अगर आपको भी है फोन को सिरहाने रखकर सोने की आदत तो हो जाएं सावधान, मंडरा रहा है इस गंभीर बीमारी का खतरा - revanchal times new

revanchal times new

निष्पक्ष एवं सत्य का प्रवर्तक

Breaking

रेवांचल टाइम्स अखबार पाठकों से अनुरोध करता है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें.. ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें... साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए.. प्रकाशन हेतु ख़बरें, विज्ञप्ति मोबाइल- 9406771592 पर व्हाट्सएप्प करें

 आवश्कता है  आवश्कता है ....

रेवांचल टाईम्स समाचार पत्र एव वेव पोर्टल में मध्यप्रदेश के सभी संभाग, जिला, तहसील, विकास खंडों, में संवाददाताओं की एंव विज्ञापनों व खबरों से सबंधित व्यक्ति संपर्क करें इन नम्बरों में 👉 9406771592/ 9425117297/ 8770297430/9165745947

Tuesday, March 15, 2022

अगर आपको भी है फोन को सिरहाने रखकर सोने की आदत तो हो जाएं सावधान, मंडरा रहा है इस गंभीर बीमारी का खतरा




रेवांचल टाईम्स:मोबाइल फोन आजकल लोगों की जिंदगी का अहम हिस्सा बन चुका है. रात को सोते वक्त भी बहुत से लोग मोबाइल फोन को अपने सिरहाने पर रखकर सोते हैं. यदि आप भी ऐसा करते हैं तो आपको तुरंत ही सावधान होने की जरूरत है. ऐसा करने के दौरान आपको संभलन जाना चाहिए, क्योंकि आपका स्मार्टफोन आपको गंभीर बीमारियां दे रहा है. ब्रिटेन की एक्जिटर यूनिवर्सिटी के एक रिसर्च में इस बात का पता चला है कि स्मार्ट फोन से निकलने वाली विकिरणों से कैंसर और नपुंसकता का खतरा बढ़ता है.

अंतरराष्ट्रीय कैंसर रिसर्च एजेंसी ने स्मार्ट फोन से निकलने वाली इलेक्ट्रो मैग्नेटिक विकिरणों को कार्सिनोजन यानि कैंसरकारी तत्वों की श्रेणी में रखा. ICRA ने चेतावनी दी है कि स्मार्ट फोन का अधिक इस्तेमाल कान और मस्तिष्क में ट्यूमर पनपने की वजह बनता है. आगे चलकर इसके कैंसर का रूप लेने की संभावना बढ़ती है. साल 2014 में प्रकाशित एक अध्ययन के अनुसार, स्मार्ट फोन से निकलने वाली इलेक्ट्रो मैग्नेटिक विकिरणों का नपुंसकता से सीधा संबंध है.

शोधकर्ताओं ने चेतावनी दी कि पैंट की जेब में स्मार्ट फोन रखने से शुक्राणुओं का उत्पादन घटता है. इसके अलावा अंडाणुओं को निषेचित करने की गति भी धीमी पड़ जाती है. यदि आप फोन को तकिये के नीचे रखकर सोते हैं तो तुरंत ही इस आदत को छोड़ दें. ऐसा करने से आपका स्मार्ट फोन फट सकता है



वहीं, साल 2017 में इजरायल की हाइफा यूनिवर्सिटी के अध्ययन में कहा गया कि सोने से आधे घंटे पहले स्क्रीन का इस्तेमाल बंद कर देना चाहिए. शोधकर्ताओं ने कहा कि स्मार्टफोन, कंप्यूटर तथा टीवी की स्क्रीन से निकलने वाली नीली रोशनी ‘स्लीप हार्मोन’ मेलाटोनिन का उत्पादन बाधित करती है. इससे लोगों को सोने में दिक्कत आने लगती है.

No comments:

Post a Comment