बहेरी में अवैध रूप से नदी से हो रहा रेत खनन व परिवहन, माइनिंग विभाग जानकर भी बन रहा अनजान प्रशासन की मौन सहमति - revanchal times new

revanchal times new

निष्पक्ष एवं सत्य का प्रवर्तक

Breaking

रेवांचल टाइम्स अखबार पाठकों से अनुरोध करता है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें.. ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें... साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए.. प्रकाशन हेतु ख़बरें, विज्ञप्ति मोबाइल- 9406771592 पर व्हाट्सएप्प करें

 आवश्कता है  आवश्कता है ....

रेवांचल टाईम्स समाचार पत्र एव वेव पोर्टल में मध्यप्रदेश के सभी संभाग, जिला, तहसील, विकास खंडों, में संवाददाताओं की एंव विज्ञापनों व खबरों से सबंधित व्यक्ति संपर्क करें इन नम्बरों में 👉 9406771592/ 9425117297/ 8770297430/9165745947

Saturday, June 26, 2021

बहेरी में अवैध रूप से नदी से हो रहा रेत खनन व परिवहन, माइनिंग विभाग जानकर भी बन रहा अनजान प्रशासन की मौन सहमति






बहेरी खदान से की जा रही है धड़ल्ले से अवैध रेत कि निकासी ग्राम पीपरदोन में हो रहा भंडारण, माइनिंग विभाग जानकर भी बन रहा अनजान प्रशासन ने दी मौन सहमति....

रेवांचल टाइम्स :- आदिवासी बाहुल्य जिले मंडला में रेत खदान के ठेकेदार और खनिज विभाग के अधिकारियों की मिलीभगत और अपने निजी स्वार्थ के चलते राजस्व को लाखों का नुकसान पहुँचाया जा रहा है और ये सब विभाग और जिला प्रशासन की मिलीभगत से धड़ल्ले से 24 घण्टे रेत का अबैध कारोबार चल रहा है जहाँ एक बारिश आ चुकी है रेत पानी मे डूब चुकी है पर ठेकेदारों को क्या उन्हें तो केवल अपनी जेब गरम करनी है वही हर तरफ धड़ल्ले से पानी के अंदर से रेत निकली जा रही है वही लगातार प्रशासन और विभाग की अनदेखी के चलते और जिले निठल्ले जनप्रतिनिधियों के कारण इस जिले में हर तरह के अबैध काम तेजी फलफूल रहे है, वही जिला प्रशासन और संबंधित विभाग चाहे पुलिस विभाग हो राजस्व हो या खनिज विभाग हो सब गांधी जी के तीन बंदर बन बैठे है इन्हें सब पता होने के बाद भी कुछ नही करना है बस इन्हें अपने वेतन के अलावा ऊपरी कमाई कैसे हो बस इसकी चिंता रहती है किसको क्या परेशनी हो रही जनता की क्या आवश्कता है इन्हें कोई मतलब नही है



          वही कुछ ग्राम पंचायतों में रेत का भंडारण बड़ी मात्रा में किया जा रहा है। ज्ञात हो कि जिले में लॉकडाउन लगते ही ठेकेदार द्वारा बगैर स्वीकृत खदानों से मनमर्जी से रेत कि निकासी कर बड़ी मात्रा में भंडारण कर लिया गया है। जिसकी जानकारी खनिज विभाग मंडला को है। परंतु ठेकेदार से मोटी मलाई प्राप्त करने के कारण रेत का भंडारण किस नदी व स्थान से हो रहा है, और कहां कहां भंडारण किया जा रहा है, यह सब जानकारी न होना बताकर अपना पल्ला झाड़ते बताया गया कि माइनिंग कार्पोरेशन भोपाल की टीम ने गत कुछ दिनों पूर्व जांच कि है। 
जानकारी लेने पर सहायक खनिज अधिकारी देवश मरकाम द्वारा बताया गया कि शासन द्वारा  मंडला जिले की 26 खदानों का ठेका हुआ था। वनविभाग के द्वारा 14 खदानों पर रोक लगाई गई है शेष 12 खदानों  की परमीशन ठेकेदार को हेंड ओवर देकर रेत निकालने लायल्टी जारी की गई है। जिससे रेत निकासी की जा रही है। बहेरी, बढ़िया ओर बरबसपुर की खदान की एनोसी न होने के बाद भी हजारों ट्रैक्टर रेत निकाल कर पीपरदोन के मेदान में भंडारण कर लिया गया है।

