भ्रष्टाचार को लेकर लगातार सुखियों में ग्राम पंचायत कान्हीवाडा......सरपंच लक्ष्मीनारायण यादव की भ्रष्ट कार्यप्रणाली लगातार सवालों के घेरे में.... - revanchal times new

revanchal times new

निष्पक्ष एवं सत्य का प्रवर्तक

Breaking

रेवांचल टाइम्स अखबार पाठकों से अनुरोध करता है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें.. ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें... साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए.. प्रकाशन हेतु ख़बरें, विज्ञप्ति मोबाइल- 9406771592 पर व्हाट्सएप्प करें

 आवश्कता है  आवश्कता है ....

रेवांचल टाईम्स समाचार पत्र एव वेव पोर्टल में मध्यप्रदेश के सभी संभाग, जिला, तहसील, विकास खंडों, में संवाददाताओं की एंव विज्ञापनों व खबरों से सबंधित व्यक्ति संपर्क करें इन नम्बरों में 👉 9406771592/ 9425117297/ 8770297430/9165745947

Wednesday, November 3, 2021

भ्रष्टाचार को लेकर लगातार सुखियों में ग्राम पंचायत कान्हीवाडा......सरपंच लक्ष्मीनारायण यादव की भ्रष्ट कार्यप्रणाली लगातार सवालों के घेरे में....


 रेवांचल टाईम्स -  आदेशों के बाद भी नहीं ले रहे कोई सचिव प्रभार सरपंच लक्ष्मीनारायण यादव की भ्रष्ट कार्यप्रणाली लगातार सवालों के घेरे में सरपंच के भ्रष्टाचार के कारण नहीं आना चाहता कोई भी सचिव भ्रष्टाचार के लगातार मामलों को लेकर सुर्खियों में रहने वाली ग्राम पंचायत कान्हीवाडा इन दिनों सचिव विहीन है।सचिव के ना होने के ग्रामीणों के कार्य प्रभावित हो रहे हैं।उक्त पंचायत के सरपंच लक्ष्मीनारायण यादव अपने भ्रष्टाचार के लिए लगातार सुर्खियों में रहता है। जिस कारण कोई भी सचिव यहॉ आना नहीं चाह रहा है।

ज्ञात हो कि बरघाट जनपद अंतर्गत ग्राम पंचायत दोंदावानी में पदस्थ सचिव हिम्मत सिंह पटले का स्थानांतरण सिवनी जनपद की सबसे चर्चित ग्राम पंचायत कान्हीवाडा किया गया था। किन्तु उक्त सचिव ने स्थानांतरण आदेश का पालन ना करते हुए निलंबित होना। स्वीकार किया लेकिन ग्राम पंचायत कान्हीवाडा में पदभार ग्रहण नहीं किया।

इसके बाद ग्राम पंचायत खैरी में पदस्थ सचिव देवेन्द्र बेलवंशी को ग्राम पंचायत कान्हीवाडा का अतिरिक्त प्रभार संबंधी आदेश हुआ किन्तु जनचर्चा अनुसार उक्त सचिव भी ग्राम पंचायत कान्हीवाडा का रिकार्ड और भ्रष्टाचार को लेकर लगातार चर्चित होने के कारण यहॉ पदभार लेने के बिल्कुल इच्छुक नहीं है।

ग्राम पंचायत कान्हीवाडा के सरपंच लक्ष्मीनारायण यादव और यहॉ पदस्थ रहे सचिवों के भ्रष्टाचार के मामले लगातार सुर्खियों में रहते हैं। किन्तु अब क्षेत्र में फैले इस भ्रष्टाचार के खिलाफ क्षेत्रीय जिला पंचायत सदस्य अनिल चौरसिया ने भी बिगुल छेड दिया है। चौरसिया के अनुसार कान्हीवाड़ा सहित सिवनी जनपद  की 5 पंचायतों में लाखों का भ्रष्टाचार हुआ है। जिसमें से एक पंचायत की प्रथम जांच में  48 लाख रूपए का भ्रष्टाचार होना पाया गया है किन्तु दूसरी जॉच अभी तक नहीं हो पायी है। अगर बात ग्राम पंचायत कान्हीवाड़ा की की जाए तो ग्राम पंचायत कान्हीवाडा के सरपंच लक्ष्मी नारायण यादव के कार्यकाल में हुए भ्रष्टाचार की 4 वर्ष पूर्व एक 16 बिंदुओं  की शिकायत उच्च अधिकारियों को प्रेषित की गई थी और लगातार भ्रष्टाचार के मामले सामने आ रहे हैं अगर सही तरीके से कान्हीवाड़ा पंयायत की जांच करवा ली जाए तो ग्राम पंचायत कान्हीवाड़ा में भी लाखों रुपए का भ्रष्टाचार सामने आएगा ।किन्तु जिला प्रशासन इन फाइलों को दबाये बैठा है।

