संकष्टी चतुर्थी 2022: आज है संक​ष्टी चतुर्थी, इस व्रत कथा को पढ़े बिना पूरी नहीं होती पूजा - revanchal times new

revanchal times new

निष्पक्ष एवं सत्य का प्रवर्तक

Breaking

रेवांचल टाइम्स अखबार पाठकों से अनुरोध करता है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें.. ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें... साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए.. प्रकाशन हेतु ख़बरें, विज्ञप्ति मोबाइल- 9406771592 पर व्हाट्सएप्प करें

Friday, June 17, 2022

संकष्टी चतुर्थी 2022: आज है संक​ष्टी चतुर्थी, इस व्रत कथा को पढ़े बिना पूरी नहीं होती पूजा




 रेवांचल टाइम्स:आज यानि 17 जून को संकष्टी चतुर्थी है और इस दिन विघ्नहर्ता भगवान गणेश जी का (Lord Ganesh Puja) पूजन किया जाता है. अगर आप गणेश जी की कृपा पाना चाहते हैं तो उसके लिए संकष्टी चतुर्थी का दिन सबसे उत्तम माना गया है. इस दिन जातक व्रत-उपवास करते हैं और रात को चंद्रमा को अर्घ्य देकर व्रत का पारण करते हैं. (Sankashti Chaturthi Vrat Katha) संकष्टी चतुर्थी का व्रत व पूजा करते समय व्रत कथा पढ़ना व सुनना जरूरी है. इसके बिना पूजा अधूरी मानी जाती है.
संकष्टी चतुर्थी व्रत कथा

पौराणिक कथा के अनुसार, एक समय की बात है. शिव और शक्ति नदी के किनारे बैठे हुए थे. कुछ बाद माता पार्वती को चौपड़ खेलने का मन हुआ. उन्होंने शिव जी से कहा, तो वे भी तैयार हो गए. लेकिन समस्या यह थी कि वहां कोई तीसरा व्यक्ति नहीं था, जो हार जीत का निर्णय कर सके. माता पार्वती ने अपनी शक्ति से एक बालक की मूर्ति बनाई और उसमें प्राण प्रतिष्ठा कर दी. फिर उन्होंने कहा कि तुम इस चौपड़ खेल के निर्णायक हो. तुमको हार और जीत का फैसला करना है. यह होने के बाद माता पार्वती और शिव जी ने खेल प्रारंभ किया.

कई बार चौपड़ का खेल हुआ, जिसमें माता पार्वती ने भगवान शिव को हरा दिया. माता पार्वती ने उस बालक से खेल का निर्णय जानना चाहा, तो उसने भगवान शिव को विजयी बता दिया. इससे माता पार्वती नाराज हो गईं. उन्होंने गुस्से में बालक को श्राप दे दिया, जिससे वह लंगड़ा हो गया. लड़के ने क्षमा याचना की, तो माता पार्वती ने कहा कि यह श्राप वापस नहीं हो सकता है. इससे मुक्ति का एक उपाय यह है कि तुम संकष्टी के दिन यहां आने वाली कन्याओं से व्रत का विधान पूछना और विधिपर्वूक संकष्टी चतुर्थी का व्रत करना.

संक​ष्टी चतुर्थी पर कन्याओं से बालक ने व्रत की विधि जान ली और नियमपूर्वक व्रत किया. गणेश जी ने प्रसन्न होकर उसे वरदान मांगने को कहा. तब बालक ने माता पार्वती और भगवान शिव के पास जाने की इच्छा व्यक्त की, तो गणेश जी उसे कैलाश पहुंचा देते हैं.

No comments:

Post a Comment