त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव मे भाजपा नेताओं का नारायणगंज में हुआ पत्ता साफ, भाजपा नेता पंच, सरपंच, जनपद सदस्य, जिला पंचायत सदस्य चुनाव हारे...वजय क्या... - revanchal times new

revanchal times new

निष्पक्ष एवं सत्य का प्रवर्तक

Breaking

🙏जय माता दी🙏 शुभारंभ शुभारंभ माँ नर्मदा की कृपा और बुजुर्गों के आशीर्वाद से माँ रेवा पब्लिकेशन एन्ड प्रिंटर्स का हुआ शुभारंभ समाचार पत्रों की प्रिंटिग हेतु संपर्क करें मोबाईल न- 0761- 4112552/07415685293, 09340553112,/ 9425852299/08770497044 पता:- 68/1 लक्ष्मीपुर विवेकानंद वार्ड मुस्कान प्लाजा के पीछे एम आर 4 रोड़ उखरी जबलपुर (म.प्र.)

Sunday, July 17, 2022

त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव मे भाजपा नेताओं का नारायणगंज में हुआ पत्ता साफ, भाजपा नेता पंच, सरपंच, जनपद सदस्य, जिला पंचायत सदस्य चुनाव हारे...वजय क्या...



रेवांचल टाईम्स - आदिवासी बाहूल्य मण्डला जिले में संपन्न हुए त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव के चलते सभी विकास खण्ड में मतदाताओं ने इस चुनाव में अच्छे अच्छे दिग्गजों को अपनी ताक़त दिखा दी वही इस चुनाव में गोंड़वाना पार्टी का वर्चव रहा वही सत्ता धारी पार्टी के जनप्रतिनिधियों ने लोगो के बीच जम कर प्रचार प्रसार किया पर बहुत ही कम मात्रा में लोगो ने पसंद किया वही जानकारी के अनुसार जिले के नारायणगंज जनपद पंचायत मे भी चुनाव सपन्न हुए और परिणाम 14 जुलाई घोषित हुए। जिसमें नारायणगंज क्षेत्र के  भाजपा के दिग्गज क्षेत्र मे अपनी लोकप्रियता आंकने चुनावी मैदान मे ऊतरे थे। ये नेता अपने व्यापक जन समर्थन की बड़ी-बड़ी बाते करने से नही चूकते किन्तु उनकी हकीकत इस लोकतंत्र के महापर्व मे पता चली।


 नारायणगंज मे चुनाव हारे भाजपा नेता-


     जनपद पंचायत नारायणगंज मे भाजपा मंडल अध्यक्ष मनोज मिश्रा जनपद सदस्य,  भाजपा मंडल महामंत्री राकेश, प्रकाश चंद्र अग्रवाल पंच, भाजपा महामंत्री दीपक पदम जनपद सदस्य, भाजपा युवा मोर्चा उपाध्यक्ष अभय साहू जनपद सदस्य, भाजपा किसान मोर्चा अध्यक्ष कृष्णकांत सिंगरौरे पंच, भाजपा समर्पित सक्रिय सदस्य सुनील मरकाम सरपंच, भाजपा सक्रिय सदस्य बलराम परते सरपंच एवं भाजपा के वरिष्ठ नेता विजय सरवटे जिला पंचायत सदस्य ये नेताओं को क्षेत्र के मतदाताओं ने करारी 

शिकस्त देकर अपना नेता स्वीकर नही किया। 


     जाहिर है की भाजपा संगठन क्षेत्र के विकास की बड़ी-बड़ी घोषणा तो करता है पर जमीनी हकीकत कुछ और समझ मे आ रही है। वहीं सत्ताधारी दल और उन जनप्रतिनिधियों जो पदों पर काबिज तो हो जाते हैं लेकिन सिर्फ अपने और अपने परिवार के विकास तक सीमित होकर रह  जाते हैं जनता और उनकी मूलभूत आवश्यकताओं से उन्हें कोई लेना देना नहीं होता। जिसका क्षेत्र की जनता ने इस चुनाव मे अपना विरोध दर्ज करते हुए उन्होंने हराकर अपनी नाराजगी जाहिर की है।

   अभी भी समय है यदि जिले के जनप्रतिनिधि और राजनेता जनता की इस मंशा को नहीं समझते हैं तो आने वाले समय में ज्यादा नुकसान होना संभावित है।

No comments:

Post a Comment