खंड शिक्षा अधिकारी शिक्षक से मांग रहा है खुलेआम पैसा व्यवस्था के नाम पर शासकीय अधिकारियों द्वारा की जाती है पैसों की माँग, शोसल मीडिया में ऑडियो वारयल... - revanchal times new

revanchal times new

निष्पक्ष एवं सत्य का प्रवर्तक

Breaking

रेवांचल टाइम्स अखबार पाठकों से अनुरोध करता है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें.. ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें... साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए.. प्रकाशन हेतु ख़बरें, विज्ञप्ति मोबाइल- 9406771592 पर व्हाट्सएप्प करें

 आवश्कता है  आवश्कता है ....

रेवांचल टाईम्स समाचार पत्र एव वेव पोर्टल में मध्यप्रदेश के सभी संभाग, जिला, तहसील, विकास खंडों, में संवाददाताओं की एंव विज्ञापनों व खबरों से सबंधित व्यक्ति संपर्क करें इन नम्बरों में 👉 9406771592/ 9425117297/ 8770297430/9165745947

Sunday, March 13, 2022

खंड शिक्षा अधिकारी शिक्षक से मांग रहा है खुलेआम पैसा व्यवस्था के नाम पर शासकीय अधिकारियों द्वारा की जाती है पैसों की माँग, शोसल मीडिया में ऑडियो वारयल...


रेवांचल टाईम्स - प्रदेश में भ्रष्टाचार रुकने का नाम नही ले रहा है आज कल हर अधिकारी कर्मचारी को सरकार से मिलने वाली वेतन कम पड़ती नजर आ रहा है, हर सरकारी अधिकारी कर्मचारी सरकारी काम के बदले अलग से सेवा शुल्क की डिमांड रहती है सेवा शुल्क न मिलने पर दफ्तरों के चक्कर काटने पड़ते है। वही सरकार भी इन भ्रष्ट अधिकारियों को रोकने के लिए अनेक जांच एजेन्सी बनाई है पर उनमें भी कही न कही भ्रष्टाचार सामने आने लगा है वो जांच एजेंसी भी न काम सावित होते नजर आ रही है जिस कारण आज हर दफ्तरों में खुलेआम रिश्वत की डिमांड की जा रही है।

              वही जानकारी के अनुसार बड़ी तेजी से शोशल मीडिया के में एक ऑडियो वायरल हो रहा है जहाँ पर खंड शिक्षा अधिकारी अपने अधीनस्थ पदस्थ शिक्षक से व्यवस्था के साथ कार्यालय में आने को कहा जा रहा है मामला शहडोल के बुढार ब्लॉक का है जहां पर पदस्थ विकास खंड अधिकारी निगम जी के द्वारा नियमों को दरकिनार करते हुए सीनियर आदिवासी बालक छात्रावास रसमोहनी में बिना वरिष्ठ कार्यालय के अनुमति सहायक शिक्षक विनोद बरगाही को उक्त छात्रावास का एक पक्षीय प्रभार सौंप प्रभारी नियुक्ति की गया हैं औऱ बदले में व्यवस्था के नाम पर पैसों की मांग की जा रही हैं।जो कि आडियो में स्पष्ट सुना जा सकता है।आजकल शासकीय अधिकारियों ने पैसों को व्यवस्था का नाम दे दिया है अब इनके मुखिया ही बता पायेंगे की व्यवस्था की परिभाषा क्या है।


इस त्यौहार हो जाये खास.... बस क्लिक करें और जाने मिठाई बनाने की विधि

खजूर ड्राईफ्रूट बर्फी

तिल मूंगफली की बर्फी


लौकी की बर्फी


आम की बर्फी


मूंगदाल की बर्फी


झटपट कलाकन्द


बेसन नारियल बर्फी



तिल आटे की बर्फी



तिल मावा बर्फी



गोंद के लड्डू



गाजर की बर्फी

No comments:

Post a Comment