दूध व खाद्य तेल महंगा और शराब सस्ती, यही है भाजपा सरकार के बजट का असली निचोड़-विधायक बिछिया - revanchal times new

revanchal times new

निष्पक्ष एवं सत्य का प्रवर्तक

Breaking

🙏जय माता दी🙏 शुभारंभ शुभारंभ माँ नर्मदा की कृपा और बुजुर्गों के आशीर्वाद से माँ रेवा पब्लिकेशन एन्ड प्रिंटर्स का हुआ शुभारंभ समाचार पत्रों की प्रिंटिग हेतु संपर्क करें मोबाईल न- 0761- 4112552/07415685293, 09340553112,/ 9425852299/08770497044 पता:- 68/1 लक्ष्मीपुर विवेकानंद वार्ड मुस्कान प्लाजा के पीछे एम आर 4 रोड़ उखरी जबलपुर (म.प्र.)

Wednesday, March 9, 2022

दूध व खाद्य तेल महंगा और शराब सस्ती, यही है भाजपा सरकार के बजट का असली निचोड़-विधायक बिछिया


 


रेवांचल टाईम्स - विधानसभा में आज प्रस्तुत हुए बजट पर अपनी कड़ी प्रतिक्रिया देते हुए बिछिया विधायक ने कहा है कि मप्र की भाजपा सरकार का यह बजट झूठी घोषणाओं का पुलिंदा होने के साथ प्रदेश की आम जनता को गुमराह करने वाला और उन्हें आर्थिक त्रासदी की ओर ले जाने वाला बजट है। प्रदेश में बेरोजगारी चरम पर है, 30 लाख से ज्यादा युवा बेरोजगार हैं उनके लिए कोई विशेष प्रावधान न करके मात्र 150 करोड़ रुपये का प्रावधान इस बजट में किया गया है जो बेरोजगार युवाओं का मजाक उड़ाने जैसा है। प्रदेश के कर्मचारी पुरानी पेंशन बहाली की मांग कर रहे हैं लेकिन इसे लेकर भी बजट में कोई उल्लेख नहीं है और न ही सरकार इस पर कोई चर्चा चाहती है। प्रदेश के स्कूलों में लाखों शिक्षकों की कमी है, लेकिन बजट में मात्र 13 हजार शिक्षकों की भर्ती का प्रावधान किया गया है वहीं पिछले बजट में शिक्षक भर्ती का जो प्रावधान किया गया था उसे आज तक पूरा नहीं किया गया है। प्रदेश में सड़कों की स्तिथि खराब है ग्रामीण क्षेत्रों में सड़क मार्गों के निर्माण की अत्यंत आवश्यकता है लेकिन बजट में मात्र 4 हजार किमी सड़को के निर्माण का प्रावधान किया गया है जो एक तरह से आम जनता की मांगों व जरूरतों का अपमान है। महंगाई से राहत दिलाने वाली कोई बात इस बजट में नहीं है। पेट्रोल डीजल रसोई गैस से लेकर खाद्य सामग्रियों के दाम आसमान छू रहे हैं लेकिन इन दामों में कोई कमी हो ऐसा कोई प्रावधान बजट में दूर दूर तक नहीं है। आम आदमी को राहत देने की बजाय भाजपा सरकार का यह बजट उनकी मुश्किलें बढ़ाने वाला बजट है। आदिवासी वर्ग के कल्याण के लिए कोई विशेष प्राथमिकता इस बजट में नहीं है। आदिवासी विकास की जो राशि जिलों को प्राप्त होनी चाहिए उसमें भी भारी कटौती की गई है। आदिवासी विकास मद की राशि सड़कों के निर्माण में खर्च किये जाने का प्रावधान भाजपा सरकार की आदिवासी विरोधी मानसिकता का परिचायक है। पूर्व वर्ष में पिछड़ा वर्ग व अल्पसंख्यक वर्ग के विद्यार्थियों को जो छात्रवृत्ति मिलनी थी वो आजतक नहीं मिली है, इस बजट में उसके प्रति सरकार के कोई प्रावधान नहीं हैं। स्वास्थ्य के क्षेत्र में जहां स्वास्थ्य केंद्रों की संख्या व स्वास्थ्य सुविधाओं में बढ़ोतरी करनी थी उस दिशा में सरकार का बजट दिशाहीन है। भाजपा की शिवराज सरकार में दूध व खाने का तेल महंगा और शराब सस्ती यही इस बजट का असली निचोड़ है।

No comments:

Post a Comment