गले पर चमगादड़ बैठने से शख्स की मौत, हुए रेबीज संक्रमण का शिकार - revanchal times new

revanchal times new

निष्पक्ष एवं सत्य का प्रवर्तक

Breaking

रेवांचल टाइम्स अखबार पाठकों से अनुरोध करता है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें.. ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें... साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए.. प्रकाशन हेतु ख़बरें, विज्ञप्ति मोबाइल- 9406771592 पर व्हाट्सएप्प करें

 आवश्कता है  आवश्कता है ....

रेवांचल टाईम्स समाचार पत्र एव वेव पोर्टल में मध्यप्रदेश के सभी संभाग, जिला, तहसील, विकास खंडों, में संवाददाताओं की एंव विज्ञापनों व खबरों से सबंधित व्यक्ति संपर्क करें इन नम्बरों में 👉 9406771592/ 9425117297/ 8770297430/9165745947

Thursday, September 30, 2021

गले पर चमगादड़ बैठने से शख्स की मौत, हुए रेबीज संक्रमण का शिकार



अमेरिका के इलिनॉय (Illinois) राज्य में रेबीज की वजह से एक शख्स की मौत हो गई है. स्वास्थ्य अधिकारियों का कहना है कि बीते 67 साल में यह पहली बार है जब राज्य में रेबीज से किसी शख्स की मौत हुई. बताया गया है कि एक दिन शख्स सोकर उठा तो उसने पाया कि गले पर एक चमगादड़ बैठा हुआ है. डेली मेल की रिपोर्ट के मुताबिक, मृत शख्स की उम्र 80 साल से अधिक थी. करीब एक महीने पहले वह चमगादड़ के संपर्क में आया था. मंगलवार को उसकी मौत हो गई. अधिकारियों का कहना है कि पीड़ित व्यक्ति ने वैक्सीन लगवाने से इनकार कर दिया था.

अमेरिका की स्वास्थ्य संस्था सीडीसी ने जांच के बाद इस बात की पुष्टि की थी कि शख्स रेबीज से संक्रमित है. संक्रमित होने के बाद पीड़ित व्यक्ति गले और सिर में दर्द, बोलने में दिक्कत और शरीर अकड़ने की तकलीफ का सामना कर रहा था. एक्सपर्ट के मुताबिक, रेबीज से संक्रमित किसी व्यक्ति में जब लक्षण दिखाई देने लगता है तब तक काफी देर हो चुकी होती है. लक्षण सामने आने के बाद ज्यादातर लोगों की मौत कुछ ही हफ्तों में हो जाती है. हालांकि, समय पर वैक्सीन और ट्रीटमेंट हासिल करने पर मरीज की जान बच जाती है. संक्रमण के तुरंत बाद रेबीज ट्रीटमेंट जरूरी होता है. WHO के मुताबिक, रेबीज एक वायरल इंफेक्शन है जिससे नर्वस सिस्टम और दिमाग प्रभावित होता है. रेबीज का वायरस शरीर में 20 से 60 दिन तक रह सकता है और इलाज नहीं मिलने पर मृत्यु दर काफी अधिक होती है. रेबीज जानवरों से इंसानों में फैलता है और ज्यादातर बार जानवरों के काटने या नोंचने से फैलता है. हालांकि, जानवरों के लार का अगर स्किन पर मौजूद किसी घाव से संपर्क हो जाए, तब भी संक्रमण हो सकता है.




No comments:

Post a Comment