शाम के वक्त क्यों नहीं लगाते झाड़ू? तुलसी का पौधा भी छूना है वर्जित - revanchal times new

revanchal times new

निष्पक्ष एवं सत्य का प्रवर्तक

Breaking

🙏जय माता दी🙏 शुभारंभ शुभारंभ माँ नर्मदा की कृपा और बुजुर्गों के आशीर्वाद से माँ रेवा पब्लिकेशन एन्ड प्रिंटर्स का हुआ शुभारंभ समाचार पत्रों की प्रिंटिग हेतु संपर्क करें मोबाईल न- 0761- 4112552/07415685293, 09340553112,/ 9425852299/08770497044 पता:- 68/1 लक्ष्मीपुर विवेकानंद वार्ड मुस्कान प्लाजा के पीछे एम आर 4 रोड़ उखरी जबलपुर (म.प्र.)

Thursday, July 14, 2022

शाम के वक्त क्यों नहीं लगाते झाड़ू? तुलसी का पौधा भी छूना है वर्जित

 


रेवांचल टाईम्स:आपने अक्सर अपने घर के बड़ों से कहते सुना होगा कि शाम के वक्त झाड़ू मत लगाया करो या शाम के वक्त तुलसी का पौधा मत छुआ करो. पर क्या कभी आपने सोचा है कि ऐसा क्यों या इसके पीछे क्या कारण हैं. हिंदू मान्यताओं के अनुसार, इसके पीछे कई नकारात्मक कारण छिपे हैं, जिनके बारे में पता होना जरूरी है. आज का हमारा लेख इसी विषय पर है. आज हम आपको अपने इस लेख के माध्यम से बताएंगे कि शाम के वक्त झाड़ू क्यों नहीं लगानी चाहिए. पढ़ते हैं आगे…

शाम के वक्त झाड़ू क्यों नहीं लगानी चाहिए?

हिंदू मान्यताओं के अनुसार, शाम के वक्त झाड़ू लगाने से लक्ष्मी बाहर की तरफ चली जाती है, जिसके कारण घर में आर्थिक तंगी हो जाती है. और लोगों को धन की कमी होने के कारण कई समस्याओं का सामना करना पड़ता है. वहीं पुराने जमाने में जब बिजली नहीं होती थी तब सूरज डूबने के वक्त झाड़ू लगाने से घर का समान गलती से बाहर चला जाता था. जिसके बाद ये नियम बनाया गया कि शाम होने से पहले झाड़ू लगा लें. दिन ढ़लने के बाद झाड़ू ना लगाएं. 

शाम के वक्त क्यों नहीं छूना चाहिए तुलसी का पौधा?

तुलसी का पौधा शाम के वक्त छूने से परहेज करना चाहिए. ऐसा इसलिए क्योंकि शाम के वक्त तुलसी को छूने या जल देने से वे नाराज हो जाती हैं, जिसके कारण लक्ष्मी भी रूठ जाती है. मान्यता है कि तुलसी के पौधे पर यदि दीपक जलाया जाए तो लक्ष्मी की कृपा बरसाती है. ऐसे में शाम के वक्त इसे छूने से लक्ष्मी गुस्सा हो जाती है, जिसके कारण घर में आर्थिक तंगी आ सकती है. कहते हैं कि शाम के वक्त तुलसी जी आराम करती हैं. ऐसे में उन्हें छूने पर वे गुस्सा हो जाती हैं, वहीं वैज्ञानिकों की मानें तो रात के वक्त पौधों को इसलिए नहीं छूना चाहिए क्योंकि उनका भी सोने और जागने का समय निश्चित होता है. यदि रात के समय unhen पानी दिया जाए तो उनकी सेहत पर नकारात्मक प्रभाव पड़ सकता है और वे मुरझा सकते हैं. 

नोट – इस लेख में दी गई जानकारी मान्यताओं और सूचनाओं पर आधारित है. रेवांचल टाईम्स इसकी पुष्टि नहीं करता है. अधिक जानकारी के लिए एक्सपर्ट से संपर्क करें.

No comments:

Post a Comment