भ्रष्ट सरपँच सचिव के काले कारनामे से ग्रामीण परेशान नही हो रही कोई कार्यवाही ग्रामीण परेशान - revanchal times new

revanchal times new

निष्पक्ष एवं सत्य का प्रवर्तक

Breaking

रेवांचल टाइम्स अखबार पाठकों से अनुरोध करता है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें.. ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें... साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए.. प्रकाशन हेतु ख़बरें, विज्ञप्ति मोबाइल- 9406771592 पर व्हाट्सएप्प करें

Monday, October 26, 2020

भ्रष्ट सरपँच सचिव के काले कारनामे से ग्रामीण परेशान नही हो रही कोई कार्यवाही ग्रामीण परेशान

 


रेवांचल टाइम्स - देश के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने जनता कि सुविधाओं और सहुलियत के लिये चाहे जितनी भी योजना बनाये पर ग्राम का विकास करने वाले जिम्मेदार भ्रष्ट तंत्र के चलते ये कभी मुमकिन ही नहीं हो सकता ।  शासन-प्रशासन भ्रष्टाचार को.खत्म  करने चाहे जितना भी पारदर्शी सिस्टम करले पर निचले स्तर पर बैठे अधिकारी कर्मचारी सब को धत्ता बताते हुऐ शासन की योजनाओं का पलीता लगाने मे कोई कसर नहीं छोड रहे हैं और योजनाओं के नाम पर वसुली या फ़ाइल खर्ज के नाम पर पैसा लेना इनका पेशा हो गया है ऐंसे ही सरपंच सचिव से सजी-धजी मंडला जिले के जनपद की पंचायत मोहगांव की ग्राम पंचायत बिलगड़ा के है ,जंहा सरपँच, सचिव, रोजगार सहायक के द्वारा शासकीय पैसे की होली खेलने में कोई कसर नही छोड़ी है और किस कदर खेली जा रही है यह बात ग्रामीण और मौके में निर्माणाधीन निर्माण कार्य अपनी गुणवत्ता चीख चीख के बतला रहे है ग्राम पंचायत में ऐसा कोई काम नही जिसमे भ्रष्टाचार न हुआ हो पर सरपंच सचिव से ऊपर वाले जिम्मेदार अधिकारी कर्मचारीयो पर गाँधी जी गुलाबी कलर की पट्टी बंधी हुए है जो ग्रामीणों की शिकायतों के बात भी कोई कार्यवाही नही करते और जाँच के नाम पर केवल खाना पूर्ति कर कागज़ो पेट भर अपना पल्ला झाड़ते रहते है क्योंकि कही न कही सरकार से जो ग्रामीणों की मूलभूत सुविधाओं के लिए निर्माण कार्य के लिए राशि आती है उनमें इनका भी तो पद वार प्रतिशत बना हुआ तो सही बात है न जिसका नमक खाइए उनका तो बजाना ही पड़ेगी और उन अधिकारी कर्मचारियों को अच्छे से पता है किसी का कुछ नही होना केवल जॉच होनी है तो वो भी करेंगे कौन वही न जिनको पहले से ही पता की किस निर्माण कार्य मे कितना कमीशन मिला है सरकार लाख चाह ले पर निचले स्तर में बैठे उनके जनप्रतिनिधि और सरकारी नुमाइंदे कभी होने नही देंगे

           मंडला जिले के मोहगांव जनपद की पंचायत बिलगड़ा माल और जर के ग्रामीणों ने बताया की सी सी रोड, प्रधानमंत्री आवास भवन,  श्मशानघाट ,शौचालय अधुरे पड़े हैं और राशि फर्जी बिलों के माध्यम से निकाल कर राशि का आहरण कर गबन कर लिया गया है , ग्रामीणों ने बताया कि इस पंचायत मे पदस्थ मेट और अन्य को सप्लायर बनाकर शौचालय एवं विभिन्न योजनाओं की राशि का आहरण सचिव द्वारा किया जा रहा है यंहा तक कि सरपंच के द्वारा मेंबरों का मानदेय भी नही दिया जा रहा है फर्जी लगाकर बिलो भुगतान कर निकाला जाता है जो नियम के विपरीत है। वही प्रधानमंत्री आवास योजना का लाभ दिलाने के लिए लोगों से 10 से 15 हजार तक की राशि इनके इन गरीबो से वसुली गई है और आज तक उन हितग्राहियों को आवास मिला, पर आधे अधुरे पड़े है और जिनसे पैसे पूरे मिलगये उनकी पूरी क़िस्त भी दे दी गई है और जिनको आवास की आवश्कयता नही थी उनके आवास बन चुके और जो आज भी झोपड़ी में पन्नी लगा कर राह रहे है बे कतार में है। पता नही उनका न आयेगा की नही सरकार लाख चाह ले पर होना वही है जो ग्राम पंचायत के सरपंच सचिव चाहेंगे बस इसी तरह संबंल योजना के तहत सचिव रोजगार सहायक के द्वारा राशि तो निकाली गई किन्तु पीडित परिवार को इसका लाभ नही मिला, मनरेगा के तहत मजदूरों को मजदूरी तक नहीं दी गई है, ग्रामीणों द्वारा जनपद से लेकर जिला स्तर तक शिकायत की गई परन्तु आज तक कुछ नहीं हुआ। और शायद होगा भी नही क्योंकि। सब को फ़ाइल खर्ज के नाम पर शासकीय पैसों का बन्दरबाँट किया जाता है वही सरपँच सचिव के द्वारा दिया जाता है और एक बात वरिष्ठ अधिकारियों और जनप्रतिनिधियों को क्यो नही समझ आती की सरपंच सचिव से ऊपर के उपयंत्री, पंचयात समन्वयक पंचायत इंस्पेक्टर मुख्यकार्यपालन अधिकारी क्या इनको नही पता होता है कि किस किस ग्राम पंचायत में क्या हो रहा है क्या होना था और क्या हुआ है या फिर कहे कि ये सब भी फ़ाइल खर्ज के बोझ के नीचे दब के बैठे हुए है। और सरकार ने सभी कार्यों को ऑनलाईन कर दिया है पर जमीन में कितना बना है ये आखिर देखेगा कौन ।

