खेल खेल में हुआ झगड़ा...7 साल के बच्चे ने दोस्त को डीजल डाल जिंदा जला दिया - revanchal times new

revanchal times new

निष्पक्ष एवं सत्य का प्रवर्तक

Breaking

रेवांचल टाइम्स अखबार पाठकों से अनुरोध करता है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें.. ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें... साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए.. प्रकाशन हेतु ख़बरें, विज्ञप्ति मोबाइल- 9406771592 पर व्हाट्सएप्प करें

Thursday, June 16, 2022

खेल खेल में हुआ झगड़ा...7 साल के बच्चे ने दोस्त को डीजल डाल जिंदा जला दिया



रेवांचल टाईम्स:राजस्थान के कोटा से एक हैरान कर देने वाला मामला सामने आया है। खेल-खेल में हुए झगड़े में यहां एक सात साल के बच्चे ने 14 साल के लड़के को जिंदा जला दिया। घटना के बाद एक महीने तक 14 वर्षीय बालक अस्पताल में जिंदगी और मौत की जंग लड़ता रहा परंतु बुधवार को उसकी इलाज के दौरान मौत हो गई। पुलस ने अब आरोपी नाबालिग बच्चे के खिलाफ हत्या का प्रकरण दर्ज किया है।


रोज बच्चे आपस में झगड़ा करते थे फिर खेलने लगते थे इसलिए घरवालों की नजर उन पर नहीं पड़ी। लेकिन उस दिन 7 साल के बच्चे ने ऑटो से डीजल से भरी बोतल निकाली और 14 साल के नाबालिग पर छिड़क कर उसे माचिस से आग लगा दी। आग से तड़पते वह पास ही जाकर एक पानी की टंकी में कूद गया। जिससे आग तो बुझ गई लेकिन वह 50 फीसदी से ज्यादा झुलस गया। गंभीर हालत में बच्चे को एमबीएस अस्पताल के बर्न वार्ड में उसे भर्ती करवाया गया था।


उद्योग नगर थानाधिकारी मनोज सिकरवार ने बताया कि प्रेमनगर निवासी मृतक बालक विशाल के पिता छोटेलाल सब्जी की दुकान लगाते हैं। बालक भी अपने पिता के साथ दुकान पर काम करता था। दोनों पिता-पुत्र 12 मई को सब्जी मंडी से सब्जी खरीद कर आए। जिसके बाद पिता अपनी दुकान पर चला गया। पीछे से विशाल घर पर ही खेल रहा था। उसके साथ पड़ोस में रहने वाला 7 साल का लड़का भी खेल रहा था। 12 मई को दोनों के बीच खेलते समय दोनों में झगड़ा हो गया था।

डॉक्टर ने बताया कि 50 फीसदी जले होने के कारण बच्चे का इन्फेक्शन बढ़ाता जा रहा था। बुधवार दोपहर 15 जून को बालक की उपचार के दौरान मौत हो गई। सूचना पर पोस्टमार्टम के बाद शव परिजनों को सौंपा गया है। जिस बच्चे ने आग लगाई वह पहले मध्यप्रदेश के श्योपुर में ही अपने मूल गांव में दादा-दादी के पास रहता था। उसके पिता कोटा में ऑटो चलाते हैं। एक महीने पहले उसके पिता स्कूल में एडमिशन के लिए उसे यहां लाए थे। फिलहाल आग लगाने वाला बालक अपने पिता के साथ ही अपने श्योपुर गांव में है।

No comments:

Post a Comment