Walking After Eating: खाना खाने के बाद थोड़ा टहलना क्यों है जरूरी? जानिए - revanchal times new

revanchal times new

निष्पक्ष एवं सत्य का प्रवर्तक

Breaking

रेवांचल टाइम्स अखबार पाठकों से अनुरोध करता है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें.. ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें... साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए.. प्रकाशन हेतु ख़बरें, विज्ञप्ति मोबाइल- 9406771592 पर व्हाट्सएप्प करें

 आवश्कता है  आवश्कता है ....

रेवांचल टाईम्स समाचार पत्र एव वेव पोर्टल में मध्यप्रदेश के सभी संभाग, जिला, तहसील, विकास खंडों, में संवाददाताओं की एंव विज्ञापनों व खबरों से सबंधित व्यक्ति संपर्क करें इन नम्बरों में 👉 9406771592/ 9425117297/ 8770297430/9165745947

Thursday, September 9, 2021

Walking After Eating: खाना खाने के बाद थोड़ा टहलना क्यों है जरूरी? जानिए



Walking After Eating: क्या खाना खाने के बाद टहलना जरूरी है? और अगर हां, तो इससे आपको क्या फायदे हो सकते हैं और कितने समय तक आप टहल सकते हैं?

खाना खाने के ठीक बाद सुस्ती का घेरना स्वाभाविक है और आपको बस लेटने का मन करता है. लेकिन लेटना आपके लिए परेशानी खड़ी कर सकता है. ऐसी स्थिति में पाचन प्रक्रिया को दुरुस्त करने के लिए चंद मिनट टहलना सबसे अच्छा है. लेकिन सवाल पैदा होता है कि टहलने के दौरान या टहलने के लिए किन बातों का ख्याल रखा जाना चाहिए?


खाना खाने के बाद टहलने के कई फायदे


Walking After Eating: खाना खाने के बाद सबसे पहला ध्यान ये होना चाहिए कि हल्की मध्यम गति से चलें. तेज चलने या जॉगिंग से परहेज करें क्योंकि ये पेट दर्द की समस्या पैदा कर सकता है और पेट फूल भी सकता है. शुरू करने के लिए हल्की गति से 5-6 तक टहलें. कुछ दिनों बाद आप समय को मध्यम गति पर 10 मिनट बढ़ा सकते हैं. अगर आप बाहर टहलना पसंद नहीं करते हैं, तो आप बस घर के अंदर चल सकते हैं. टहलना पाचन प्रक्रिया को तेज करता है, जो ब्लोटिंग और ज्यादा खाने जैसी समस्याओं से बचा सकता है.


थोड़ी दूरी ब्लड ग्लूकोज या ब्लड शुगर लेवल सही करने में मदद कर सकती है क्योंकि खाने के बाद ब्लड शुगर लेवल में बढ़ोतरी होती है. विशेषकर डायबिटीज के मरीजों को 10 मिनट टहलने की सलाह दी जाती है. लेटने या बैठने से आपको पेट की परेशानी जैसे एसिड रिफ्लेक्स और गैस हो सकती है. टहलना दिमागी सेहत को सही करने का एक संभावित तरीका है. ऐसा इसलिए क्योंकि ये कोर्टिसोल, एड्रेनालाईन समेत तनाव वाले हार्मोन्स कम करता है. जब एक शख्स टहलने के लिए जाता है, तब शरीर एंडोर्फिन जारी करता है जो प्राकृतिक पेन किलर के जैसा काम करता है.


क्या दिमागी सेहत को मिलता है समर्थन?


ये बेचैनी कम करता है, मूड को बढ़ाता है, तनाव को कम करता है और आराम का एहसास जगाता है. हालांकि, रिसर्च से संकेत नहीं मिलता है कि खाने के बाद टहलना खास तौर से दिमागी सेहत को सुधारता है. इसलिए, अगर खाने के बाद टहलना शरीर के लिए इतना फायदेमंद है, तो आदर्श रूप से यह कब तक होना चाहिए? आम तौर से, 10 मिनट टहलना आपके शरीर के लिए पर्याप्त है. ब्रेकफास्ट, लंच और डिनर के लिए 10-10 मिनट के हिसाब से रोजाना 30 मिनट का समय लगता है. अपनी जरूरत के हिसाब से आप प्रत्येक समय में 5 मिनट का इजाफा भी कर सकते हैं, लेकिन इससे बाहर जाने से परहेज करें.

No comments:

Post a Comment