खैरा पलारी के क्षैत्रो में गांव-गांव बिक रही है अवैध देशी विदेशी शराब..एंव सटोरिए हो रहे हैं मालामाल..... जिम्मेदार है बेखबर.....? - revanchal times new

revanchal times new

निष्पक्ष एवं सत्य का प्रवर्तक

Breaking

रेवांचल टाइम्स अखबार पाठकों से अनुरोध करता है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें.. ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें... साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए.. प्रकाशन हेतु ख़बरें, विज्ञप्ति मोबाइल- 9406771592 पर व्हाट्सएप्प करें

 आवश्कता है  आवश्कता है ....

रेवांचल टाईम्स समाचार पत्र एव वेव पोर्टल में मध्यप्रदेश के सभी संभाग, जिला, तहसील, विकास खंडों, में संवाददाताओं की एंव विज्ञापनों व खबरों से सबंधित व्यक्ति संपर्क करें इन नम्बरों में 👉 9406771592/ 9425117297/ 8770297430/9165745947

Monday, March 14, 2022

खैरा पलारी के क्षैत्रो में गांव-गांव बिक रही है अवैध देशी विदेशी शराब..एंव सटोरिए हो रहे हैं मालामाल..... जिम्मेदार है बेखबर.....?




रेवांचल टाईम्स - इन दिनों जिले का ऐसा कोई नगर या गांव नही है। जहाँ पर आसानी से शराब उपलब्ध न हो जाये विभाग ने तो धृतराष्ट्र की तरह आँखों मे पट्टी बांध रखी हुई है। इसी तर्ज में एक ओर ममाला सामने आया है जो कि 

           खैरा पलारी जो मिनी पंजाब के नाम से जाना जाता है। एंव  आस पास  क्षेत्रों में बिना लाइसेंस के अवैध रूप से अंग्रेजी व देशी शराब धडल्ले से बिक रही है। वही शटोरियो एंव ज्वारियो की भी बल्ले बल्ले है।


सूत्रों से प्राप्त जानकारी के अनुसार इन दिनों खैरा पलारी के आस पास क्षेत्रों में बिना लाइसेंस के अवैध रूप से अंग्रेजी व देशी शराब के ठेके संचालित हैं, ।खूले आम  चाय दूकानों एवं अन्य दुकानों में डायरी लेकर सट्टा नम्बर लिखा जा रहा है। धड़ल्ले से जगहों जगहों जुआ के फड लग रहे है। जिसमें  खापा बाजार मे  दुकानों पर  लोगों द्वारा टपरियों में शाम होते ही दारूबाजों का जमघट लग जाता है। बेमुल्क नबाब इन दारूबाजों से गांव की शांतिभंग हो रही है। परंतु पुलिस प्रशासन एवं आबकारी विभाग से शिकायत के बावजूद भी कोई कदम नहीं उठाया गया है,। जिससे अवैध रूप से दारू बेचने वाले एवं पीने वालों के हौंसला बुलंद हैं।एंव सटोरिऐ माला माल हो रहे हैं।

जिसके चलते चोक चौराहों में जनचरचा हे कि पुलिस प्रशासन व आबकारी विभाग की अनदेखी के कारण  क्षेत्रों में अवैध रूप से बिना लाइसेंस के चल रहे अंग्रेजी व देशी शराब के ठेकों पर शाम से ही दारू पीने वालों का जमघट लगना शुरू हो जाता है।  शराब की ज्यादा से ज्यादा बिक्री और लोगों को आसानी से उपलब्ध कराने के लिए ग्रामीण क्षेत्रों में सरकारी ठेके की तर्ज पर दुकानों पर माल रखा है। दुकानों पर आसानी से मिल जाती है। इससे जहां एक ओर ग्रामीण अंचलों व क्षेत्रों का माहौल खराब हो रहा है। वही दूसरी ओर युवा पीढ़ी नशे की लत की आदी होती जा रही है। ऐसा भी नहीं है कि शराब के अवैध कारोबार की जानकारी आबकारी विभाग और पुलिस प्रशासन को न हो, लेकिन स्थानीय प्रशासन में अपनी सुस्ती व नाकामी का ही परिचय दे रहा है।


अखिल बन्देवार के साथ रेवांचल टाईम्स की एक रिपोर्ट

No comments:

Post a Comment