ऐसा क्या हुआ की तत्कालीन मुख्यमंत्री कमलनाथ को लिखने पड़े तीन पत्र.....रेलवे से जुडी यह खबर जरूर पढ़ें - revanchal times new

revanchal times new

निष्पक्ष एवं सत्य का प्रवर्तक

Breaking

रेवांचल टाइम्स अखबार पाठकों से अनुरोध करता है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें.. ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें... साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए.. प्रकाशन हेतु ख़बरें, विज्ञप्ति मोबाइल- 9406771592 पर व्हाट्सएप्प करें

Monday, January 4, 2021

ऐसा क्या हुआ की तत्कालीन मुख्यमंत्री कमलनाथ को लिखने पड़े तीन पत्र.....रेलवे से जुडी यह खबर जरूर पढ़ें

 तत्कालीन मुख्यमंत्री कमलनाथ ने रेल मंत्री को लिखे तीन पत्र… मंडला फोर्ट, नागपुर ब्राडगेज व रेलो के पुनः संचालन की मांग…

 


रेवांचल टाईम्स - प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने अपने गृह जिले से संचालित होनेवाली नियमित रेल सेवाये, निर्माणाधीन रेल परियोजनाओ के लिये पर्याप्त बजट आवंटन व छिंदवाडा जंक्शन से होकर नयी ट्रेनों के आवागमन के संदर्भ मे केंद्रीय रेलमंत्री पीयुष गोयल को पृथक पृथक तौर पर तीन महत्वपूर्ण पत्र प्रेषित कर उन्हे वस्तुस्थिति से अवगत कराते हुये शीघ्रअतिशीघ्र कार्य पूर्ण किये जाने का आग्रह किया है। गौरतलब है कि छिंदवाडा नागपुर ब्राडगेज, छिंदवाडा नेैनपुर मंडलाफोर्ट व छिंदवाडा नागपुर विधुतीकरण जैसी महत्वपूर्ण परियोजनाये कमलनाथ के अथक प्रयासो से स्वीकृत व निर्माण के साथ कार्य पूर्णतः की ओर अग्रसर है इसके साथ ही छिंदवाडा जंक्शन से संचालित होने वाली महत्वपूर्ण रेल सेवाये भी कमलनाथ की देन है। सडक व रेल यातायात के माध्यम से छिंदवाडा जिला सहित अन्य समीपस्थ जिलो के यात्रियो को सर्वसुविधा उपलब्ध कराने मे श्री नाथ सदैव सजग व प्रयत्नशील रहे है। वर्तमान मे रेलयात्रियो को हो रही असुविधा एवं लंबित कार्यो की शीघ्र पूर्णतः को लेकर चिंतित कमलनाथ ने केंद्रीय रेलमंत्री को पत्र लिखे है।                     छिंदवाडा से चलने वाली ट्रेने पुनः प्रारंभ की जावे- पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने केंद्रीय रेलमंत्री श्री गोयल को प्रेषित अपने प्रथम पत्र मे बताया कि कोरोन काल के पूर्व छिंदवाडा जंक्शन से नियमित तौर पर प्रतिदिन छिंदवाडा से दिल्ली सराय रोहिल्ला के बीच पातालकोट एक्सप्रेस, छिंदवाडा से भोपाल होकर इंदौर तक जानेवाली पेंचव्हेली फास्ट पैसेंजर जिसे अब एक्सप्रेस ट्रेन मे अपग्रेड कर दिया गया है तथा छिंदवाडा आमला बैतूल के बीच आने जाने वाली लोकर पेंसेजर रेल सफलतापूर्वक संचालित हो रही थी । कोरोनाकाल से पूर्व यह सभी ट्रैने अपनी पूर्ण क्षमता और आर्थिक रूप से लाभकारी रही है। श्री नाथ ने पत्र के माध्यम से कहा कि मै विगत 41 वर्षो से छिंदवाडा का प्रतिनिधित्व कर रहा हॅू अब हालात बदल रहे है तथा रेल विभाग ट्रैनो का पुनः संचालन प्रारंभ कर रहा है अतः मै आपसे आग्रह करता हॅूं कि छिंदवाडा जंक्शन से चलनेवाली उपयुक्त ट्रैने भी पुनः प्रारंभ की जावे।    

         ज्ञात रहे की इस मांग के लिए भारतीय पत्रकार संघ (AIJ)के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष एवं वरिष्ठ पत्रकार ने छिंदवाड़ा के सांसद नकुल नाथ एवं मुख्यमंत्री कमलनाथ जी को मेल द्वारा एवं सोशल मीडिया में लगातार और मांग के लिए निवेदन किया कुछ महत्वपूर्ण ट्रैनो के रूट बदलने की मांग की कमलनाथ ने अपने एक ओर पत्र के माध्यम से रेलमंत्री को अवगत कराया कि दक्षिण पूर्व मध्य रेल्वे के अंतर्गत छिंदवाडा नागपुर ब्राडगेज कन्वर्सन का कार्य रेलपथ के विधुतीकरण के साथ पूर्ण हो चुका है। रेल्वे सेफटी कमीशन द्वारा सुरक्षा परीक्षण तथा गति परीक्षण का कार्य भी पूर्ण हो चुका है अतः मेरा आग्रह है कि नागपुर-बैतूल-आमला मार्ग पर चलनेवाली कुछ महत्वपूर्ण ट्रेनों को नागपुर-छिंदवाडा-परासिया-आमला और उसके बाद भोपाल-दिल्ली मार्ग पर भी डायवर्ट किया जा सके जिससे मौजूदा रूट पर बोझ कम होगा साथ ही मेरे द्वारा विगत 41 वर्षो से प्रतिनिधित्व किये जा रहे पिछडे जिले के विकास मे भी यह निर्णय अत्याधिक सहायक सिद्ध होगा।              छिंदवाडा-मंडला फोर्ट हेतु पर्याप्त निधी का आवंटन हो दिनांक 18 दिसंबर 2020 को प्रेषित अपने पत्र मे पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथजी ने रेलमंत्री को अवगत कराया कि छिंदवाडा मंडला फोर्ट पर चल रहे ब्राडगेज कन्वर्सन कार्य को काफी समय बीत चुका है तथा मेरी जानकारी के अनुसार दक्षिण पूर्व मध्य रेल्वे ने इस कार्य को पूर्ण करने के लिये 100 करोड रू. के अतिरिक्त आवंटन की मांग भी की है। श्री नाथ ने पत्र मे उल्लेख किया कि छिंदवाडा और नागपुर के साथ नैनपुर तथा मंडला और उसके बाद जबलपुर से जुडे आदिवासी जिलो के विकास मे यह परियोजना बहुत ही सफल सिद्ध होगी साथ ही यह ब्राडगेज नागपुर से छिंदवाडा व नैनपुर होकर जबलपुर जानेवाले रेल मार्ग की दूरी को काफी कम भी कर देगी। अतः मेरा आग्रह है कि इस कार्य को पूर्ण करने हेतु पर्याप्त निधी का आवंटन किया जावे साथ ही कार्य की पूर्णतः हेतु इसे गति प्रदान की जावे।

No comments:

Post a Comment