एक साथ जन्में चार बच्चों को अस्पताल से मिली छुट्टी... - revanchal times new

revanchal times new

निष्पक्ष एवं सत्य का प्रवर्तक

Breaking

🙏जय माता दी🙏 शुभारंभ शुभारंभ माँ नर्मदा की कृपा और बुजुर्गों के आशीर्वाद से माँ रेवा पब्लिकेशन एन्ड प्रिंटर्स का हुआ शुभारंभ समाचार पत्रों की प्रिंटिग हेतु संपर्क करें मोबाईल न- 0761- 4112552/07415685293, 09340553112,/ 9425852299/08770497044 पता:- 68/1 लक्ष्मीपुर विवेकानंद वार्ड मुस्कान प्लाजा के पीछे एम आर 4 रोड़ उखरी जबलपुर (म.प्र.)

Thursday, July 14, 2022

एक साथ जन्में चार बच्चों को अस्पताल से मिली छुट्टी...




 रेवांचल टाईम्स - गत 23 मई को बालाघाट जिलें में पहली बार किसी महिला ने एक साथ चार बच्चों को जन्म दिया था। ज्ञात हो कि जिले में इस तरह का पहला मामला होने के कारण यह सभी जिले वासियों के लिए चर्चा का विषय भी बना हुआ था। 

             प्रिति पति नंदलाल मेश्राम ग्राम जराही तहसिल किरनापुर निवासी ने जिला चिकित्सालय में सिजेरियन प्रसव द्वारा दिनांक 23 मई को सुबह 11:59 बजे चार नवजात शिशु तीन बालक एवं एक बालिका को जन्म दिया। जो कि समय से पूर्व (29 माह) में ही हो जाने के कारण एवं अत्यधिक कम वजन के होने के कारण उसे दिनाँक 23 मई को हि दोपहर 12:30 बजे जिला चिकित्सालय के एस.एन.सी. यू. वार्ड में भर्ती कराया गया था।

              भर्ती के समय उनकी हालत अत्यधिक गंभीर थी एवं बचने कि संभावना नहीं लग रही थी। इन बच्चों को शुरू में मुंह से कुछ नहीं दिया गया। डॉ. निलय जैन ने बताया कि प्रतिदिन उसके सारे खून की जांच एवं सभी जॉचे कराई जा रही थी। एवं शुरू के दिनों में असाधारण स्थिति में थी, शुरुवाती दिनो में यह बच्चे दुध पिने में असमर्थ थे। कुछ समय बाद 10 जुन से नली द्वारा दुध दिया जाने लगा एवं यह दिनांक 23 मई से 14 जुलाई तक निरंतर जीवन रक्षक दवाईयो एवं आक्सीजन पर हैं।

बच्चे है पूर्णत: स्वस्थ

डॉ. निलय जैन ने बताया कि जन्म के समय बच्चों की स्थिती काफी नाजुक थी। गर्भ में एक साथ चार बच्चें होने एवं समय से पूर्व जन्म लेने के कारण बच्चों का वजन काफी कम था तथा हालात काफी नजुक थी। मगर जिला अस्पताल के गहन शिशु वार्ड में सारी सुविधाएं होने के कारण हम बच्चों की हालत में सुधार ला पाये तथा उन्हे स्वस्थ कर पाये। जिला अस्पताल में बच्चों को कुल 53 दिन रखा गया जहां उनके स्वस्थ का संपूर्ण ध्यान रखा गया।

संपूर्ण स्टाफ का रहा योगदान

समय से पूर्व जन्म लेने के कारण गंभीर अवस्था में बच्चों को गहन शिश वार्ड में एडमिट किया गया था जहां उपकी पूरी देखभाल एवं सेहत में सुधार का पूरा श्रेय गहन शिशु वार्ड के स्टाफ को जाता है। डॉ. निलय जैन ने बताया कि प्रतिदिन उसके सारे खून की जांच एवं सभी जॉचे कराई जा रही थी। जिसमें संपूर्ण स्टाफ का योगदान रहा।

       कपड़े व खिलौने भेंटकर किया गया रवाना

चारों बच्चों को जिला चिकित्सालय से गुरूवार को 53 दिनों बाद छुट्टी दे दी गई। जहां गहन चिकित्सा वार्ड में डॉ निलय जैन एवं सिविल सर्जन डॉ संजय धबडग़ांव

के साथ संपूर्ण स्टाफ मौजूद रहा तथा डॉ निलय जैन के द्वारा बच्चों को कपड़े व खिलौने भेंट किये गये।

       इनका कहना है-

        इसे भगवान का करिस्मा हि कह सकते है कि महिला ने एक साथ चार बच्चों को जन्म दिया। संपूर्ण जिले में इस प्रकार का यह पहला मामला है। बच्चों के जन्म से लेकर आज डिस्चार्ज किये जाने तक सभी स्टाफ ने अपनी पूरी जिम्मेदारी से कार्य किया जिससे इन बच्चों की हालत में सुधार लाने में हम कामयाब हुए।

                         डॉ निलय जैन

                           शिशु रोग विशेषज्ञ

No comments:

Post a Comment