पूजा-पाठ के दौरान रखें इन विशेष नियमों का ध्यान, मनोकामनाएं होंगी पूरी और मिलेगा लाभ - revanchal times new

revanchal times new

निष्पक्ष एवं सत्य का प्रवर्तक

Breaking

रेवांचल टाइम्स अखबार पाठकों से अनुरोध करता है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें.. ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें... साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए.. प्रकाशन हेतु ख़बरें, विज्ञप्ति मोबाइल- 9406771592 पर व्हाट्सएप्प करें

 आवश्कता है  आवश्कता है ....

रेवांचल टाईम्स समाचार पत्र एव वेव पोर्टल में मध्यप्रदेश के सभी संभाग, जिला, तहसील, विकास खंडों, में संवाददाताओं की एंव विज्ञापनों व खबरों से सबंधित व्यक्ति संपर्क करें इन नम्बरों में 👉 9406771592/ 9425117297/ 8770297430/9165745947

Thursday, May 12, 2022

पूजा-पाठ के दौरान रखें इन विशेष नियमों का ध्यान, मनोकामनाएं होंगी पूरी और मिलेगा लाभ




रेवांचल टाईम्स:हर इंसान अपने देवता की पूजा (puja path) करता है. लेकिन, सबकी पूजा करने की विधि अलग प्रकार की होती है. आज हम आपको यही बताएंगे कि लोगों को किस तरीके से अपने भगवान का पूजन करना चाहिए. वैसे तो उपासना करना भाव पूर्ण कार्य है. जिसका अर्थ है कि आप शुद्ध हृदय से उपासना करें. लेकिन, आजकल सभी की जिंदगी इतनी ज्यादा व्यस्त हो गई है कि ऐसा भाव बन नहीं पाता है. फिर भी पूजन में कुछ नियमों (puja path niyam) का पालन जरूर करना चाहिए और एक चरणबद्ध तरीके से धीरे-धीरे अपनी साधना को चरणबद्ध तरीके से उन्नत करना चाहिए. क्योंकि विधि-विधान से की गई उपासना मन को मजबूत करती है. ऐसा नियमित तौर पर करने से बहुत लाभ (rules of puja) होता है.

पूजा-उपासना के दौरान इन नियमों का करें पालन -

प्रभु को उन सब चीजों के लिए धन्‍यवाद दें जो उन्‍होंने अब तक दिया है. हर रोज ढेर सारी समस्‍याएं न गिनाएं.

उपासना करने से पहले स्नान करें और फिर शांत चित्त से पूजा (worship niyam) घर में जाएं.

किसी भी प्रकार की कोई जल्दी न करें. भले ही 5 मिनट पूजा करें लेकिन उस बीच में अपने ऑफिस और घर का तनाव या व्‍यवस्‍तता आदि सब भूल कर केवल पूजा में फोकस करें.

यह भी पढ़े : Suparshvanath Bhagwan Chalisa: सुपार्श्वनाथ भगवान की चालीस दिन तक पढ़ेंगे ये चालीसा, संकट जाएंगे कट और पूरी होगी मनचाही इच्छा

पूजा शुरू करने से पहले पूजा स्थान को साफ अवश्य कर लें. फोटो को साफ कपड़े से पोंछ लें. अगर भगवान की कोई मूर्ति है तो उसको स्नान करा लें.

पूजा में सबसे पहले पंच तत्वों की मौजूदगी होनी आवश्यक है. ये पंच तत्व हैं- अग्नि, पृथ्वी, वायु, जल और आकाश. जब हम पूजा घर में पहुंचते हैं तो हमारे पास इन पंचतत्व में तीन तत्व पहले से ही उपस्थित रहते हैं, आकाश, वायु और पृथ्वी. बस हमें आवश्यकता पड़ती है अग्नि तत्व की और जल तत्व की इसलिए सबसे पहले एक छोटा सा देसी घी का दीपक जलाएं. इसके अलावा कलश में साफ जल रखें. इसके बाद आप आंख बंद करके प्रार्थना करिए और जो भी आपकी समस्याएं हैं, वह प्रभु से शेयर करें.

पूजा के दौरान बांस की डंडी वाली अगरबत्ती का प्रयोग नहीं करना चाहिए. क्योंकि बांस का प्रयोग पूजा में निषिद्ध होता है. इसके स्थान पर धूपबत्ती का इस्तेमाल करें.




उपासना प्रारम्भ करते ही सर्वप्रथम गणपति जी को प्रणाम करना अनिवार्य होता है. पूजा का श्री गणेश करने के लिए गणेश जी की उपासना करना जरूरी होती है.

पूजा के अंत में एक छोटे से कलश में जल लेकर घर की तुलसी माता को जल चढ़ाएं. अगर आपके यहां तुलसी नहीं लगी है तो आज ही ले आएं. तुलसी मां का आशीर्वाद लेना बहुत जरूरी (puja path dhoop) होता है.

No comments:

Post a Comment