अब बापू पर निशाना: कंगना रनोट बोलीं... थप्पड़ खाने से नहीं मिली आजादी - revanchal times new

revanchal times new

निष्पक्ष एवं सत्य का प्रवर्तक

Breaking

रेवांचल टाइम्स अखबार पाठकों से अनुरोध करता है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें.. ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें... साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए.. प्रकाशन हेतु ख़बरें, विज्ञप्ति मोबाइल- 9406771592 पर व्हाट्सएप्प करें

 आवश्कता है  आवश्कता है ....

रेवांचल टाईम्स समाचार पत्र एव वेव पोर्टल में मध्यप्रदेश के सभी संभाग, जिला, तहसील, विकास खंडों, में संवाददाताओं की एंव विज्ञापनों व खबरों से सबंधित व्यक्ति संपर्क करें इन नम्बरों में 👉 9406771592/ 9425117297/ 8770297430/9165745947

Wednesday, November 17, 2021

अब बापू पर निशाना: कंगना रनोट बोलीं... थप्पड़ खाने से नहीं मिली आजादी



रेवांचल टाईम्स : बॉलीवुड एक्ट्रेस कंगना रनौत (Kangana Ranaut) के 'भीख में मिली आजादी' वाले बयान पर विवाद थमा नहीं था कि उन्होंने फिर एक विवादित पोस्ट शेयर किया है. इस बार उन्होंने महात्मा गांधी पर निशाना साधा है. कंगना रनौत (Kangana Ranaut) ने सोशल मीडिया पर पोस्ट शेयर महात्मा गांधी को भूखा और चालाक बताया है. उन्होंने यह तक कह दिया कि महात्मा गांधी चाहते थे कि भगत सिंह को फांसी हो जाए. कंगना ने इंस्टा स्टोरी पर एक पुराने न्यूज पेपर का एक आर्टिकल शेयर किया है. उन्होंने कैप्शन में लिखा कि आप या तो गांधी के फैन हो सकते हैं या फिर नेताजी के सपोर्टर. आप दोनों नहीं हो सकते. इसका फैसला खुद करें.

गाल पर थप्पड़ खाने से नहीं मिली आजादी
कंगना ने (Kangana Ranaut) लिखा है, 'जो लोग आजादी के लिए लड़े उसे उन लोगों ने अपने मालिकों को सौंप दिया. क्योंकि उनमें न तो हिम्मत थी और न ही खून में उबाल. वे सत्ता के भूखे और चालाक थे. ये वही लोग थे, जिन्होंने हमें सिखाया अगर कोई तुम्हारे एक गाल पर थप्पड़ मारे तो उसके सामने अपना दूसरा गाल आगे कर दो और इस तरह तुमको आजादी मिल जाएगी. ऐसे किसी को आजादी नहीं मिलती, सिर्फ भीख मिलती है, अपने हीरो समझदारी से चुनें.'

महात्मा गांधी ने भगत सिंह को नहीं किया सपोर्ट

कंगना (Kangana Ranaut) ने दूसरे पोस्ट में लिखा, 'गांधी ने भगत सिंह और नेताजी को कभी भी सपोर्ट नहीं किया. इसके कई सबूत हैं जो इशारा करते हैं कि गांधीजी चाहते थे कि भगत सिंह को फांसी हो जाए. इसलिए आपको चुनना है कि आप किसे सपोर्ट करते हैं. क्योंकि उन सबको अपनी यादों में रखना और उनकी जयंती पर विश करना काफी नहीं है. सच कहू तो यह यह मूर्खता ही नहीं बल्कि गैरजिम्मेदाराना है. लोगों को अपना इतिहास और अपने हीरोज का पता होने चाहिए'.

इस बयान पर हुआ था बवाल
बता दें कि कंगना रनौत (Kangana Ranaut) ने हाल ही एक न्यूज चैनल के प्रोग्राम में कह दिया था कि 1947 में आजादी नहीं बल्कि भीख मिली थी. कंगना (Kangana Ranaut) का कहना था कि असल में आजादी साल 2014 में नरेंद्र मोदी की सरकार बनने के बाद मिली है. उनके इस बयान से बवाल मचा हुआ है. कंगना के इस बयान पर लोगों ने अपनी आपत्ति जाहिर की थी.

No comments:

Post a Comment