कहीं की रॉयल्टी और कहीं की रेत बेलगाम हुए रेत माफिया - revanchal times new

revanchal times new

निष्पक्ष एवं सत्य का प्रवर्तक

Breaking

रेवांचल टाइम्स अखबार पाठकों से अनुरोध करता है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें.. ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें... साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए.. प्रकाशन हेतु ख़बरें, विज्ञप्ति मोबाइल- 9406771592 पर व्हाट्सएप्प करें

Monday, November 30, 2020

कहीं की रॉयल्टी और कहीं की रेत बेलगाम हुए रेत माफिया




रेवांचल टाइम्स डिंडोरी जिला मुख्यालय में बेलगाम हो रेत माफिया एक तरफ राज्य सरकार भ्रष्टाचार पर अंकुश लगाने तरह-तरह के प्रलोभन दे रही है तो दूसरी ओर जिला मुख्यालय में रेत माफियाओं की मनमानी से करोड़ों के राजस्व का नुकसान सालाना हो रहा है और नर्मदा नदी सहित अन्य सहायक नदियों से बड़ी तादाद में रेत की अवैध निकासी की जा रही है व उनके स्वरूप से छेड़छाड़ की जा रही है जिसके चलते नर्मदा सहित अन्य सहायक नदियों के अस्तित्व पर संकट आ खड़ा है बता दें कि जिले में रेत के अवैध खनन एवं खनन एवं परिवहन को लेकर बात करके विभाग की तरफ देखा जाए तो उदासीनता ही नजर आती है जिससे रेत माफियाओं के हौसले दिन-ब-दिन बुलंद होते नजर आ रहे हैं और वहां रोज ब रोज इसके लिए नए तरीके इजाद कर प्रशासनिक महकमे को लगातार चुनौती दे रहे हैं।


कहीं की रियल्टी कहीं की रेत बता दे कि इस इस समय जिले में रॉयल्टी के नाम पर बड़ा खेल खेला जा रहा है जिसमें एक मात्र ठेकेदार की भूमिका को नजरअंदाज नहीं किया जा सकता दरअसल ठेकेदार लगातार भारी मशीनों का प्रयोग कर दिवारी.1 से रेत की निकासी कर रहा है। और रॉयल्टी अंधियारखोर डंप स्थल की दे रहा है हाल ही देखा जाए तो सरासर विभाग से भ्रष्टाचार किया जा रहा है जिससे विभाग को करोड़ों रुपए की क्षति पहुंचती है पवित्र नर्मदा से निकाली जा रही रेत दिवारी रेत खदान की रॉयल्टी इस्तेमाल किए किया जा रहा है जिस पर अब तलक कोई कार्यवाही देखने को नहीं मिली


वाहनों की हो नियमित जांच. यदि रेत कारोबारियों की मनमानी पर अंकुश लगाना है और राजस्व मैं अतिरिक्त इजाफा करना है तो खनिज पुलिस और राजस्व विभाग को संयुक्त रूप से खनिज वाहनों की जांच करनी चाहिए क्योंकि कुछ एक रेत कारोबारी ऐसे भी हैं जो ठेकेदार पर राजनीतिक रसूख और दबाव बना आधी रॉयल्टी जमा कर रेत की पूरी रॉयल्टी वसूल रहे होते है? इसके अलावा ऐसी बहुत सी गाड़ियां भी खनिज परिवहन में लगी हुई है जिनका खनिज विभाग में कोई पंजीयन नहीं है फिर भी कमर्शियल ट्रैक्टर के स्थान पर कृषि कार्य में लगे ट्रैक्टरों को भी नजरअंदाज नहीं किया जा सकता

मुख्यालय में देर रात पहुंच रही नर्मदा की रेत कुछ रेत कारोबारी तो ऐसे भी हैं जो लोग लगातार पवित्र नर्मदा से रेत की अवैध निकासी कर रहे हैं और बेहद आसानी से देर रात 2:00 बजे से प्रातः 6:00 बजे के बीच मुख्यालय तक रेत पहुंचाने का कार्य कर रहे हैं लेकिन मजे की बात यह है कि इन बेखौफ रेत माफियाओं पर किसी की लगाम नहीं नहीं है क्यों .. यहां तो जांच का विषय है


इनका कहना है

मामला बेहद गंभीर हैं जो कि आप के माध्यम से संज्ञान में आया है निसंदेह जांच उपरांत न्याय उचित कार्यवाही की जाएगी

हितेश बिसेन खनिज निरीक्षक


रेवांचल टाइम्स से प्रमोद पड़वार की खास रिपोर्ट सच के साथ

No comments:

Post a Comment