नाराज पितृों को करना चाहते हैं प्रसन्न, शनि अमावस्या के दिन कर लें बस ये काम - revanchal times new

revanchal times new

निष्पक्ष एवं सत्य का प्रवर्तक

Breaking

रेवांचल टाइम्स अखबार पाठकों से अनुरोध करता है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें.. ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें... साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए.. प्रकाशन हेतु ख़बरें, विज्ञप्ति मोबाइल- 9406771592 पर व्हाट्सएप्प करें

 आवश्कता है  आवश्कता है ....

रेवांचल टाईम्स समाचार पत्र एव वेव पोर्टल में मध्यप्रदेश के सभी संभाग, जिला, तहसील, विकास खंडों, में संवाददाताओं की एंव विज्ञापनों व खबरों से सबंधित व्यक्ति संपर्क करें इन नम्बरों में 👉 9406771592/ 9425117297/ 8770297430/9165745947

Thursday, December 2, 2021

नाराज पितृों को करना चाहते हैं प्रसन्न, शनि अमावस्या के दिन कर लें बस ये काम



अमावस्या का हिंदू धर्म में विशेष महत्व है. ऐसे में सोमवार, मंगलवार और शनिवार के दिन पड़ने वाली अमावस्या का महत्व और अधिक बढ़ जाता है. मार्गशीर्ष माह में पड़ने वाली अमावस्या इस बार शनिवार के दिन पड़ रही है. इस बार 4 दिसंबर, शनिवार के दिन अमावस्या है. शनिवार होने के कारण इसे शनैश्चरी अमावस्या (Shani Amavasya 2021) या शनि अमावस्या कहा जाता है. अमावस्या के दिन पितृों का खुश करके पितृ दोष (Pitru Dosh) से मुक्ति पाई जा सकती है. पितृ दोष (Pitru Dosh Dur Karne Ke Upay) लगने पर व्यक्ति के जीवन से उन्नति, तरक्की औप शांति चली जाती है. किसी कारणवश जब पितृ नाराज हो जाते हैं तो पितृ दोष लगता है. ऐसे में शनि अमावस्या (Shani Amavasya And Pitru Dosh) के दिन पितृ दोष से मुक्ति पा सकते हैं. आइए जानते हैं पितृ दोष (How To Get Rid Of Pitru Dosh)से मुक्ति पाने के लिए शनि अमावस्या (Shani Amavasya Ke Upay) के दिन क्या करना चाहिए.
शनि अमावस्या पर पितृ दोष से मुक्ति पाने के उपाय

– शनि अमावस्या के दिन सुबह जल्दी उठकर स्नान करें और पितृों को याद करें. इसके साथ ही उन्हें काले तिल और जल से तर्पण दें.

– पितृों को खुश करने के लिए आप शनि अमावस्या के दिन श्राद्ध और पिंडदान भी कर सकते हैं. इस दिन ब्राह्मणों को भोजन भी कराना जाता है साथ ही इस दिन कौवे को भी भोजन कराएं.

– पितृ दोष से मुक्ति पाने से किए शनि अमावस्या की शाम को किसी मंदिर के पास पीपल के पेड़ को गाय का दूध और जल मिलाकर अर्पित करें, फिर पीपल के पेड़ के नीचे सरसों के तेल का दीया जलाएं.

– इस दिन शिव मंदिर में जाकर गाय के दूध और गंगा जल से शिवलिंग का अभिषेक करें. फिर बेलपत्र, भांग, धतूरा, फूल, फल, मदार पुष्प आदि अर्पित करें.

No comments:

Post a Comment