पर्यावरण को संरक्षित करने प्राकृतिक खेती को प्रोत्साहित करें एपीसी श्री सतेन्द्र सिंह ने की विभागीय योजनाओं की समीक्षा - revanchal times new

revanchal times new

निष्पक्ष एवं सत्य का प्रवर्तक

Breaking

रेवांचल टाइम्स अखबार पाठकों से अनुरोध करता है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें.. ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें... साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए.. प्रकाशन हेतु ख़बरें, विज्ञप्ति मोबाइल- 9406771592 पर व्हाट्सएप्प करें

Saturday, May 28, 2022

पर्यावरण को संरक्षित करने प्राकृतिक खेती को प्रोत्साहित करें एपीसी श्री सतेन्द्र सिंह ने की विभागीय योजनाओं की समीक्षा

 


 

मण्डला 28 मई 2022

विभागीय योजनाओं की समीक्षा करते हुए एपीसी सतेन्द्र कुमार सिंह ने निर्देशित किया कि पर्यावरण को संरक्षित करने की दृष्टि से प्राकृतिक खेती को प्रोत्साहित करें। इसमें लागत भी कम होती है। नर्मदा नदी के दोनों ओर 5 किलोमीटर के क्षेत्र में रहने वाले किसानों का चिन्हांकन कर उन्हें प्राकृतिक खेती के लिए प्रेरित करें। वीडियो कॉन्फ्रेसिंग से संपन्न हुई इस बैठक में एनआईसी कक्ष मंडला से प्रमुख सचिव सहकारिता केसी गुप्ता, कलेक्टर हर्षिका सिंह सहित संबंधित विभागों के अधिकारी उपस्थित रहे।

श्री सतेन्द्र कुमार सिंह ने निर्देशित किया कि वृक्षारोपण के संबंध में आवश्यक तैयारियाँ पूर्ण रखें। पौधे जिला स्तर पर ही तैयार करें। रोपणी में पौधों के उत्पादन की समीक्षा करें। उन्होंने एकीकृत बागवानी विकास मिशन के लिए हितग्राहियों का चयन करने के भी निर्देश दिए। प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना की समीक्षा करते हुए श्री सिंह ने कहा कि किसानों को सिंचाई की ड्रिप पद्धति के लाभ बतलाते हुए उन्हें इसके उपयोग के लिए प्रेरित करें। राष्ट्रव्यापी कृत्रिम गर्भाधान कार्यक्रम की समीक्षा के दौरान उन्होंने मैत्री की स्थापना तथा प्रगति के संबंध में जानकारी ली। उन्होंने कहा कि पशुपालकों से सतत संपर्क बनाए रखते हुए उन्हें शासन की योजनाओं से लाभान्वित करें। पशुधन बीमा का पात्रतानुसार लाभ दिलाएं। नस्ल सुधार के कार्यक्रमों में तकनीकि का उपयोग करें। एनएलएम के तहत कुक्कुट पालन, बकरी पालन, सूकर पालन आदि को बढ़ावा दें। चरी-चारा के लिए भी हितग्राहियों को प्रोत्साहित करें। युवा संवाद कार्यक्रम आयोजित करें। पशु कल्याण समिति का अंकेक्षण कराएं। दुग्ध सहकारी समितियां दुग्ध संकलन बढ़ाएं। उन्होंने पार्लर दूध एवं एजेंसियों की स्थिति के संबंध में भी आवश्यक निर्देश दिए। हितग्राहियों को केसीसी का लाभ दिलाएं। नरवाई जलाने वाले किसानों पर कड़ी कार्यवाही करें। इस संबंध में जिला स्तर पर प्रभावी रणनीति तैयार करें।

 

उपार्जन के समय ही ऋण वसूली करें

 

                सहकारिता गतिविधियों की समीक्षा करते हुए प्रमुख सचिव सहकारिता केसी गुप्ता ने निर्देशित किया कि शतप्रतिशत किसानों की पोर्टल पर एंट्री सुनिश्चित करें। खरीदी के समय ही किसानों से ऋण की राशि वसूल करें। उन्होंने कहा कि खरीदी के समय जिन कर्मचारियों द्वारा किसानों के ऋण नहीं काटे गए हैं, उनके विरूद्ध अनुशासनात्मक कार्यवाही करें। श्री गुप्ता ने अल्पावधि खरीफ फसल ऋण वितरण तथा रासायनिक खाद भंडारण के संबंध में भी समीक्षा करते हुए आवश्यक निर्देश दिए।

 

बैगा परिवारों में होगा कड़कनाथ का वितरण

 

                बैठक में कलेक्टर हर्षिका सिंह ने जानकारी दी कि पूर्व में बैगा परिवारों को कड़कनाथ वितरित किए गए थे जिसके सकारात्मक परिणाम परिलक्षित हुए हैं। उन्होंने शेष बचे बैगा परिवारों में भी कड़कनाथ वितरण करने के लिए अतिरिक्त आवंटन की मांग की, जिस पर एपीसी श्री सिंह ने जिले के लिए एक हजार नग कड़कनाथ की स्वीकृति प्रदान करने के निर्देश दिए। श्री सिंह ने कहा कि बैगा परिवारों को गौ-पालन से भी जोड़ें।

 

एक जिला एक उत्पादपर मंडला में हुआ सराहनीय कार्य

 

प्रधानमंत्री सूक्ष्म खाद्य उद्योग उन्नयन योजना की समीक्षा के दौरान एपीसी श्री सतेन्द्र सिंह ने एक जिला एक उत्पादके तहत मंडला जिले में किए गए कार्यों की सराहना की। उन्होंने कहा कि विभागीय अमला किसानों से सतत संपर्क बनाए रखते हुए उनका उत्साह बरकरार रखें। श्री सिंह ने कहा कि कोदो-कुटकी उत्पादन को महिला एवं बाल विकास विभाग से लिंकेज करें। संबंधित किसानों का एक्पोजर विजिट कराएं। एमपी एग्रो इन उत्पादों की मार्केटिंग पर ध्यान दे। बैठक में कलेक्टर हर्षिका सिंह द्वारा कोदो-कुटकी के उत्पादन, संग्रहण प्रोसेसिंग यूनिट आदि के संबंध में विस्तार से जानकारी दी गई।

No comments:

Post a Comment