सीआरपी पुलिस जवान के बच्चों की आर्थिक स्थिति का संकट बच्चों की पालन पोषण में कानून का रोड़ा... - revanchal times new

revanchal times new

निष्पक्ष एवं सत्य का प्रवर्तक

Breaking

रेवांचल टाइम्स अखबार पाठकों से अनुरोध करता है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें.. ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें... साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए.. प्रकाशन हेतु ख़बरें, विज्ञप्ति मोबाइल- 9406771592 पर व्हाट्सएप्प करें

 आवश्कता है  आवश्कता है ....

रेवांचल टाईम्स समाचार पत्र एव वेव पोर्टल में मध्यप्रदेश के सभी संभाग, जिला, तहसील, विकास खंडों, में संवाददाताओं की एंव विज्ञापनों व खबरों से सबंधित व्यक्ति संपर्क करें इन नम्बरों में 👉 9406771592/ 9425117297/ 8770297430/9165745947

Friday, February 4, 2022

सीआरपी पुलिस जवान के बच्चों की आर्थिक स्थिति का संकट बच्चों की पालन पोषण में कानून का रोड़ा...




रेवांचल टाईम्स - मंडला जिले के विकास खंड मोहगाँव अंतर्गत ग्राम पंचायत सुडगाँव लोहार टोला निवासी स्वर्गीय विनोद कुमार तेकाम जोकि वह केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल बालाघाट में अपनी सेवाएं दे रहा था। वह अपने ग्रह ग्राम अवकाश लेकर घर आ हुआ  था। उसी दौरान 8/5/ 2019 को सड़क दुर्घटना के दौरान मृत्यु हो गई। वही 5-6 वर्ष पहले उनकी पत्नी की भी जुडवा बच्चों के जन्म के पश्चात 19/11/ 2013 को देहांत हो गई। इनके तीन संताने हैं भूपेंद्र तेकाम 11 वर्ष, वही जुड़वा बच्चे जानिजा तेकाम   8 वर्ष, जानिमाॅ तेकाम 8 वर्ष इन दोनों जुड़वा बच्चियों की जन्म के पश्चात माँ की मृत्यु हो गई थी। इन बच्चों की पालन- पोषण का संकट बहुत ही दयनीय स्थिति से गुजर रहा है। तीनों बच्चों का पालन पोषण बच्चों की बुआ कमलवती के द्वारा मजदूरी कर की जा रही है। जब देश के रक्षा करने वाले बच्चों की परवरिश के लिए शासन प्रशासन इस ओर ध्यान नहीं दिया जा रहा है। इन बच्चों को जन्म से ही किस प्रकार से पालन पोषण कर रहे हैं। बच्चों की चिंता करने के लिए शासन प्रशासन को विशेष ध्यान देना चाहिए। शासन से अभी तक आर्थिक सहायता राशि नहीं दी गई है। सिर्फ अंत्येष्टि राशि 50,000 रुपए प्राप्त हुई है। वही 3 वर्ष से दुर्घटना केस कोर्ट में लगे हुए हैं लेकिन अभी तक कोर्ट से उत्तराधिकारी प्रमाण पत्र के लिए कानून का रोडा लगा हुआ है। प्रमाण पत्र पाने के लिए कोर्ट का कईयों  चक्कर लगा डाले। उत्तराधिकारी प्रमाण पत्र नही मिलने से आर्थिक सहायता राशि नही मिल पा रहा है। इस कारण से तीनों बच्चों की परवरिश के लिए भारी आर्थिक तंगी से जूझ रहे हैं।

शासन प्रशासन को चाहिए कि इन तीनों बच्चों की परवरिश के लिए विशेष रूप से ध्यान देते हुए शीघ्र स्वीकृति कराने की कार्यवाही करें ताकि आगे इनके सही ढंग से पालन पोषण हो सके।

हीरा सिंह उइके की रिपोर्ट...

No comments:

Post a Comment