केंद्र ने लोकसभा को दी जानकारी, चीता परिचय परियोजना के लिए 38.70 करोड़ आवंटित किए गए - revanchal times new

revanchal times new

निष्पक्ष एवं सत्य का प्रवर्तक

Breaking

रेवांचल टाइम्स अखबार पाठकों से अनुरोध करता है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें.. ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें... साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए.. प्रकाशन हेतु ख़बरें, विज्ञप्ति मोबाइल- 9406771592 पर व्हाट्सएप्प करें

 आवश्कता है  आवश्कता है ....

रेवांचल टाईम्स समाचार पत्र एव वेव पोर्टल में मध्यप्रदेश के सभी संभाग, जिला, तहसील, विकास खंडों, में संवाददाताओं की एंव विज्ञापनों व खबरों से सबंधित व्यक्ति संपर्क करें इन नम्बरों में 👉 9406771592/ 9425117297/ 8770297430/9165745947

Tuesday, February 8, 2022

केंद्र ने लोकसभा को दी जानकारी, चीता परिचय परियोजना के लिए 38.70 करोड़ आवंटित किए गए



नई दिल्ली। केंद्र सरकार ने 2025-26 तक चीता परिचय परियोजना के लिए 38.70 करोड़ रुपये आवंटित किए हैं, केंद्र सरकार ने लोकसभा को जानकारी दी।
अश्विनी कुमार चौबे, पर्यावरण, वन और जलवायु राज्य मंत्री परिवर्तन, सोमवार को संसद को सूचित किया कि वर्ष 2021-22 से 2025-26 तक के लिए चीता परिचय परियोजना के लिए 'प्रोजेक्ट टाइगर' की चल रही केंद्र प्रायोजित योजना के तहत 38.70 करोड़ रुपये आवंटित किए गए हैं।

1952 में चीता को भारत में विलुप्त प्रजाति घोषित कर दिया गया था, वर्तमान में भारत में किसी भी राष्ट्रीय उद्यान या वन्यजीव अभयारण्य में कोई चीता नहीं है। स्वतंत्र भारत में विलुप्त होने वाला एकमात्र बड़ा मांसाहारी चीता है।

भारत सरकार चीतों को देश में लाने के लिए अफ्रीकी देशों के साथ परामर्श बैठकें आयोजित करने की प्रक्रिया में है। कार्य योजना के अनुसार पांच साल की अवधि में दक्षिण अफ्रीका या नामीबिया या अन्य अफ्रीकी देशों से कुल 12-14 चीतों को लाने का इरादा है।

केंद्रीय मंत्री ने कहा कि चीतों को जंगल में छोड़ने से पहले उपग्रह या जीएसएम-जीपीएस-वीएचएफ रेडियो-कॉलर से लैस किया जाएगा ताकि दूर से निगरानी की जा सके।

No comments:

Post a Comment