ग्राम पंचायत सरपंच लक्ष्मीनारायण यादव इन दिनों सचिव की पदस्थापना के लिए मुख्य कार्यपालन अधिकारी जनपद और जिला पंचायत के दरवाजे खटखटा रहा है तो वही विगत दिवस सिवनी प्रवास में आए प्रभारी मंत्री से भी मिलने गए।ग्राम पंचायत कान्हीवाडा में पदस्थ नल चालकों,सफाईकर्मियों और अन्य कर्मचारियों को  कई महीनों से वेतन नहीं दिया गया।इन सभी कर्मचारियों को लेकर उच्चाधिकारियों के दरवाजे खटखटा रहे सरपंच के नए कारनामे पर गौर किया जाये तो जनचर्चा है कि पिछली 18 साप्ताहिक बाजार वसूली के पैसे उक्त सरपंच और तत्कालीन सचिव ने ना ही पंचायत फंड में जमा किए और ना ही इनसे कर्मचारियों को वेतन दिया।इस संबंध में जानकारी लगने पर जागरूक जिला पंचायत सदस्य श्री अनिल चौरसिया द्वारा पिछली 4 बाजारों की वसूली का लगभग 25000रू पंचायत फंड में जमा करवाया गया तथा प्रत्येक कर्मचारी को सप्ताह में 1000रू देने की व्यवस्था बनाई गयी।चौरसिया ने ग्राम पंचायत कान्हीवाडा के एक अनोखे भ्रष्टाचार का उल्लेख भी किया जिसमें लोहे की जगह बांस की कमची लगाकार नाली का स्लैब कर दिया गया।ग्राम पंचायत कान्हीवाडा के भ्रष्टाचार और यहॉ के सरपंच लक्ष्मीनारायण यादव की भ्रष्ट कार्यप्रणाली के चलते ही यहॉ कोई सचिव आना नहीं। चाहता,ग्रामीण और यहॉ पदस्थ कर्मचारी परेशान हो रहे हैं।सरपंच और तत्कालीन सचिवों के अलावा यहॉ पदस्थ पूर्व पीसीओ चौहान के कार्यकाल और उसके द्वारा यहॉ जॉच के नाम पर की गई। औपचारिकताओं की जॉच करवा ली जाये तो यह भ्रष्टाचार के ताबूत में कील ठोंकने जैसा होगा।

फिलहाल सरपंच लक्ष्मी ग्राम पंचायत ढेका में पदस्थ एक सीधी सादी ईमानदार महिला सचिव को प्रभार दिलाने संबंधी आदेश करवाने की जुगत में हैं किन्तु अगर ऐसा होता है। तो भविष्य में उक्त ईमानदार और सीधी सादी महिला सचिव भी सवालों के घेरे में ना आ जाए।

पूर्व में भारतीय जनता पार्टी के कार्यकर्ता रहे सरपंच लक्ष्मीनारायण यादव विधानसभा चुनावों के समय कांग्रेस का पल्ला भारी देख भाजपा का दामन छोड बड़ी तामझाम के साथ कांग्रेस में शामिल हो गये थे। जन चर्चा है कि कांग्रेस प्रत्याशी के चुनाव हारने के बाद भी 15 महीने की कांग्रेस सरकार में खूब चली जिसकारण भ्रष्टाचार के कई मामले दबे किन्तु क्षेत्र में भाजपा विधायक होने व सत्ता में भाजपा की वापसी के बाद उक्त सरपंच काफी दुखी है।

अब देखना यह है कि लगातार भ्रष्टाचार के नए-नए कीर्तीमान गढ रहे सरपंच लक्ष्मी नारायण यादव  पर जिला प्रशासन का क्या रवैया रहता है।और भ्रष्टाचार के खिलाफ बिगुल छेड चुके जिला पंचायत सदस्य अनिल चौरसिया ने क्षेत्र की जनता से भी भ्रष्टाचार के खिलाफ एकजुट होने की अपील की है।


अखिलेश बन्देवार एंव संतोष बन्देवार के साथ रेवांचल टाईम्स की एक रिपोर्ट


इस दिवाली मुह मीठा कीजिये रेवांचल टाइम्स की खास मिठाई रेसिपी के साथ



खजूर ड्राईफ्रूट बर्फी


















No comments:

Post a Comment