रेलवे मंगल भवन की स्वच्छता और व्यवस्था पर अधिकारी है लापरवाह - revanchal times new

revanchal times new

निष्पक्ष एवं सत्य का प्रवर्तक

Breaking

रेवांचल टाइम्स अखबार पाठकों से अनुरोध करता है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें.. ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें... साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए.. प्रकाशन हेतु ख़बरें, विज्ञप्ति मोबाइल- 9406771592 पर व्हाट्सएप्प करें

Thursday, November 26, 2020

रेलवे मंगल भवन की स्वच्छता और व्यवस्था पर अधिकारी है लापरवाह





रेवांचल टाइम्स - नगर का एकमात्र रेलवे कम्युनिटी हाल जिसे रेलवे मंगल भवन के नाम से जाना चाहता है या रेलवे मंगल भवन रेलवे विभाग के द्वारा सार्वजनिक कार्यक्रम के आयोजन विवाह,जन्मदिन अन्य राजनीतिक सामाजिक कार्यक्रम को आयोजित करने निर्धारित राशि के तहत मंगल भवन को दिया जाता है। लोगों को कार्यक्रम आयोजित करने के उद्देश्य भवन को बनाया गया।

अव्यवस्थाओं से भरा पड़ा भवन --- विगत लगभग 10 वर्षों से बना रेलवे मंगल भवन जो अपनी स्वच्छता की बदहाली मैं आज तक जब से बना है तब से कभी उसमें रंगों की पुताई एवं पूरे भवन के अंदर और बाहर लगे मकड़ी के बड़े-बड़े जाले, और सभी तरफ दीवारों, दरवाजे काले काले धब्बों से से पटा पड़ा है। इसके अलावा बाथरूम,गेस्ट रूम मैं लगे नल बंद एवं टूटे पड़े हैं तथा वासबेस के पानी निकासी पाइप तक नहीं है। और भवन के चारों ओर झाड़ियां घास घूस कूड़े करकट जंगलों से भी बदतर झाड़ियां से पटा पड़ा है इन सारी व्यवस्थाओं की जानकारी रेलवे विभाग के आला उच्च अधिकारियों को भी होने के बाद इसमें सुधार करने कोई रुचि नहीं ले रहे इससे अधिकारियों की घोर लापरवाही जान पड़ती है। 

भवन दे रहा लाखों रुपए की आय उसके बदले में मिल रही अव्यवस्थाएं---रेलवे मंगल भवन किसी भी कार्यक्रम के आयोजन के लिए रेलवे कर्मचारियों एवं बाहरी लोगों को उपलब्ध कराने पर रेलवे विभाग को सालाना लगभग दस लाख रुपए से ऊपर की आय होती है। उसके बदले में लोगों को मंगल भवन में पानी साफ-सफाई रंग रोगन के बदहाली का सामना करना पड़ता है लेकिन लोगों की मजबूरी होती है कार्यक्रम को आयोजित करना अपने कार्यक्रम को आयोजित करते हैं लेकिन रेलवे अधिकारियों के कानों में साफ सफाई करने टूटे ना लो अन्य रिपेयरिंग कार्यों की व्यवस्था बनाने आंख बंद करें बैठे हैं।

आयोजक कर्ता व्यवस्था बनाने स्वयं कर रहा खर्च---- मंगल भवन की साफ सफाई नलों में पानी आना आना बालों का टूटना ऐसी अन्ना व्यवस्थाओं का सुधार करने के लिए आयोजक कर्ता स्वयं के खर्चे से अपनी व्यवस्था बनाते हैं जबकि रेलवे विभाग सारी व्यवस्थाओं बनाकर उपलब्ध कराने की एक मुश्त राशि आयोजक कर्ता से जमा कराई जाती है जानकारी अनुसार 24 नवंबर को व्यवहारिक कार्यक्रम के आयोजन में आयोजक कर्ता ने भवन के बाथरूम गेस्ट रूम मैं लगे वास देश के नालों के उपयोग का निकासी पानी के लिए पाइप लाइन को स्वयं के खर्चे से बदला या गया आखिर ऐसा क्यों । अव्यवस्थाओं के सुधार कराने की जानकारी विभागीय अधिकारियों को देने से अधिकारी एक दूसरे विभाग के ऊपर टालमटोल कर अपने पल्ला झाड़ लेते हैं आखिर आयोजक कर्ता कब तक लूटता ही रहेगा।

रेलवे में स्वास्थ्य,आईओ डब्ल्यू, वन विभाग उपलब्ध---

   नैनपुर मैं रेलवे का स्वास्थ्य, आईओ डब्ल्यू,अन्य विभाग कार्यरत है जोकि रेलवे मंगल भवन से संबंधित साफ सफाई बाथरूम गेस्ट रूम अन्य रिपेयरिंग एवं अव्यवस्थाओं के सुधार के लिए कर्मचारी उपलब्ध है जिससे रेलवे विभाग सारी अव्यवस्थाओं का सुधार करा सकते हैं उसके बाद भी रेलवे विभाग की घोर लापरवाही दिखाई दे रही है मंगल भवन अंदर चारों तरफ से बाहर साफ सफाई जंगल की बदहाली को झेल रहा है जबकि या मंगल भवन से लाखों रुपए आए अर्जित की जा रही है उसके बाद भी बद से बदतर हालत में मंगल भवन की स्थिति देखी जा सकती है।

रेलवे के उच्च अधिकारी निरीक्षण के नाम पर कान्हा उद्यान का उठा रहे लुप्त---

      रेलवे विभाग के उच्च अधिकारियों  कान्हा नेशनल पार्क घूमने के बहाने निरीक्षण के नाम पर नैनपुर आगमन होता है। उनका एकमात्र उद्देश्य नेशनल पार्क कान्हा घूमने का होता है रेलवे मंगल भवन से जुड़ी सारिया व्यवस्थाओं की जानकारी रेलवे के आला अधिकारियों को भी है परंतु आज तक किसी प्रकार की कोई भी सुधार करने रुचि नहीं दिखाई यहां तक की डीआरएम जनरल मैनेजर तक को इस बात की जानकारी से अवगत है परंतु चोर चोर मौसेरे भाई की कहावत सार्थक देखी जा रही है।

इनका कहना है

        रेलवे मंगल भवन में 24 नवंबर एवं 25 नवंबर को मेरी पुत्री का विवाह कार्यक्रम आयोजित हो रहा है जिसमें मेरे द्वारा स्वयं के खर्चे से आयोजन के स्थान पर बड़े-बड़े खरपतवार कांटे वाले पौधे,घास अन्य कचरा साफ कराया गया। पोर्न बाथरूम गेस्ट रूम निकासी पाइप ना होने से खरीद कर लगवाया गया। ऐसी मंगल भवन की अव्यवस्थाओं को सुधारा जाए।

रिटायर्ड कैप्टन प्रकाश ठाकुर नैनपुर

No comments:

Post a Comment