शिक्षा मंत्री के पालकों से बिगड़े बोल - 'आंदोलन करो, मरो जाकर, शिक्षा मंत्री इंदरसिंह परमार को तत्काल मंत्री पद से हटाया जाए....देखे वीडियो - revanchal times new

revanchal times new

निष्पक्ष एवं सत्य का प्रवर्तक

Breaking

रेवांचल टाइम्स अखबार पाठकों से अनुरोध करता है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें.. ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें... साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए.. प्रकाशन हेतु ख़बरें, विज्ञप्ति मोबाइल- 9406771592 पर व्हाट्सएप्प करें

 आवश्कता है  आवश्कता है ....

रेवांचल टाईम्स समाचार पत्र एव वेव पोर्टल में मध्यप्रदेश के सभी संभाग, जिला, तहसील, विकास खंडों, में संवाददाताओं की एंव विज्ञापनों व खबरों से सबंधित व्यक्ति संपर्क करें इन नम्बरों में 👉 9406771592/ 9425117297/ 8770297430/9165745947

Wednesday, June 30, 2021

शिक्षा मंत्री के पालकों से बिगड़े बोल - 'आंदोलन करो, मरो जाकर, शिक्षा मंत्री इंदरसिंह परमार को तत्काल मंत्री पद से हटाया जाए....देखे वीडियो



रेवांचल टाईम्स - एक तरफ कोरोना महामारी से जूझ रहे लोग दूसरे तरफ सरकार में बैठे जिम्मेदार लोग का गैर जिम्मेदाराना व्यान जिसको लेकर सपाक्स पार्टी की मुख्यमंत्री से मांग, स्कूल शिक्षा मंत्री इंदरसिंह परमार को तत्काल मंत्री पद से हटाया जाए


 

इंदौर स्कूल शिक्षा मंत्री इंदरसिंह परमार की बिगड़े बोल पर संज्ञान लेते हुए मुख्यमंत्री श्री शिवराजसिंह चौहान को तत्काल उन्हें पद हटाया जाना चाहिए। मंगलवार को निजी स्कूलों की मनमानी और नियम विरूद्ध फीस वसूली की शिकायत लेकर पालक स्कूल शिक्षा मंत्री इंदरसिंह परमार से मिलने पहुंचे थे। अभिभावकों की समस्या को सुनकर उनका निराकरण करने के बजाय मंत्री परमार ने उल्टा पालकों को यह कहा कि - आंदोलन करो, मरो जाकर ।

प्रदेश प्रवक्ता सपाक्स पार्टी मध्यप्रदेश सतीश शर्मा ने कहा कि, एक शिक्षा मंत्री के रूप में उनका ये बयान अत्यंत आपत्तिजनक और गैर-जिम्मेदाराना है। प्रदेश के लाखों अभिभावकों व छात्रों की भावनाओं के साथ खिलवाड़ है और उनका अपमान है। मंत्रीजी के इस बयान की जितनी निंदा की जाये उतनी कम है। उनके इस बयान से ही स्पष्ट होता है कि कोरोना काल में प्रदेश सरकार और न्यायालय के तमाम आदेशों के बावजूद निजी स्कूलों की मनमानी इसीलिए नहीं थम रही है क्योंकि प्रदेश सरकार और प्रशासन के आदेश केवल जनता को दिखने के लिए होते हैं। वास्तव में सरकार निजी स्कूलों की हिमायती है और अभिभावकों की परेशानियों से सरकार को कोई लेना देना नहीं है।

सपाक्स पार्टी मुख्यमंत्री जी से यह मांग करती है कि ऐसे असंवेदनशील स्कूल शिक्षा मंत्री को तत्काल मंत्री पद से हटाते हुए किसी योग्य व जिम्मेदार व्यक्ति को स्कूल शिक्षा मंत्री के रूप में जिम्मेदारी दी जाए।




सतीश शर्मा

प्रदेश प्रवक्ता

सपाक्स पार्टी मप्र

No comments:

Post a Comment