मोहारा सरपंच की मनमानी के खिलाफ बालाघाट कलेक्टर को सौंपा ज्ञापन, ग्रामीणों ने की तत्काल कार्यवाही की मांग - revanchal times new

revanchal times new

निष्पक्ष एवं सत्य का प्रवर्तक

Breaking

रेवांचल टाइम्स अखबार पाठकों से अनुरोध करता है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें.. ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें... साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए.. प्रकाशन हेतु ख़बरें, विज्ञप्ति मोबाइल- 9406771592 पर व्हाट्सएप्प करें

Thursday, November 26, 2020

मोहारा सरपंच की मनमानी के खिलाफ बालाघाट कलेक्टर को सौंपा ज्ञापन, ग्रामीणों ने की तत्काल कार्यवाही की मांग


रेवांचल टाइम्स - सोमवार 16 नवंबर को शाम 7 से 8 बजे के बीच मंढई मेले के विवाद ने अब तूल पकड़ लिया है। जहां 70 वर्षीय गोपाल देवीचरण ठाकरे की चप्पल से पिटाई करने पर मोहारा सरपंच के खिलाफ लांजी पुलिस ने मामला दर्ज कर लिया है तो वहीं अब गांव की जनता सरपंच के खिलाफ कलेक्टर का दरवाजा खटखटाने भी पंहुच गई। इस मामले में सरपंच द्वारा बतौर प्रार्थी एफआईआर लिखाने का ज्ञापन सौंपा गया तो वहीं गांव के लोगों द्वारा अब सरपंच व उसके पति के खिलाफ कार्यवाही करने हेतु कलेक्टर को ज्ञापन सौंप आए। कलेक्टर कार्यालय पंहुचे लोगों के द्वारा सरपंच के प्रति आक्रोष व्यक्त करते हुए तत्काल कार्यवाही की मांग भी की गई है।


बालाघाट कलेक्टर को सौंपे गए ज्ञापन में बताया गया कि पुरातन काल से ग्राम मोहारा में राज मंढई का कार्यक्रम होता आ रहा है जिसमें ग्राम के प्रबुद्ध पटेलों के द्वारा ग्राम के ग्रामीणों एवं दूसरे ग्रामों के लोगों को भी आमंत्रित किया जाता है, जिसमें गांव की सरपंच शकुंतला पारधी को भी आमंत्रित किया गया था लेकिन सरपंच के पति रविंद्र वल्द लक्ष्मण पारधी ने अपनी निजी रंजिष के चलते मंढई मेले के वापस होते समय अपने घर के सामने आम नागरिक को रोककर गांव के वरिष्ठ व्यक्ति गोपाल पिता देवीचरण ठाकरे जो कि वृद्ध है को अपने घर में बुलाकर जितेंद्र ठाकरे व अपने पुत्र को बुलाने भेजा जिनके साथ उक्त गोपाल ठाकरे आया जिसे शकुंतला पारधी द्वारा घर के अंदर बुलाकर जूते-चप्पल से मारपीट की गई जिस कारण गांव की जनता में भारी आक्रोष है उक्त संबंध में ग्राम के ग्रामीणजनों ने आक्रोष व्यक्त करते हुए 19 नवंबर 2020 गुरूवार को रविंद्र पारधी व शकुंतला पारधी को बुलाकर घटना की जानकारी चाही गई तथा ग्राम पंचायत कोटवार के द्वारा मुनादी भी करवाई गई और ग्राम वालिंटियर गनपत खरे को भी बुलाने भेजा गया किंतु आने से साफ इंकार कर दिया गया जिससे जनता में काफी आक्रोष है। 



रेवांचल टाइम्स बालाघाट से खेमराज बनाफरे की रिपोर्ट

No comments:

Post a Comment