कुत्ते ने पेश की वफादारी की ऐसी मिसाल...मालिक की कब्र के पास गमगीन बैठा रहा पालतू कुत्ता, खाना-पीना छोड़ा! - revanchal times new

revanchal times new

निष्पक्ष एवं सत्य का प्रवर्तक

Breaking

रेवांचल टाइम्स अखबार पाठकों से अनुरोध करता है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें.. ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें... साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए.. प्रकाशन हेतु ख़बरें, विज्ञप्ति मोबाइल- 9406771592 पर व्हाट्सएप्प करें

 आवश्कता है  आवश्कता है ....

रेवांचल टाईम्स समाचार पत्र एव वेव पोर्टल में मध्यप्रदेश के सभी संभाग, जिला, तहसील, विकास खंडों, में संवाददाताओं की एंव विज्ञापनों व खबरों से सबंधित व्यक्ति संपर्क करें इन नम्बरों में 👉 9406771592/ 9425117297/ 8770297430/9165745947

Monday, November 8, 2021

कुत्ते ने पेश की वफादारी की ऐसी मिसाल...मालिक की कब्र के पास गमगीन बैठा रहा पालतू कुत्ता, खाना-पीना छोड़ा!





रेवांचल टाईम्स : डॉग्स (Dogs) को सबसे वफादार जानवर (Loyal Animal) माना जाता है. मालिक के प्रति उनकी वफादारी के कई किस्से सामने आए हैं. इस बीच तुर्की (Turkey) से एक पेट डॉग (Pet Dog) की ऐसी तस्वीर सामने आईं, जिसने लोगों को भावुक कर दिया. मालिक की मौत के बाद ये पालतू कुत्ता उसकी कब्र पर कई दिनों तक 'गमगीन' होकर बैठा रहा. उसने खाना-पीना तक बंद कर दिया. आइए जानते हैं पूरा मामला.. 'डेली स्टार' की रिपोर्ट के मुताबिक, उत्तरी तुर्की के कायमाकली जिले में रहने वाले ओमर गुवेन (Omer Guven) करीब 12 साल पहले अपनी पत्नी को खो चुके थे. उसके बाद से ही उन्होंने आवारा बिल्लियों और कुत्तों की देखभाल करना शुरू कर दिया. उन्हें इलाके में एक पशु प्रेमी के रूप में जाना जाता था.


ओमर ने 11 साल पहले एक जर्मन शेफर्ड डॉग (German Shepherd) की देखभाल शुरू की थी, जिसका नाम 'फेरो' (Fero) रखा था. इतने लंबे समय साथ के रहने के बाद दोनों के बीच गहरी 'दोस्ती' हो गई. लेकिन इस बीच 29 अक्टूबर को, ओमर बीमार हो गए और उन्हें अस्पताल ले जाया गया. जहां 92 वर्ष की आयु में उनका निधन हो गया. कब्र के पास ही खड़ा रहा 'फेरो' ओमर के शव को जब ताबूत में रखा गया, तो उनका वफादार कुत्ता ताबूत के पास खड़ा होकर उसकी निगरानी कर रहा था. दफनाने के बाद भी वह ओमर की कब्र के पास ही खड़ा रहा. रिपोर्ट के मुताबिक, जब सारे अपने-अपने घरों को लौट गए तब भी 'फेरो' कब्र के पास ही मौजूद रहा. वह कभी मिट्टी में अपना सिर रगड़ता तो कभी टकटकी लगाकर अपने मालिक की कब्र को निहारता.

No comments:

Post a Comment