नैनपुर में संक्रमण से लोगों का हाल बेहाल, लेकिन शराब ठेकेदार हो रहा मालामाल - revanchal times new

revanchal times new

निष्पक्ष एवं सत्य का प्रवर्तक

Breaking

रेवांचल टाइम्स अखबार पाठकों से अनुरोध करता है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें.. ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें... साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए.. प्रकाशन हेतु ख़बरें, विज्ञप्ति मोबाइल- 9406771592 पर व्हाट्सएप्प करें

 आवश्कता है  आवश्कता है ....

रेवांचल टाईम्स समाचार पत्र एव वेव पोर्टल में मध्यप्रदेश के सभी संभाग, जिला, तहसील, विकास खंडों, में संवाददाताओं की एंव विज्ञापनों व खबरों से सबंधित व्यक्ति संपर्क करें इन नम्बरों में 👉 9406771592/ 9425117297/ 8770297430/9165745947

Friday, May 21, 2021

नैनपुर में संक्रमण से लोगों का हाल बेहाल, लेकिन शराब ठेकेदार हो रहा मालामाल


रेवांचल टाइम्स :- लॉकडाउन के बाद बंद हुई शराब और बीयर की दुकानों की वजह से शराब मिलना मुश्किल हो गया है. शराब के शौकीनों की वजह से नैनपुर की शराब ठेकेदार और वार्ड के फुटकर व्यापारियों की चांदी हो गई है. 

शराब व्यापारी दोगुने से अधिक मूल्य पर शराब बेच रहे हैं. लॉकडाउन के बाद से शराब की लाइसेंसी दुकानों पर ताला लग गया जिसकी वजह से शराब ठेकेदार अपने मंसूबो को सफल बनाने में कामयाब हो रहे हैं. इन कि इस बेरोकटोक चल रहे व्यापार को देखकर यह प्रतीत होता है कि, आपकारी विभाग एवं पुलिस विभाग कि इन्हें मौन सहमति मिली हुई है। जिससे इनके हौसले इतने बुलंद है कि यह नगर के लगभग प्रत्येक वार्ड में धड़ल्ले से शराब का व्यापार कर रहे हैं।


संक्रमण के कारण नैनपुर नगर मे लॉकडाउन जारी है। पुलिस कड़ा पहरा होने का दावा कर रही है। केवल आवश्यक वस्तुओं और जीवन रक्षक दवाओं, सब्जियों के अतिरिक्त सभी का परिवहन बंद है। पुलिस प्रत्येक वाहन की जांच कर रही है। ऐसी परिस्थितियों में जहां एक ओर आवश्यक सामग्रियों की कमी होने से सब्जियों और अन्य सामग्री के दाम आसमान छू रहे हैं, वहीं शासन के आदेश के बाद शराब दुकान बंद रहने के बावजूद शराब ठेकेदारों की तो मानों चांदी हो गई है। 

कोई भी जरूरत की सामग्री वाला वाहन तो दूर मोटर साइकिल सवार भी बिना पुलिस की अनुमति के नैनपुर नगर में नहीं आ सकता। 

बावजूद इसके लॉकडाउन के एक माह बीतने के बाद अंग्रेजी एवं देसी शराब की  नैनपुर नगर के लगभग प्रत्येक वार्ड में कालाबाजारी और उपलब्धता बदस्तूर जारी है।


नैनपुर में अवैध रूप से लगभग प्रत्येक वार्ड में फुटकर दुकानों के माध्यम से शराब बेचने वालों की भरमार है, लेकिन शराब दुकान और परिवहन बंद होने के बावजूद शराब यहां तक पहुंच कैसे रही है। अब या तो ठेकेदार इतने होशियार हैं कि वे नैनपुर पुलिस की नाक के नीचे से आपूर्ती कर रहे हैं, या फिर यह सब नैनपुर पुलिस एवं आबकारी विभाग की शह पर हो रहा है। शराब माफिया लॉकडाउन का फायदा उठाकर डेढ़ से दोगुने दाम में शराब बेच रहे हैं। जरूरत की सामग्रियों की आपूर्ती में दिन ब दिन कमी आती जा रही है, वहीं अंग्रेजी एवं देसी शराब की इतनी आसानी से उपलब्धता लोगों में चर्चा का विषय बना हुआ है। साथ ही नैनपुर पुलिस एवं आबकारी विभाग की कार्य प्रणाली भी संदेह के घेरे में आ रही है। जानकारों की मानें तो शराब ठेकेदार ने अपनी अंग्रेजी शराब खपाने के लिए नैनपुर सहित ग्रामीण क्षेत्रों में भी अपने एजेंट बनाकर रखे हैं। महीने दो महीने में नैनपुर पुलिस एवं आबकारी विभाग एकाध एजेंट के पास से दो चार बॉटल पकड़कर कोटा पूरा कर लेती है। शेष समय शराब का परिवहन नैनपुर नगर के लगभग प्रत्येक वार्ड एवं ग्रामीण क्षेत्रों भी निर्बाध जारी रहता है।


