आसमान पर दिखने वाली चमकीली रोशनी कुछ और नहीं सेटेलाइट की रॉकेट का मलवा - revanchal times new

revanchal times new

निष्पक्ष एवं सत्य का प्रवर्तक

Breaking

रेवांचल टाइम्स अखबार पाठकों से अनुरोध करता है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें.. ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें... साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए.. प्रकाशन हेतु ख़बरें, विज्ञप्ति मोबाइल- 9406771592 पर व्हाट्सएप्प करें

Sunday, April 3, 2022

आसमान पर दिखने वाली चमकीली रोशनी कुछ और नहीं सेटेलाइट की रॉकेट का मलवा






रेवांचल टाइम्स  - महाराष्ट्र के चंद्रपुर जिले के सिंधवानी गांव में गिरा रॉकेट का मलबा भारत के हिस्सों में शनिवार की रात आकाश एक नजारा देखा गया महाराष्ट्र और मध्य प्रदेश केकई जिलों में रात के अंधेरे को चीरते हुए चमकीली रोशनी देखी गई जिसे देखकर लोग हक्के बक्के रह गए जिससे कयास लगाए जा रहे थे कि यह उल्कापिंड की बारिश तो नहीं कुछ लोगों द्वारा इस घटना का वीडियो भी बनाया गया जैसे सोशल मीडिया में डाल दिया गया जिससे वीडियो जमकर वायरल  हो गया कुछ खगोल वैज्ञानिकों का दावा है कि यह उल्कापिंड की बारिश नहीं सैटेलाइट के रॉकेट का मलबा हो सकता है जो धरती के वातावरण में प्रवेश करते ही जलते रहे  एक अमरीकी वैज्ञानिक ने  दावा किया कि यह एक चाइनीस सैटेलाइट के रॉकेट का मलवा था आकाश में अद्भुत नजारा महाराष्ट्र के नागपुर चंद्रपुर अकोला जलगांव आदि जिलों में देखा गया वही मध्य प्रदेश के इंदौर खरगोन झाबुआ और बड़वानी जिले के साथ-साथ छिंदवाड़ा में भी देखा गया जिस जिसे कई लोगों द्वारा देखने का दावा भी किया गया अमरीका के एक साइंटिस्ट जॉनाथन मैकडॉवेल ने ट्वीट करके बताया कि यह चीन का चेंग  झेग 3 बी था जोकि धरती के वातावरण में फिर से इंट्री कर गया धरती की तरफ संपर्क में आने की वजह से जल रहे चीन का रॉकेट चेंग झैंग 3 बी सीरियल नंबर 77 इसी रास्ते से गिरना था जिससे चमकीली रेखा  उसी के जलने से निर्मित हुई


महाराष्ट्र के चंद्रपुर जिले के सिंधवानी ग्राम में गिरा मलबा


मिली जानकारी के अनुसार चीनी सेटेलाइट के रॉकेट  का मलबा चंद्रपुर के सिंधवानी गांव के खेतों में गिरते देखा गया जिसके पश्चात ग्रामीणों ने प्रशासनिक अधिकारियों को इसकी सूचना दी गई वहीं ग्रामीणों के मदद से मरने के अंश को ट्रैक्टर में लादकर थाने पहुंचाया गया जहां जांच के लिए लैबोरेट्री में भेजा गया

No comments:

Post a Comment