हवाई जहाज के पीछे क्यों बनती है सफेद लकीरें? जानिए इसका साइंस - revanchal times new

revanchal times new

निष्पक्ष एवं सत्य का प्रवर्तक

Breaking

रेवांचल टाइम्स अखबार पाठकों से अनुरोध करता है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें.. ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें... साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए.. प्रकाशन हेतु ख़बरें, विज्ञप्ति मोबाइल- 9406771592 पर व्हाट्सएप्प करें

 आवश्कता है  आवश्कता है ....

रेवांचल टाईम्स समाचार पत्र एव वेव पोर्टल में मध्यप्रदेश के सभी संभाग, जिला, तहसील, विकास खंडों, में संवाददाताओं की एंव विज्ञापनों व खबरों से सबंधित व्यक्ति संपर्क करें इन नम्बरों में 👉 9406771592/ 9425117297/ 8770297430/9165745947

Friday, April 29, 2022

हवाई जहाज के पीछे क्यों बनती है सफेद लकीरें? जानिए इसका साइंस



आपने आसमान में उड़ते हुए हवाई जहाज को तो देखा ही होगा। साथ ही आपने देखा होगा कि जब हवाई जहाज उड़ता है तो उसके पीछे सफेद लकीरे बनती है। लेकिन क्या आपको पता है कि आखिर ये लकीरें क्यों बनती है। कुछ लोगों का कहना होता है कि यह हवाई जहाज से निकलने वाल धुंए से बतनी है। तो कुछ लोगों का कहना होता है कि बर्फ की लकीरे बनती है। तो क्या है इन लकीरों का साइंस आइए बताते है।

क्यों बनती हैं लकीरें?

मीडिया की रिपोर्टो के अनुसार आसमान में बनने वाली इस सफेद लकीर को कंट्रेल्स (Contrales) कहते हैं। जो एक तरह से बादल होते है। लेकिन यह आम बादलों की तरह नहीं बनते। ये बादल आसमान में काई उंचाई पर और हवाई जहाज या रॉकेट के गुजरने के बाद ही बनते हैं ये बादल तब बनते हैं जब जहाज जमीन से करीब 8 किलोमीटर ऊपर और -40 डिग्री सेल्सियस में उड़ रहा हो। हवाई जहाज या रॉकेट के एग्जॉस्ट फैन से एरोसॉल्स जो एक तरह का धुआं होता है वह निकलता है। जब आसमान में उड़ान के दौरान नमी इन एरोसॉल्स से साथ जम जाती है तो कंट्रेल्स (Contrales) बनते हैं। ये कंट्रेल्स कुछ ही समय बाद गायब हो जाती है। इनके बनने की मुख्य वजह हवा में नमी होती है। ये कंट्रेल (Contrales) भी मौसम और ऊंचाई के हिसाब से अलग-अलग तरह के होते हैं। अगर नमी ज्यादा होती है तो यह धुआं काफी देर तक वैसे ही जमा रहता है। नमी कम होने पर धुआं तुरंत ही गायब हो जाता है।

No comments:

Post a Comment