दिल खोलकर घूमो हिंदुस्तान के दिल में आप सुरक्षित हो... - revanchal times new

revanchal times new

निष्पक्ष एवं सत्य का प्रवर्तक

Breaking

रेवांचल टाइम्स अखबार पाठकों से अनुरोध करता है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें.. ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें... साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए.. प्रकाशन हेतु ख़बरें, विज्ञप्ति मोबाइल- 9406771592 पर व्हाट्सएप्प करें

 आवश्कता है  आवश्कता है ....

रेवांचल टाईम्स समाचार पत्र एव वेव पोर्टल में मध्यप्रदेश के सभी संभाग, जिला, तहसील, विकास खंडों, में संवाददाताओं की एंव विज्ञापनों व खबरों से सबंधित व्यक्ति संपर्क करें इन नम्बरों में 👉 9406771592/ 9425117297/ 8770297430/9165745947

Thursday, March 10, 2022

दिल खोलकर घूमो हिंदुस्तान के दिल में आप सुरक्षित हो...




रेवांचल टाईम्स– इंडियन ग्रामीण संस्था द्वारा महिलाओं हेतु सुरक्षित पर्यटन स्थल परियोजना के अंतर्गत जिला स्तरीय उन्मुखीकरण कार्यशाला जिला कलेक्टर सिवनी की अध्यक्षता में आयोजित की गई इसीलिए यह कार्यशाला महिला दिवस के उपलक्ष्य में महिला एवं बाल विकास के समन्वय के साथ रखी गई। उपस्थित रहे कार्यक्रम में जिले से सभी आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं ने भाग लिया, स्वास्थ्य विभाग की टीम ने सब का स्वास्थ्य परीक्षण किया, कुल 450 सदस्यों ने अपनी उपस्थिति दी।

इंडियन ग्रामीण सर्विसेस की दिव्या रानू पटेल मैडम, रीना साहू जी, रूपम पठारीया, सानोद नागवंशी ने संस्था के परियोजना के उद्देश्य पर्यटन स्थल पेंच टाइगर रिजर्व में महिला पर्यटन को बढ़ावा देना ताकि उन्हें अनुकूल वातावरण मिल सके दरअसल पर्यटन बोर्ड में राज्य में 50 पर्यटन स्थल को महिलाओं के लिए सुरक्षित बनाने के लिए एक परियोजना शुरू करने का फैसला किया है। परियोजना की टैगलाइन "दिल खोल के घूमो हिंदुस्तान के दिल में आप सुरक्षित हैं" परियोजना पर विभिन्न धाराओं पर इनपुट प्राप्त करने के लिए एक कार्यशाला का आयोजन किया गया कार्यक्रम उद्घाटन ने कहा कि पर्यटन स्थलों को महिलाओं के लिए सुरक्षित बनाना ना केवल प्रशासनिक बल्कि सरकार की नैतिक जिम्मेदारी भी है। राज्य में 50 पर्यटन स्थल जो इन में शामिल है तामिया, छिंदवाड़ा, चंबल, पचमढ़ी, शहडोल, खुजराहो, चंदेरी, दतिया, सांची, उज्जैन और बुरहानपुर है। इस परियोजना के तहत इन जगहों पर काम करने वाली करीब 40,000 महिलाओं को आत्म रक्षा का प्रशिक्षण दिया जा रहा है। पर्यटन को महिलाओं के लिए सुरक्षित कैसे बनाया जाए इस पर शोध की जरूरत है। यह परियोजना हमें उस दिशा में मूल्यवान इनपुट प्रदान करेगी उन्होंने कहा कि इस परियोजना से पुलिस बल को संवेदनशील बनाने में मदद मिलेगी। पुलिस महिलाओं को आत्मरक्षा का प्रशिक्षण देने में भी मदद करेगी। उन्होंने इस परियोजना को महत्वकांक्षी सामयिक और सामाजिक रूप से उपयोगी बताया। बता दें कि बोर्ड की योजना लगभग 10,000 महिलाओं को कुशल प्रशिक्षण प्रदान करने की है ताकि वह आतिथ्य क्षेत्र में टूर ऑपरेटर, फ्रंट ऑफिस स्टाफ, टैक्सी ड्राइवर आदि के रूप में काम कर सकें।


रेवांचल टाईम्स के साथ विनोद दुबे की रिपोर्ट

No comments:

Post a Comment