ऑनलाइन आईपीएल सट्टे के धंधे ने पसारे पैर, मोबाइल एप से ऑपरेट करते हैं सट्टा, 2 गिरफ्तार - revanchal times new

revanchal times new

निष्पक्ष एवं सत्य का प्रवर्तक

Breaking

रेवांचल टाइम्स अखबार पाठकों से अनुरोध करता है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें.. ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें... साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए.. प्रकाशन हेतु ख़बरें, विज्ञप्ति मोबाइल- 9406771592 पर व्हाट्सएप्प करें

 आवश्कता है  आवश्कता है ....

रेवांचल टाईम्स समाचार पत्र एव वेव पोर्टल में मध्यप्रदेश के सभी संभाग, जिला, तहसील, विकास खंडों, में संवाददाताओं की एंव विज्ञापनों व खबरों से सबंधित व्यक्ति संपर्क करें इन नम्बरों में 👉 9406771592/ 9425117297/ 8770297430/9165745947

Friday, October 8, 2021

ऑनलाइन आईपीएल सट्टे के धंधे ने पसारे पैर, मोबाइल एप से ऑपरेट करते हैं सट्टा, 2 गिरफ्तार



मंदसौर: मध्यप्रदेश (Madhya Pradesh) के मंदसौर की कोतवाली पुलिस ने गुरुवार रात छापामार कार्रवाई करते हुए 35 से 40 लाख का ऑनलाइन सट्टा (IPL Betting Racket) पकड़ने में सफलता हासिल की. इस ऑनलाइन धंधे को सुनियोजित तरीके से मोबाइल एप (Mobile App) के जरिए ऑपरेट किया जा रहा था. मौके से पुलिस ने दो आरोपियों को गिरफ्तार किया है. इस दौरान 5 और आरोपी मौजूद थे जो फरार होने में कामयाब हो गए.

सट्टा उपकरण भी जब्त


छापेमार कार्रवाई को लेकर कोतवाली टीआई अमित सोनी ने बताया की ऑनलाइन आईपीएल का सट्टा लगाने वाले लोगों की संख्या तेजी से बढ़ती जा रही है. ये धंधा तेजी से पैर पसार रहा है, जिसमें कई लोग बर्बाद भी हो जाते हैं. इसे रोकने के लिए कदम उठाए जाते हैं. इसी कड़ी में सट्टा खेलते और ऑपरेट करते 2 आरोपी शाहिद नीलगर और अंकित ककरेजा को गिरफ्तार किया गया है. दोनों से 5 हजार नगद और 35 से 40 लाख के सट्टे का हिसाब पकड़ाया है. साथ ही मोबाइल, वाईफाई, लैपटॉप, टैब जैसे कई सट्टा उपकरण भी जब्त किये गए है. बता दें ये सट्टा एंड्रॉइड फोन एप के जरिए आपरेट किया जाता था. यह सट्टा गिरोह कई समय से एक्टिव था. इस गिरोह के फरार 5 आरोपी नंदू फुलवानी,कालू पंजाबी, इदरीस, सौरभ सिहल और जब्बार की तलाश की जा रही है. उन्हें जल्द गिरफ्तार कर लिया जाएगा.

गिरोह एक्टिव हो जाते हैं


आईपीएल मैचों के शुरू होते ही इस तरह के गिरोह एक्टिव हो जाते हैं. जिनके लिए कई राज्यों में स्पेशल टास्क फोर्स (एसटीएफ) और पुलिस की निगरानी शुरू कर दी जाती है. इस बार सट्टेबाजों ने ऑनलाइन खेल में पैर जमाना शुरू कर दिए हैं, जिसके लिए वो लोग फर्जी नामों से मोबाइल एप लिंक तैयार करते हैं. फिर उसे मैच शुरू होने के बाद सट्टा खेलने वालों के मोबाइल पर भेज देते हैं. इसके लिए सट्टेबाज अलग-अलग मोबाइल का इस्तेमाल भी करते हैं, जिससे उन्हें आसानी से पकड़ा ना जा सके.

No comments:

Post a Comment