डीएसपी के आश्वासन देने के बाद परिजनों ने शव को सड़क से हटाया... - revanchal times new

revanchal times new

निष्पक्ष एवं सत्य का प्रवर्तक

Breaking

रेवांचल टाइम्स अखबार पाठकों से अनुरोध करता है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें.. ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें... साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए.. प्रकाशन हेतु ख़बरें, विज्ञप्ति मोबाइल- 9406771592 पर व्हाट्सएप्प करें

 आवश्कता है  आवश्कता है ....

रेवांचल टाईम्स समाचार पत्र एव वेव पोर्टल में मध्यप्रदेश के सभी संभाग, जिला, तहसील, विकास खंडों, में संवाददाताओं की एंव विज्ञापनों व खबरों से सबंधित व्यक्ति संपर्क करें इन नम्बरों में 👉 9406771592/ 9425117297/ 8770297430/9165745947

Saturday, August 14, 2021

डीएसपी के आश्वासन देने के बाद परिजनों ने शव को सड़क से हटाया...





रेवांचल टाईम्स - कुछ दिन पूर्व ओमप्रकाश साकेत पिता मंगल दिन साकेत जो कि भदनपुर पहाड़ दक्षिण पट्टी का निवासी है, जो दो दिन से लापता था तीसरे दिन मृतक अवस्था में तालाब पर पड़ा मिला। मौके पर पहुंची बदेरा पुलिस शव को पोस्टमार्टम के लिए मैहर सिविल अस्पताल भेजा था पोस्टमार्टम होने के बाद मृतक के परिजनों व ग्रामीणों ने कार्रवाई से असंतुष्ट होकर शव को सड़क पर रखकर चक्काजाम कर दिया। डीएसपी के आश्वासन देने के बाद तकरीबन 5 घंटे बाद फिर जाम खुला। मृतक के परिजनों ने गांव के ही चार व्यक्ति अतुल, शुक्ला प्रशांत शुक्ला, हीरामणि साकेत और दो अन्य पर आरोप लगाते हुए कहा है, कि हत्या इन्होंने की है। और साथ यह भी आरोप लगाया कि पुलिस कस्टडी में बंद एक आरोपी रामकरण साकेत से इन्हीं लोगों ने उसे बचाने के लिए बीस हजार रुपये भी लिए हैं, और उसने दीया भी है, यह बात बदेरा पुलिस बखूबी जानती है। रामकरण साकेत पुलिस के सामने खुद इस बात को कबूला है। पुलिस इन पर कार्यवाही क्यों नहीं कर रही क्या वजह है, आखिर किसके दबाव में पुलिस काम कर रही है। परिजनों ने एसडीएम, डीएसपी एवं छह थानों की पुलिस बल के मौजूदगी में तुरंत ज्ञापन देकर इन को गिरफ्तार कर कार्रवाई की मांग की थी। तब डीएसपी ने उनको भरोसा दिलाते हुए, कड़े लहजे में कह दिया। कि इनमें से किसी को बख्शा नहीं जाएगा, इन सब को जल्द पकड़ कर इन पर कार्यवाही की जाएगी। तब परिजन माने और शव को सड़क से हटाकर अंतिम संस्कार के लिए ले गए।

        विष्णु नाथ पांडये की रिपोर्ट....

No comments:

Post a Comment