सूर्यास्त के बाद भूलकर भी न करें इन चीजों का दान, उठाने पड़ सकते हैं भारी नुकसान - revanchal times new

revanchal times new

निष्पक्ष एवं सत्य का प्रवर्तक

Breaking

🙏जय माता दी🙏 शुभारंभ शुभारंभ माँ नर्मदा की कृपा और बुजुर्गों के आशीर्वाद से माँ रेवा पब्लिकेशन एन्ड प्रिंटर्स का हुआ शुभारंभ समाचार पत्रों की प्रिंटिग हेतु संपर्क करें मोबाईल न- 0761- 4112552/07415685293, 09340553112,/ 9425852299/08770497044 पता:- 68/1 लक्ष्मीपुर विवेकानंद वार्ड मुस्कान प्लाजा के पीछे एम आर 4 रोड़ उखरी जबलपुर (म.प्र.)

Monday, May 9, 2022

सूर्यास्त के बाद भूलकर भी न करें इन चीजों का दान, उठाने पड़ सकते हैं भारी नुकसान

  




रेवांचल टाईम्स:हिंदू धर्म में दान करना सबसे बड़ा पुण्य माना गया है। कहा जाता है कि अगर कोई दरवाजे पर आए तो उसे कभी भी खाली हाथ नहीं लौटाना चाहिए। वैसे भी दान-पुण्य करने से सकारात्मक ऊर्जा का संचार होने के साथ ही आंतरिक प्रसन्नता भी मिलती है। लेकिन कई बार हमारे पड़ोसी या आस-पास के लोग कोई जरूरी सामान लेने आ जाते हैं, जिन्हें हम मना नहीं कर पाते। तो ऐसे में वो चीजें उन्हें अवश्य दें, लेकिन कुछ विशेष बातों का ध्यान अवश्य रखें अन्यथा ये छोटी सी गलती आपको दरिद्र बना सकती है। दान करने के भी कुछ ज्योतिष नियम होते हैं आइये आपको बताते हैं कौन से हैं ये नियम…

सूर्यास्त के बाद किसी से उधार लेन-देन भूलकर भी न करें। शाम के वक्त किसी से उधार के तौर पर लिए गए पैसे कभी सफल नहीं होते। इतना ही नहीं, उस व्यक्ति की नेगेटिविटी भी आपके पास आ सकती है। इसके अलावा कहा जाता है कि ऐसा करने से मां लक्ष्मी भी चली जाती है। ऐसे में आप निर्धन भी हो सकते हैं।शाम के समय दूध या दही का दान भी नहीं करना चाहिए। दूध का संबंध चंद्रमा और सूर्य से जबकि दही का संबंध शुक्र से माना गया है। शाम के समय इनका दान करने से घर की बरकत चली जाती है और जीवन में सुख और वैभव में कमी आने लगती है।
ऐसा माना जाता है कि सूर्यास्त के बाद लहसुन या प्याज किसी को भी भूलकर भी न दें। ज्योतिष के अनुसार, लहसुन और प्याज का संबंध केतु से माना जाता है। केतु को ऊपरी ताकत का स्वामी भी माना जाता है। सूर्यास्त के बाद इन चीजों का लेन-देन करना काफी अशुभ माना गया है।

No comments:

Post a Comment