       ग्राम के ही निवासी प्रहलाद चौधरी ने बताया कि शासन से मुझे प्रधानमंत्री आवास योजना से आवास मिला था पर सरपँच ने मेरे खाते में राशि डालने को लेकर 10 हजार रुपये की माग की पैसे न देने पर मुझे बहुत परेशान किया गया और राशि नही दी गई जब मैने कहा कि में दे दूँगा और जेवर गिरवी रख के और  कुछ पैसा बाकी रहने पर सरपँच ने मेरा मोबाईल छुड़ा लिया जब मैने उसको पूरा दस हजार दिया पैसा तब जाकर पहली किस्त डाली और मेरा घर बनना चालू हुआ पर मेरा घर आज भी अधूरा है लेंटर की क़िस्त नही आई है रोज पंचायत और सरपँच के चक्कर काट रहा हूँ मै ग्राम पंचायत से बहुत परेशान हो चुका है शासन की योजनाओं में भी हम जैसे गरीबो को पैसा देना पड़ता है जब जाके थोड़ा बहुत योजनाओं का लाभ मिल पाता है नही तो चक्कर काटते रहो कोई सुनने वाला नही है।


           इनका कहना है

       आपके माध्यम से जानकारी मिल रही है और पूर्व में भी ग्रामीणों की शिकायत प्राप्त हुई है जांच टीम बनकर जांच कराई जायेगी और दोषी पाए जाने पर दोषियों के ख़िलाफ़ वैधानिक कार्यवाही की जायेंगी।

                      श्री कुशवाहा जी

             मुख्य कार्यपालन अधिकारी 

               जनपद पंचायत मोहगांव


           वही ग्राम पंचायत बिलगड़ा के पंच ने सरपंच सचिव रोजगार सहायक के ऊपर गंभीर आरोप लगाए है एक ही काम को तीन बार तक किये और फर्जी बिल और बिना GST के बिल लगा कर अपने चहेतों को फायदा पहुचाया है सरंपच अपनी मनमानी से बाज नही आ रहा और कहता है कि जहाँ लगे शिकायत करो मेरे कुछ कोई नही कर सकता क्योंकि मेरी ऊपर तक पहुँच मेने अपने पिछले कार्यकाल से लेकर अभी तक ऐसी बहुत जाँच देखी है और करवाई है कोई में अकेला ही थोड़ी न खाता हूं सब को फ़ाइल खर्ज देना पड़ता है जब जाके पंचायत को काम मिलता है जाओ जहाँ लगे शिकायतें करो।

         ग्राम पंचायत बिलगड़ा में ऐसा कोई भी निर्माण कार्य नही हुआ है जिसमे भ्रष्टाचार न हुआ हो जिम्मेदार ने खुलके भ्रष्टाचार न हुआ हो अगर सूक्ष्मता से जांच की जाए तो लाखों का ग्राम पंचायत में गबन निकलेगा अनेक बार शिकायते की पर कोई जांच नही हुई शायद न होगी क्योंकि इस जिले में कोई सुनने वाला नही है 

                         केशव प्रसाद दुबे

                        पंच ग्राम पंचायत    बिलगड़ा

                   जनपद पंचायत मोहगांव

        वही सरपंच का कहना की मेरे ऊपर जो आरोप लग रहे है वो सब निराधार है ग्रामीणों का तो काम है आरोप लगाना और अगर जांच चाहते है तो करवाले सब सामने आ जायेगा          


                           सरपंच ग्राम पंचायत    

                      बिलगड़ा जनपद पंचायत मोहगांव

No comments:

Post a Comment