जल संरक्षण चेतना हेतु जल शक्ति अभियान के तहत् दिया ऑनलाईन प्रशिक्षण - revanchal times new

revanchal times new

निष्पक्ष एवं सत्य का प्रवर्तक

Breaking

रेवांचल टाइम्स अखबार पाठकों से अनुरोध करता है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें.. ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें... साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए.. प्रकाशन हेतु ख़बरें, विज्ञप्ति मोबाइल- 9406771592 पर व्हाट्सएप्प करें

Saturday, May 8, 2021

जल संरक्षण चेतना हेतु जल शक्ति अभियान के तहत् दिया ऑनलाईन प्रशिक्षण




मण्डला 8 मई 2021भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद कृषि तकनीकि अनुप्रयोग अनुसंधान संस्थान क्षेत्र-9 एवं निर्देशक जवाहर लाल नेहरू कृषि विश्व विद्यालय जबलपुर के निर्देशानुसार जल शक्ति अभियान के तहत जल संरक्षण हेतु जन चेतना एवं जागृति के लिए कृषि विज्ञान केन्द्र मण्डला के वैज्ञानिकों द्वारा कोविड-19 सुरक्षा मानकों को ध्यान में रखते हुये ऑनलाईन प्रशिक्षण जिले के विभिन्न विकासखण्डों के कृषकों को प्रदाय किया गया। इस प्रशिक्षण कार्यक्रम में केन्द्र के वरिष्ठ वैज्ञानिक एवं प्रमुख डॉ. विशाल मेश्राम के मार्गदर्शन में डॉ. प्रणय भारती वैज्ञानिक पशु पालन द्वारा जल संरक्षण हेतु जागृति प्रसारण के लिये पॉवर प्वांइट प्रजेन्टेशन के माध्यम से वर्षा जल संग्रहण की तकनीक का विस्तार से जानकारी प्रदाय की गई। उनके द्वारा बताया गया कि पूरे विश्व में निरंतर पानी की उपलब्धता में कमी होती जा रही है इसीलिए अनिवार्य रूप से वर्षा का जल सभी घरों में संग्रहण हेतु आवश्यक उपाय अपनाये जायें। इसके अंतर्गत वर्षा जल संग्रहण क्षेत्र-छत से जल के परिवहन हेतु पाईप के द्वारा पानी को नीचे ले जाया जाता है तथा पहली बारिश को अलग कर देने के लिए फिल्टर लगाया जाता है जिसमें पत्तियों एवं कचड़े को अलग करने के लिए दूसरी फिल्टर प्रयोग किया जाता है। तथा इस पाईप को टंकी अथवा कुंआ से जोड़ दिया जाता है। इस प्रकार वर्षा का जल जो कि व्यर्थ में बह जाता है को संग्रहित कर जल स्त्रोतों को रिचार्ज कर इनसे वर्ष भर जल प्राप्त किया जा सकता है।

डॉ. विशाल मेश्राम ने बताया कि जल शक्ति अभियान के अंतर्गत जन जागरूकता के प्रसार हेतु प्रति सप्ताह इस प्रकार के ऑनलाईन प्रशिक्षण कार्यक्रम केन्द्र के वैज्ञानिकों डॉ. आर.पी. अहिरवार, नीलकमल पन्द्रे, कु. केतकी धूमकेती प्रति सप्ताह आयोजित किए जाएंगे साथ ही अंगीकृत गांव के कृषकों को मुनगा एवं अन्य फलों के पौधे प्रदाय किये जाएंगे। जल शक्ति अभियान के द्वारा हम सभी छोटे-छोटे तरीके अपना कर जल संरक्षण कर अपने भविष्य को बचा सकेंगे और आने वाली पीढ़ी को सुंदर एवं स्वस्थ पर्यावरण, प्राकृतिक संसाधनों जल, जंगल एवं जमीन के उचित संतुलन के रखने में मदद कर सकेंगे। साथ ही किसान बंधुओं से सिंचाई के उन्नत एवं आधुनिक तकनीकों जिसमें ड्रिप, फव्वारा एवं रेनगन जैसी तकनीकों को प्रचलन में लाने का भी अनुरोध किया गया।

No comments:

Post a Comment