बलात्कार के आरोपी विक्की उर्फ विक्रम खरे को 20 वर्ष का सश्रम कारावास- नैनपुर न्यायालय में पहली बार 20 साल की सजा... - revanchal times new

revanchal times new

निष्पक्ष एवं सत्य का प्रवर्तक

Breaking

🙏जय माता दी🙏 शुभारंभ शुभारंभ माँ नर्मदा की कृपा और बुजुर्गों के आशीर्वाद से माँ रेवा पब्लिकेशन एन्ड प्रिंटर्स का हुआ शुभारंभ समाचार पत्रों की प्रिंटिग हेतु संपर्क करें मोबाईल न- 0761- 4112552/07415685293, 09340553112,/ 9425852299/08770497044 पता:- 68/1 लक्ष्मीपुर विवेकानंद वार्ड मुस्कान प्लाजा के पीछे एम आर 4 रोड़ उखरी जबलपुर (म.प्र.)

Wednesday, March 16, 2022

बलात्कार के आरोपी विक्की उर्फ विक्रम खरे को 20 वर्ष का सश्रम कारावास- नैनपुर न्यायालय में पहली बार 20 साल की सजा...



रेवांचल टाइम्स -- जिला मंडला के अंतर्गत आने वाले विकास नैनपुर में माननीय तृतीय अपर सत्र न्यायाधीश श्रृंख्ला न्यायालय नैनपुर डी०आर०अहिरवार द्वारा अभियुक्त विक्की उर्फ विक्रम खरे पिता गंगाराम खरे, आयु 19वर्ष, निवासी-वार्ड नं0 7 ईटका नैनपुर, थाना- नैनपुर, जिला मण्डला म०प्र० को दोषसिद्ध पाते हुए धारा 376 (3) एवं धारा 376 (क) (ख) भादवि एवं 5/6 पॉक्सो के अपराध में 20-20 वर्ष का कठोर कारावास एवं 2500/- रूपये के अर्थदंड से दंडित किया गया है। विशेष लोक अभियोजक विजय अहिरवार द्वारा बताया गया कि पीड़िता की मां ने थाना नैनपुर में दिनांक-24.09.2020 को इस आशय की रिपोर्ट दर्ज कराई कि दो दिन पहले जब पीडिता अपनी सहेलियों के साथ खेल रही थी तब मोहल्ले का रहने वाला विक्रम खरे ने इसकी लड़की उम्र 10 वर्ष को सीताफल तोड़ने के बहाने अपने साथ जबरदस्ती ले जा कर  बलात्कार किया है। रिपोर्ट पर अपराध पंजीबद्ध कर प्रकरण विवेचना में लिया गया एवं विवेचना महिला उपनिरीक्षक श्रीमति कृष्णा उईके द्वारा की गई।

संपूर्ण विवेचना उपरांत अभियोग पत्र माननीय न्यायालय में प्रस्तुत किया गया विचारण के दौरान अभियोजन द्वारा प्रस्तुत साक्ष्य के मूल्यांकन एवं तर्कों से सहमत होते हुए माननीय तृतीय अपर सत्र न्यायाधीश श्रृंख्ला न्यायालय नैनपुर, डी. आर. अहिरवार द्वारा अभियुक्त विक्की उर्फ विक्रम खरे पिता गंगाराम खरे, आयु 19 वर्ष, निवासी-वार्ड नं0 7 ईटका नैनपुर, थाना-नैनपुर जिला मण्डला म०प्र० को दोषसिद्ध पाते हुए धारा 376 ( 3 ) एवं धारा 376 ( क ) (ख) भादवि एवं 5/6 पॉक्सो के अपराध में 20-20 वर्ष का कठोर कारावास एवं 2500/- रूपये के अर्थदंड से दंडित किया गया है। प्रकरण में शासन की ओर से पैरवी सहायक जिला लोक अभियोजन अधिकारी / विशेष लोक अभियोजक विजय अहिरवार द्वारा की गई।

No comments:

Post a Comment