गर्मी में पेट की ठंडक बढ़ाने के ल‍िए खाएं इन 4 आटों की रोटियां, पाचन रहेगा फिट और सेहत रहेगी तंदरुस्‍त - revanchal times new

revanchal times new

निष्पक्ष एवं सत्य का प्रवर्तक

Breaking

🙏जय माता दी🙏 शुभारंभ शुभारंभ माँ नर्मदा की कृपा और बुजुर्गों के आशीर्वाद से माँ रेवा पब्लिकेशन एन्ड प्रिंटर्स का हुआ शुभारंभ समाचार पत्रों की प्रिंटिग हेतु संपर्क करें मोबाईल न- 0761- 4112552/07415685293, 09340553112,/ 9425852299/08770497044 पता:- 68/1 लक्ष्मीपुर विवेकानंद वार्ड मुस्कान प्लाजा के पीछे एम आर 4 रोड़ उखरी जबलपुर (म.प्र.)

Wednesday, May 4, 2022

गर्मी में पेट की ठंडक बढ़ाने के ल‍िए खाएं इन 4 आटों की रोटियां, पाचन रहेगा फिट और सेहत रहेगी तंदरुस्‍त



जिस प्रकार सर्दियों में गर्म भोजन का सेवन करना लाभकारी होता है, उसी प्रकार गर्मी के मौसम में ठंडे स्वाद वाले खाद्य पदार्थों को महत्व देना चाहिए। ताकि गर्मी के मौसम में शरीर को ठंडा रखा जा सके, पेट की गर्मी को शांत किया जा सके। वैसे तो गर्मियों में लोग शरीर को ठंडा रखने के लिए तरह-तरह के खाद्य पदार्थों का सेवन करते हैं, लेकिन रोटी एक ऐसी डाइट है जिसे हर कोई दिन में 1 या 2 बार खाता है। सर्दियों में रागी, बाजरा, एक प्रकार का अनाज आदि से बनी रोटियों का सेवन किया जाता है। लेकिन गर्मियों में भी, आपको आटा बदलने की जरूरत है।

गर्मियों के लिए गेहूं का आटा अब जबकि गर्मी का मौसम आ गया है, आप अपनी डाइट में गेहूं की रोटियों को शामिल कर सकते हैं। गेहूं में कूलिंग इफेक्‍ट होता है, इसलिए इसका सेवन गर्मियों में किया जा सकता है। गेहूं का आटा पोषक तत्वों से भरपूर होता है। गेहूं की भूसी खाने से पाचन क्रिया बेहतर होती है। गेहूं के गुण खून को भी शुद्ध करते हैं। गेहूं में फाइबर की मात्रा अधिक होती है, जो वजन कम करने में कारगर है। थायराइड के मरीजों के लिए भी गेहूं का आटा फायदेमंद होता है।

चना का आटा गर्मियों में बेसन से बनी रोटियां भी खाई जा सकती हैं. चने के आटे में शीतलन प्रभाव होता है, इसलिए यह गर्मी के मौसम के लिए उपयुक्त है। चने का आटा प्रोटीन से भरपूर होता है। 1 कप बेसन में करीब 20 ग्राम प्रोटीन होता है। चने का आटा मांसपेशियों के निर्माण और वजन को नियंत्रण में रखने में भी सहायक होता है। चने को आटे को ज्यादातर लोग बेसन ही समझते हैं, लेकिन चने का आटा और बेसन एक दूसरे से अलग होते हैं। बेसन को परिष्कृत किया जाता है, इसके सभी फाइबर को हटा दिया जाता है। वही चने का आटा छिलके सहित पिसा हुआ होता है, बेसन से मोटा होता है और फाइबर से भी भरपूर होता है।

जौं का आटा गर्मियों में ज्यादातर लोग अपने पेट को ठंडा रखने के लिए जौ का पानी पीते हैं। लेकिन आप चाहें तो जौ को पीसकर उसका आटा तैयार कर सकते हैं, गर्मियों में आप इसकी रोटियां बना सकते हैं. जौ को गर्मियों में फायदेमंद माना जाता है क्योंकि इसका शीतलन प्रभाव होता है। इसके अलावा जौ पोषक तत्वों से भी भरपूर होता है। जौ के आटे से बनी रोटियां खाने से पेट से संबंधित परेशानियां दूर होती हैं। जौ ठंडा होता है, इसलिए यह गर्मी से होने वाले कील मुंहासों से भी बचाता है। मधुमेह रोगियों के लिए भी जौ की रोटी फायदेमंद होती है।


No comments:

Post a Comment