विश्व पर्यावरण दिवस पर नगर परिषद बिछिया पदाधिकारियों ने किया पौधारोपण - revanchal times new

revanchal times new

निष्पक्ष एवं सत्य का प्रवर्तक

Breaking

रेवांचल टाइम्स अखबार पाठकों से अनुरोध करता है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें.. ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें... साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए.. प्रकाशन हेतु ख़बरें, विज्ञप्ति मोबाइल- 9406771592 पर व्हाट्सएप्प करें

Sunday, June 6, 2021

विश्व पर्यावरण दिवस पर नगर परिषद बिछिया पदाधिकारियों ने किया पौधारोपण

 


रेवांचल टाइम्स - विश्व पर्यावरण दिवस के अवसर पर अंकुर अभियान का शुभारंभ कर नगर परिषद बिछिया के नवीन फिल्टर प्लांट के आस पास कतारबद्ध फलदार पौधे आम, अमरुद, नीबू, जामुन, आंवला ,फलदार, छायादार पौधों का रोपण किया गया । नगर परिषद अध्यक्ष बिजेंद्र सिंह कोकडिया ने कहा कि हमारे पूर्वजों ने वृक्ष लगाए होंगे तभी आज हम सुरक्षित हैं और स्वच्छ हवा में सांस ले रहे हैं। आने वाली पीढ़ी को स्वस्थ रखने के लिए हमें पौधरोपण कर उनकी देखभाल करनी होगी। नगर परिषद उपाध्यक्ष अजयपुरी गोस्वामी ने नगर के प्रत्येक नागरिकों से अपने जीवन काल में एक वृक्ष अवश्य लगाने की अपील की। मुख्य नगरपालिका अधिकारी संजय कुमार नरूला ने पर्यावरण शब्द का शाब्दिक अर्थ बताते हुए हमारे जीवन के चारों ओर से सुरक्षित रखने का कवच है। उसी का नाम पर्यावरण यह कथन यथार्थ भी है वर्तमान भीषण कोरोना महामारी में प्रकृति ने मानव को ऑक्सीजन के महत्व को समझाया है। यह वृक्ष ऑक्सीजन प्रवाहित करते हैं। जो मनुष्य को ही नहीं पशु पक्षियों को जीवन देते हैं। साथ ही नगर वासियों को पर्यावरण के प्रति जागरूक करने की अपील की गई। पौधारोपण कार्यक्रम में अध्यक्ष विजेंद्र सिंह कोकड़िया, उपाध्यक्ष अजय पुरी गोस्वामी, जनप्रतिनिधि प्रदीप झारिया, रानू राजपूत, संतोष विश्वकर्मा, मुख्य नगरपालिका अधिकारी संजय नरूला, एचआर कुरेशी उपयंत्री, समस्त कर्मचारीगण एवं गणमान्य नागरिक उपस्थित थे। मुख्य नगरपालिका अधिकारी संजय कुमार नरूला ने पर्यावरण शब्द का शाब्दिक अर्थ बताते हुए हमारे जीवन के चारों ओर से सुरक्षित रखने का कवच है। उसी का नाम पर्यावरण यह कथन यथार्थ भी है वर्तमान भीषण कोरोना महामारी में प्रकृति ने मानव को ऑक्सीजन के महत्व को समझाया है। यह वृक्ष ऑक्सीजन प्रवाहित करते हैं। जो मनुष्य को ही नहीं पशु पक्षियों को जीवन देते हैं।

No comments:

Post a Comment