Made In India Anti Covid Capsule: कोरोना से लड़ने के लिए जल्द आ रही है 'कोविड कैप्सूल', जानिए क्या होगी कीमत? - revanchal times new

revanchal times new

निष्पक्ष एवं सत्य का प्रवर्तक

Breaking

रेवांचल टाइम्स अखबार पाठकों से अनुरोध करता है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें.. ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें... साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए.. प्रकाशन हेतु ख़बरें, विज्ञप्ति मोबाइल- 9406771592 पर व्हाट्सएप्प करें

 आवश्कता है  आवश्कता है ....

रेवांचल टाईम्स समाचार पत्र एव वेव पोर्टल में मध्यप्रदेश के सभी संभाग, जिला, तहसील, विकास खंडों, में संवाददाताओं की एंव विज्ञापनों व खबरों से सबंधित व्यक्ति संपर्क करें इन नम्बरों में 👉 9406771592/ 9425117297/ 8770297430/9165745947

Friday, November 12, 2021

Made In India Anti Covid Capsule: कोरोना से लड़ने के लिए जल्द आ रही है 'कोविड कैप्सूल', जानिए क्या होगी कीमत?



नई दिल्ली: कोरोना से निपटने भारत सरकार लगातार प्रयासरत है। अपने प्रयास को आगे बढ़ाते हुए भारत सरकार ने कोविड-19 वैक्सीनेशन के साथ ही कोविड कैप्सूल (Made In India Anti Covid Capsule) लाने की तैयारी में है। दवा बनाने वाली कंपनी द्वारा तीसरे फेज का ट्रायल किया जा रहा है। ऐसे में माना जा रहा है कि जल्दी ही कोविड कैप्सूल बाजार में उतारी जा सकती है। सूत्रों से जानकारी मिल रही है कि किसी भी वक्त इसके इमरजेंसी इस्तेमाल की मंजूरी मिल सकती है।


वैक्सीन की तरह काम करेगी कैप्सूल आमतौर पर देखा गया है वैक्सीनेशन के दौरान कई लोग ऐसे भी हैं जिन्हें सुई से डर लगता है। उनके लिए कोविड- कैप्सूल सहायक सिद्ध होगी। कोविड स्ट्रेटजी ग्रुप सीएसआईआर के अध्यक्ष डॉ राम विश्वकर्मा का कहना है कि मार्क की एंटीवायरस दवा मोलनूपिरवीर को आने वाले दिनों में आपातकालीन उपयोग की अनुमति मिल सकती है। यह कैप्सूल वैक्सीन की तरह काम करेगी।

ऐसा होगा डोज जानकारी के अनुसार कोविड कैप्सूल बनाने वाली कंपनी मार्ग को अमेरिकी खाद्य एवं औषधि प्रशासन की ओर से प्रारंभिक तौर पर बेहतर माना है। बेहतर परिणाम देखने के बाद समीक्षा का दौर चल रहा है। 18 वर्ष से अधिक उम्र के वयस्कों के लिए गोली की मंजूरी दी गई है। एवं मध्यम कोविड-19 के मरीज दिन में 4 गोलियां दो बार 5 दिन तक लेने से कोर्स पूरा होगा।
क्या है कीमत सीएसआईआर के अध्यक्ष डॉ राम विश्वकर्मा का कहना है की शुरुआती दौर में इसकी कीमत 2000 से 4000 रुपए तक होगी। बाद में 1000 से 500 रुपए तक कम हो सकते हैं। वही जानकारी मिल रही है कि फाइजर एक और गोली पैक्सलोविड बनाने में जुटा हुआ है। जिसे अभी कुछ और समय लग सकते हैं। बाजार में गोलियों के आ जाने से रोग नियंत्रण में बहुत बड़ा फर्क पड़ेगा।



No comments:

Post a Comment