शराब की दुकानों को खोलने के लिए कोई भी निर्देश नही जारी किए है. जिसके बाद से नैनपुर नगर में शराब ठेकेदार नगर के लगभग प्रत्येक वार्ड में फुटकर व्यापारियों के द्वारा चोरी छुपे शराब की बिक्री कर रहे है. ऐसा नगर के लगभग कई इलाकों में चोरी छुपे शराब की बिक्री की जा रही है. जिस से नैनपुर नगर का माहौल खराब हो रहा है. लोग लगभग रोज शाम में घरों से निकलकर शराब के अड्डों पर पहुंच रहे हैं और का सेवन कर रहे हैं एवं कोरोना गाइडलाइन का लगातार उल्लंघन किया जा रहा है। लेकिन प्रशासन इस ओर सुध नहीं ले रहा है। रोज शाम को शराबियों का शराब के अड्डों पर आना जाना लगा हुआ है। लेकिन ना तो प्रशासन किसी प्रकार की गश्त कर रहा है, और ना तो इन्हें रोका जा रहा है।


नैनपुर में बीते एक महीन से लॉकडाउन है। शराब दुकाने बंद हैं। फिर भी गली-गली में शराब उपलब्ध है। दो गुना दामों में शराब बेची और खरीदी जा रही है। शहर में हर ब्रांड की शराब आसानी से उपलब्ध है। नगर में  वार्ड नंबर 1,वार्ड नंबर 4, वार्ड नंबर 7, वार्ड नंबर 8, वार्ड नंबर 9,  वार्ड नंबर 10, वार्ड नंबर 14,  वार्ड नंबर 15, में खुलेआम शराब बेची व खरीदी जा रही है।


शहर के लोग सवाल उठा रहे हैं कि जब सभी जिलों की सीमााएं सील है, प्रदेश की सीमा सील है, चौक-चौराहों पर पुलिस तैनात है, उसके बाद भी लॉकडाउन में नैनपुर नगर में शराब आ कहां से रही है। शराब के शौकिन दो गुना ज्यादा कीमत में बिक रही शराब भी खरीद रहे हैं। जिन लोगों को देशी व अंग्रेजी नहीं मिल पा रही है. वे लोग नगर के कुछ इलाकों में महुवा की शराब पी रहे हैं। कुछ लोग दूसरे जिले की शराब को भी ऊंचे दामों में शहर में खपा रहे हैं।


शराब के लिए फोन से भी डील फाइनल हो रही है जिस्से घर तक डिलीवरी करा दी जाती है। वार्ड में 10-15 बोतलें रखने वाले एजेंट मौजूद हैं, जो होम डिलीवरी कर रहे हैं। 

150 का क्वार्टर 250 रुपये, 300 का हाफ 500 रुपये में मिल रहा है। 110 वाली बीयर 250 में बिक रही है।

ठेकेदार व फुटकर विक्रेता अपनी मर्जी से मनमाने दामों में शराब बेच रहे हैं। हालांकि कई बार मुख्यमंत्री हेल्पलाइन शिकायत की गई लेकिन आबकारी विभाग द्वारा हर बार केवल खानापूर्ति की गई नगर में चल रहे इस अवैध व्यापार की जानकारी नैनपुर पुलिस को भी है लेकिन किसी प्रकार की पहल व कार्रवाई आज दिन तक नहीं हुई। पुलिस की ओर से शराब बेचने वालों को टोकने वाला कोई नहीं है। 


नैनपुर रेवांचल टाइम्स से शालू अली की रिपोर्ट

No comments:

Post a Comment