खनिज विभाग द्वारा किया जा रहा सौतेला व्यवहार

गत दिनों खनिज विभाग द्वारा एक ट्रेक्टर जो अमझर ग्राम पंचायत के किसान अनिल धुर्वे की थी जो रेत का परिवहन करते पकड़ी गई जिसपर धारा 389 के तहत कार्यवाही कर बम्हनी थाने के सुपरत मे खड़ी है। वही दूसरी ओर ग्राम पंचायत इंद्री के किशन मरावी के दो ट्रेक्टरो को  खनिज विभाग ने रेत खदान बहेरी से रेत निकालते रेत से भरी ट्रैक्टर ट्राली को पकड़ा। जिसपर कार्यवाई करते पुलिस थाना बम्हनी में खड़े कर, कुछ दिनों बाद अवेध खनिज परिवहन करते  कार्य वाही कर छोड़ दिया। उक्त कार्यवाही में 389 के तहत कार्रवाई नहीं की गई जिसका कारण लोगों ने बताया कि ठेकेदार द्वारा ग्राम पीपरदोन में रेत भंडारण कराया जा रहा था। इस कारण कार्यवाही को सिथिल कर छोड़ दिया गया। खनिज विभाग दो लोगों पर अलग-अलग कार्यवाही कर सौतेला व्यवहार कर रहा है।

बहेरी खदान से ठेकेदार ने कराया बड़ी मात्रा में रेत का भंडारण
 
       ग्राम पंचायत इंद्री के ग्राम बहेरी की रेत खदान से ठेकेदार द्वारा हजारों ट्रैक्टर रेत निकाल जा चुकी है और ठेकेदार के द्वारा खुद की रायल्टी (पर्ची) जारी की जहाँ बंजर नदी से जो जो ट्रेक्टरों और 407 से रेत ढुलाई व निकली जा रही उसे वो पर्ची दिखानी पड़ती है
फोटो पर्ची
          वही विभाग की अनदेखी के चलते ग्राम पीपर दोन में जम के भंडारण कर लिया है। जिसकी जानकारी खनिज विभाग के अधिकारियों को है जानकारी देते हुए खुद सहायक खनिज अधिकारी देवेश मरकाम ने बताया कि भंडारन करने की स्वीकृति मांगी गई थी पर बहेरी खदान से रेत निकाल कर भंडारण करने नहीं है। अन्य स्वीकृत खदान की परमीशन दी गई है। अब सवाल यह उठता है कि जब बिना स्वीकृत के खदान बहेरी से रेत की निकासी किया जा रहा है और पास में डंप किया जा रहा है जिसका उदारण स्पस्ट फोटो में देखा जा सकता है। 
       जिले में विभागों की अनदेखी के चलते जिला प्रशासन व शासन को लाखों का राजस्व नुकसान हो रहा है। वही रेत माफिया जमकर लाभ उठा रहे हैं और अपना राजस्व साथ ही विभाग के कर्मचारियों का राजस्व भी बढ़ा रहे है । रेत के इस अवैध कारोबार में कुछ स्थानीय जनप्रतिनिधियों लोगों व सरपंच का भी शामिल होना बताया जा रहा है जो बंजर नदी से देर शाम से लेकर सुबह आठ बजे तक ट्रैक्टर और मशीन के द्वारा नदी से अवैध रेत का खनन परिवहन कर रहे हैं। इस बात की जानकारी खनिज विभाग को भी है, पर कार्यवाई नहीं हो रही है।

इनका कहना है

"मंडला जिले में 26 खदानों में से 12 खदानों से रेत निकालने लायल्टी जारी की गई है। पीपरदोन में जो रेत का भंडारण किया जा रहा है उसका लायसेंस स्वीकृत है बहेरी, भढ़िया, बरबसपुर से रेत निकालने स्वीकृति नहीं है कार्यवाही की जावेगी। गत दिनों मार्निंग कार्पोरेशन भोपाल ने भंडारण स्थल का निरीक्षण किया था शेष  जानकारी मुझे नहीं है।"     
                                 देवेश मरकाम
                         सहायक खनिज अधिकारी मंडला

"पीपरदोन में भंडारण करने वेधानिक परमीशन है, और स्वीकृत खदान बम्हनी खदान क्र.4 से रेत निकाल कर पीपरदोन मे भंडारण किया जा रहा है।"

सहयोगी रेत ठेकेदार नितिन कुमार राय



No comments:

Post a Comment