:

Post a Comment