kamika Ekadashi 2022 : बेहद खास है आज का दिन, भूलकर भी न करें ये 2 काम, वरना विष्‍णु जी हो जाएंगे नाराज! - revanchal times new

revanchal times new

निष्पक्ष एवं सत्य का प्रवर्तक

Breaking

रेवांचल टाइम्स अखबार पाठकों से अनुरोध करता है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें.. ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें... साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए.. प्रकाशन हेतु ख़बरें, विज्ञप्ति मोबाइल- 9406771592 पर व्हाट्सएप्प करें

Sunday, July 24, 2022

kamika Ekadashi 2022 : बेहद खास है आज का दिन, भूलकर भी न करें ये 2 काम, वरना विष्‍णु जी हो जाएंगे नाराज!



Kamika Ekadashi: साल की सभी 24 एकादशी भगवान विष्णु को समर्पित हैं. इसमें सावन महीने के कृष्ण पक्ष की एकादशी को कामिका एकादशी कहते हैं, इसे हिंदू धर्म में बेहद अहम माना गया है. आज 24 जुलाई को कामिका एकादशी मनाई जाएगी. श्रद्धालू कामिका एकादशी का व्रत रखते हैं. भगवान विष्‍णु की विधि-विधान से पूजा करते हैं. ऐसा करने से विष्‍णु जी प्रसन्‍न होते हैं. वहीं आज के दिन व्रत न भी रखें तो कुछ नियमों का पालन जरूर करना चाहिए. वरना जीवन में कई मुसीबतें झेलनी पड़ सकती हैं.
ऐसे करें विष्‍णु जी के साथ मां लक्ष्‍मी को प्रसन्‍न

भगवान विष्‍णु को प्रसन्‍न करने के लिए कामिका एकादशी के पवित्र दिन व्रत रखना चाहिए. इस दिन व्रत-पूजा करने से श्रीहरि का आशीर्वाद प्राप्‍त होता है. इसके साथ-साथ मां लक्ष्‍मी की भी पूजा करें. ऐसा करने से घर में अपार सुख और समृद्धि आती है. सारे सुख मिलते हैं. भगवान विष्‍णु और मां लक्ष्‍मी की कृपा से मनोकामनाएं पूरी होती हैं.
एकादशी के दिन न करें ये गलतियां

ऐसे जातक जो एकादशी का व्रत न कर रहे हों, उन्‍हें भी कुछ नियमों का पालन करना चाहिए. इस‍ दिन की गई गलतियां भगवान विष्‍णु और मां लक्ष्‍मी को नाराज कर सकती हैं.

- एकादशी के दिन व्रत न करें तो भी गलती से भी तामसिक भोजन न करें. नॉनवेज-शराब का सेवन न करें. कमिका एकादशी के दिन सात्विक भोजन ही करें.

कमिका एकादशी के दिन व्रत न करें तो भी विष्‍णु जी की पूजा करके उन्‍हें भोग लगाएं उसके बाद ही भोजन करें.

- एकादशी के दिन चावल का सेवन कभी नहीं करना चाहिए. इस दिन चावल का सेवन करना अशुभ माना जाता है. लिहाजा इससे बचें.

- एकादशी के दिन ब्रह्मचर्य का पालन करें. किसी से बुरा न बोलें. ज्‍यादा से ज्‍यादा समय भगवान की भक्ति में लगाएं.

- एकादशी व्रत न करें तो भी दान-पुण्य जरूर करें. आज के दिन किसी को खाली हाथ न लौटाएं.

No comments:

Post a Comment